Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Friday, June 14, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में डॉक्टर से मारपीट करने वाले आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद डॉक्टरों की राज्यव्यापी हड़ताल खत्म, ओपीडी सेवाएं बहाल

रांची : आईएमए और झासा के आह्वान पर झारखंड के 15 हजार से ज्यादा सरकारी और गैरसरकारी डॉक्टर्स शुक्रवार सुबह छह बजे से हड़ताल (अनिश्चितकालीन कार्य बहिष्कार) पर चले गये थे लेकिन मारपीट के आरोपी की गिरफ्तारी की सूचना के बाद हड़ताल समाप्त कर दिया गया।

जानकारी के अनुसार एमजीएम में आरोपियों की गिरफ्तारी की सूचना मिलने के बाद हड़ताल वापस ले ली गयी है। सुबह छह बजे से ही मेडिकल सेवाएं बंद थी। केवल इमरजेंसी सेवाएं ही खुली थी लेकिन अब फिर से ओपीडी सेवाएं शुरू हो गयी है। आईएमए सचिव प्रदीप सिंह ने हड़ताल खत्म करने घोषणा की है।

उल्लेखनीय है कि 19 सितंबर को एमजीएम जमशेदपुर के शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. कमलेश उरांव के साथ मारपीट हुई थी। आरोप है कि पांच साल की बच्ची की मौत से आक्रोशित परिजनों ने डॉक्टर के कमरे में घुसकर हमला कर दिया था। इस दौरान डॉक्टर गंभीर रूप से घायल हो गये थे। घटना का वीडियो सोशल मीडिया में वायरल हो रहा था।

इसके विरोध में एमजीएम सहित अन्य अस्पतालों के चिकित्सकों ने विरोध प्रदर्शन किया था। एमजीएम के ओपीडी के मेन गेट को बंद कर धरना दिया गया था। डॉक्टर सुबह नौ से लेकर दोपहर 12:30 बजे तक हड़ताल पर रहे थे। इस दौरान मारपीट करने वालों को गिरफ्तार करने की मांग की गयी थी। अस्पताल परिसर में पुलिस पिकेट बनाने और डॉक्टरों की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करने की मांग की गयी थी। मारपीट के मुख्य आरोपित संतोष कुमार और रवि कुमार को साकची पुलिस ने देवनगर से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने नाबालिग समेत 10 लोगों को अब तक हिरासत में लिया है।

Jharkhand doctors strike ends