Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Friday, April 19, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडपलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: 10 लाख के इनामी JJMP जोनल कमांडर मनोहर और एरिया कमांडर दीपक ने किया सरेंडर

Latehar JJMP Militants Surrendered

लातेहार : जिले के बरवाडीह प्रखंड मुख्यालय निवासी भाजपा के कद्दावर नेता जयवर्धन सिंह हत्याकांड में शामिल उग्रवादी संगठन झारखंड जन मुक्ति परिषद (जेजेएमपी) के जोनल कमांडर मनोहर परहिया उर्फ ​​विमलेश परहिया और एरिया कमांडर दीपक भुइयां उर्फ ​​कुंदन जी ने शुक्रवार को लातेहार पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। जोनल कमांडर मनोहर पर सरकार ने 10 लाख रुपये का इनाम भी घोषित किया था।

Latehar JJMP Militants Surrendered
Latehar JJMP Militants Surrendered

मनोहर लातेहार जिले के छिपादोहर का रहने वाला है जबकि दीपक पलामू के पांकी का रहने वाला है। आत्मसमर्पण करने वाले उग्रवादियों को पलामू आईजी राजकुमार लकड़ा, सीआरपीएफ डीआइजी पंकज कुमार, लातेहार एसपी अंजनी अंजन, सीआरपीएफ कमांडेंट वेद प्रकाश त्रिपाठी, रविशंकर मिश्रा, अभिनव आनन्द समेत अन्य अधिकारियों ने स्वागत किया।

Latehar JJMP Militants Surrendered
Latehar JJMP Militants Surrendered

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस संबंध में आईजी राजकुमार लकड़ा ने बताया कि सरकार की आत्मसमर्पण नीति से प्रभावित होकर दोनों उग्रवादियों ने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण किया है। उन्होंने बताया कि दोनों उग्रवादियों ने पुलिस और सीआरपीएफ अधिकारियों से संपर्क कर आत्मसमर्पण नीति के बारे में जानकारी ली। दोनों को सरकार के नई दिशा कार्यक्रम के माध्यम से आत्मसमर्पण करने वाले नक्सलियों को मिलने वाली सुविधाओं के बारे में जानकारी दी गयी। इसके बाद शुक्रवार को दोनों ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया। लातेहार पुलिस के लिए यह एक बड़ी उपलब्धी है। आईजी ने इस अभियान में शामिल पूरी टीम को बधाई दी।

Latehar JJMP Militants Surrendered
Latehar JJMP Militants Surrendered

एसपी अंजनी अंजन ने कहा कि आत्मसमर्पण नीति का लाभ उठाकर मुख्यधारा में लौटने वाले नक्सलियों को पुलिस हरसंभव मदद करेगी। एसपी ने बताया कि आत्मसमर्पण करने वाला मनोहर उग्रवादी संगठन में जोनल कमांडर के पद पर कार्यरत था। इस पर जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों में नक्सली हिंसा के 13 से अधिक मामले दर्ज किये गये थे। उन्होंने बताया कि इस पर सरकार की ओर से 10 लाख रुपये का इनाम भी घोषित किया गया था। पुनर्वास नीति के तहत आत्मसमर्पण करने वाले दोनों उग्रवादियों को सभी प्रकार की सुविधाएं मुहैया करायी जायेंगी।

सरेंडर करने वाला मनोहर परहिया बीजेपी नेता जयवर्धन सिंह की हत्या में भी शामिल रहा है। 28 सितंबर 2021 को लातेहार के सलैया जंगल में सुरक्षा बलों के साथ जेजेएमपी उग्रवादियों की मुठभेड़ हुई थी। इसमें बीएसएफ के डिप्टी कमांडेंट राजेश कुमार शहीद हो गये थे। इस मुठभेड़ में मनोहर भी शामिल था।

मनोहर परहिया वर्ष 2004 में सीपीआई माओवादी गिरोह में शामिल हो गया था। वह तब 13-14 साल का था। मनोहर वहां करीब 6 साल यानी 2010 तक रहा। इसके बाद वह 2011 में सीपीआई माओवादी छोड़कर जेजेएमपी संगठन में शामिल हो गया। शामिल होने के दो साल बाद उसे सब जोनल कमांडर बना दिया गया। 2018 में उपेन्द्र सिंह खरवार के सरेंडर करने के बाद उसे जोनल कमांडर बनाया गया था। जेजेएमपी के एरिया कमांडर दीपक कुमार भुइयां मनोहर परहिया के कहने पर 2018 में उग्रवादी संगठन में शामिल हुआ था।

सरेंडर करने के बाद मनोहर परहिया ने बताया कि वह अपने रास्ते से भटक गया था। अब सरकार की आत्मसमर्पण नीति का फायदा उठाकर मुख्यधारा में लौट आया। कहा कि वह मुख्यधारा में लौटकर सामाजिक कार्य करेगा।

दीपक भुइयां ने कहा कि वह मनोहर परहिया के कहने पर 2018 में शामिल हुआ था। अब वह मुख्यधारा में लौटकर अपने परिवार और समाज के साथ रहेगा। मनोहर के दो बेटे और एक बेटी है। जबकि दीपक के दो बेटे हैं। आत्मसमर्पण के दौरान दोनों उग्रवादियों के परिवार, माता-पिता और रिश्तेदार मौजूद थे।

Latehar JJMP Militants Surrendered