Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Thursday, June 13, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडललातेहार

PTR में बाघ की मौजूदगी की पुष्टि, स्कैट सैंपल की जांच से हुआ खुलासा

Palamu Tiger Reserve News

रांची : नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी ने बाघों की गणना का डेटा सार्वजनिक कर दिया है। इस जारी आंकड़ों के मुताबिक, झारखंड के पलामू टाइगर रिजर्व में एक बाघ की पुष्टि हुई है। देशभर में बाघों की आखिरी गिनती नवंबर 2022 से 22 मार्च 2023 के बीच की गयी थी। तब पलामू टाइगर रिजर्व में भी बाघों की गिनती की गयी थी। साल 2018 में जब बाघों की गिनती की गयी तो बताया गया कि पलामू टाइगर रिजर्व में एक भी बाघ नहीं है। अब एक बाघ होने की पुष्टि हो गयी है। स्केट रिपोर्ट के आधार पर बाघ की पुष्टि हुई है।

जब देश में बाघों की गिनती हो रही थी, तब झारखंड में गिनती की गयी। इस दौरान पलामू टाइगर रिजर्व की ओर से 5000 तस्वीरों का अध्ययन किया गया। गिनती के दौरान 14 स्कैट भेजे गये थे। 14 राज्यों के सैंपल में पीटीआर में 10 तेंदुए और दो बाघों की पुष्टि हुई थी। दो सैंपल खराब हो गये थे। दोनों स्कैट का डीएनए टेस्ट कराया गया। इसमें दोनों स्कैट एक ही बाघ के पाये गये।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इस संबंध में पलामू टाइगर रिजर्व के निदेशक कुमार आशुतोष ने कहा कि ये 22 मार्च 2023 तक की सैंपल रिपोर्ट हैं । इसके बाद भी कई सैंपल की रिपोर्ट भेजी गयी है। यह खुशी की बात है कि यह आंकड़ा शून्य से एक हो गया है।

जानकारी के मुताबिक, झारखंड के पलामू टाइगर रिजर्व को नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया के सेंट्रल ईस्टर्न घाट कॉरिडोर का हिस्सा माना जाता है। नेशनल टाइगर कंजर्वेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया के आंकड़ों के मुताबिक देशभर में बाघों की संख्या 3682 है। झारखंड में सिर्फ एक बाघ बताया गया है। इस कॉरिडोर में आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, छत्तीसगढ़, झारखंड, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, ओडिशा और राजस्थान शामिल हैं। यहां बाघों की संख्या 1439 है।

झारखंड का पलामू टाइगर रिजर्व 1,129 वर्ग किमी में फैला हुआ है। इसका गठन 1974 में प्रोजेक्ट टाइगर के तहत किया गया था। 1972 में 22 बाघ रिपोर्ट किये गये थे। 1995 में सर्वाधिक 71 बाघ थे। इसके बाद बाघों की संख्या लगातार घटती गयी। 1997 में 44, 2002 में 34, 2010 में 10 और 2014 में तीन बाघ रिपोर्ट किये गये।

Palamu Tiger Reserve News