Breaking :
||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश||लातेहार: बालूमाथ में अज्ञात वाहन की चपेट में आने से एक बाइक सवार की मौत, दो की हालत गंभीर||लातेहार: माओवादियों की बड़ी साजिश नाकाम, बरवाडीह के जंगल से आठ आईईडी बम बरामद||गुमला में लूटपाट करने आये चार अपराधी हथियार के साथ गिरफ्तार||रांची में वाहन चेकिंग के दौरान भारी मात्रा में कैश बरामद||लोहरदगा में धारदार हथियार से गला रेतकर महिला की हत्या
Thursday, April 18, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

TSPC के जोनल कमांडर ने किया बड़ा खुलासा, झारखंड में हिंसा फैलाने के लिए खरीद रहा था विदेशी हथियार

रांची : राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) की जांच में पता चला है कि टीएसपीसी उग्रवादी भीखन गंझू झारखंड में हिंसा फैलाने के लिए विदेशी हथियार और गोला-बारूद खरीद रहा था। नागालैंड आर्म्स डील मामले में एनआईए ने केस नंबर RC-05/2019 दर्ज किया था। इस मामले में एनआईए ने नौ आरोपियों को गिरफ्तार किया था।

गिरफ्तार आरोपियों में चतरा जिले का रहने वाला भीखन भी शामिल है। इस मामले में एनआईए ने आरोपी भीखन गंझू के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया है। एनआईए की जांच में पता चला है कि भीखन गंझू टीपीसी का जोनल कमांडर है। वह कोयला ट्रांसपोर्टरों और ठेकेदारों को धमकी देकर लेवी वसूलता है। जांच में पता चला कि भीखन गंझू झारखंड में टीपीसी की पकड़ मजबूत करने और आतंक व हिंसा फैलाने के लिए हथियार और गोला-बारूद खरीद रहा था।

भीखन गंझू ने आरा के शाहपुर निवासी संतोष कुमार से हथियार खरीद के लिए मध्यस्थता की थी। हथियारों की डील के बाद पैसे का भुगतान पटना के चंद्रविजय प्रताप उर्फ सुशील को किया जाता था। एनआईए की पिछली चार्जशीट में इस बात का जिक्र था कि बांग्लादेश और म्यांमार के रास्ते बिहार और झारखंड में टीपीसी उग्रवादियों तक हथियारों का जखीरा पहुंचाया गया था। नागालैंड के एन सांगथम को एनआईए ने हथियार तस्करी गिरोह का मास्टरमाइंड माना है। रांची के दो बैंकों में खाता खोलकर हवाला के जरिये भी पैसे दिये गये थे।

7 फरवरी 2019 को बिहार के पूर्णिया में पुलिस ने एक एसयूवी गाड़ी जब्त की थी। पुलिस ने सूरज प्रसाद, वीरेंग्नो काहोरंगम, क्लेरशन काबो को भी गिरफ्तार किया था। जांच के दौरान पुलिस को दो ग्रेनेड लॉन्चर, एक एके 47 राइफल और 5.56 मिमी गोलियों के 1800 राउंड मिले थे। गिरफ्तार आरोपियों की निशानदेही पर अन्य आरोपियों को रांची के अरगोड़ा और लातेहार के नेतरहाट से गिरफ्तार किया गया था। बाद में हथियार तस्करों के टीपीएससी लिंक का खुलासा हुआ था।

Jharkhand TSPC Militants News