Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Sunday, April 21, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू के लाल शहीद सब-इंस्पेक्टर अमित तिवारी पंचतत्व में विलीन

पलामू : पश्चिमी सिंहभूम जिले में माओवादी हमले में शहीद हुए झारखंड जगुआर के सब-इंस्पेक्टर अमित कुमार तिवारी पंचतत्व में विलीन हो गये। उनके पैतृक गांव पलामू के तोलरा में बुधवार सुबह राजकीय सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान पलामू के सांसद विष्णुदयाल राम, आईजी राजकुमार लकड़ा, एसपी रिष्मा रमेशन, एएसपी ऋषभ गर्ग, एसडीपीओ सुरजीत कुमार समेत हजारों की संख्या में लोग मौजूद रहे। सभी ने अमित के पार्थिव शरीर पर श्रद्धांजलि अर्पित की। पलामू पुलिस के जवानों ने भी शहीद के सम्मान में दो राउंड फायरिंग की। पिता देवेन्द्र कुमार तिवारी ने शहीद अमित को मुखाग्नि दी।

इससे पहले अमित कुमार का पार्थिव शरीर मंगलवार देर रात करीब दो बजे तोलरा गांव स्थित उनके घर पहुंचा था। शहीद के अंतिम दर्शन के लिए रात से ही काफी संख्या में लोगों की भीड़ उमड़ने लगी थी। पार्थिव शरीर घर पर आते ही परिजन रोने लगे। वहां मौजूद सभी की आंखें नम हो गयीं। यहां तक कि पार्थिव शरीर के साथ आये पुलिस पदाधिकारी और जवान भी काफी भावुक हो गये।

चाईबासा के टोंटो थाना क्षेत्र के तुम्बाहाका जंगल में सोमवार की देर शाम सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई थी। इस मुठभेड़ में झारखंड जगुआर के 2012 बैच के सब इंस्पेक्टर अमित तिवारी और हवलदार गौतम कुमार बलिदान हो गये। सब इंस्पेक्टर अमित तिवारी पलामू के रेहला थाना क्षेत्र के तोलरा गांव निवासी थे। गौतम बिहार के आरा जिला के रहने वाले थे।

दोनों जवानों का पार्थिव शरीर 15 अगस्त को रांची लाया गया था। रांची के रिम्स में दोनों शवों का पोस्टमार्टम कराया गया। फिर झारखंड जगुआर कैंप में दोनों जवानों को श्रद्धांजलि अर्पित की गयी। यहां राज्यपाल सीपी राधाकृष्णन और मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन समेत डीजीपी व अन्य अधिकारियों ने दोनों जवानों श्रद्धा सुमन अर्पित किया। श्रद्धांजलि के बाद दोनों के पार्थिव शरीर को उनके पैतृक गांव भेजा गया।

घटना के तीन दिन पहले ही अमित की पत्नी ने एक बेटे को जन्म दिया था। शहीद अमित बेटे से मिल भी नहीं पाये। उन्होंने केवल मोबाइल में ही बेटे की तस्वीर देखी थी। अमित कुमार तिवारी के पिता देवेंद्र तिवारी पेशे से किसान हैं। अमित के चाचा निरंजन कुमार तिवारी पुलिस में इंस्पेक्टर हैं। वे झारखंड में ही तैनात हैं।

बेकार नहीं जायेगी शहादत : सांसद

अमित कुमार तिवारी के अंतिम संस्कार में पहुंचे पलामू के सांसद विष्णु दयाल राम ने कहा कि पलामू के धरती के लाल अमित कुमार तिवारी की शहादत कभी बेकार नहीं जायेगी। उन्होंने कहा कि पुलिस और सेना की सेवा में शहादत गर्व की बात है लेकिन इसके लिए शहीद के परिजनों को जो कीमत चुकानी पड़ती है, उसका कोई मोल नहीं हो सकता। फिर भी इस संकट की घड़ी में वे सरकार की ओर से परिजनों के साथ हैं।

Amit Kumar Tiwari SI Palamu