Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Sunday, June 16, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: प्राचीन शिव मंदिर में चोरी, भगवान का मुकुट और लड्डू गोपाल की अष्टधातु की मूर्ति गायब

पलामू : जिला मुख्यालय मेदिनीनगर के शिवाला घाट स्थित प्राचीन शिव मंदिर में चोरी हो गयी है। अष्टधातु से बनी लड्डू गोपाल की मूर्ति और भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी जी का मुकुट और कान का हिस्सा चोरी हो गया है। अष्टधातु की मूर्ति लाखों की बतायी जा रही है। जबकि मुकुट चांदी का था। सूचना मिलने के बाद शहर थाना प्रभारी इंस्पेक्टर अभय कुमार सिन्हा मौके पर पहुंचे और कई स्तरों पर जांच की। सीसीटीवी कैमरे को भी खंगाला गया। इसमें एक युवक चोरी करता नजर आ रहा है। पुलिस युवक की पहचान में जुट गयी है।

इधर इस घटना के बाद से मंदिर ट्रस्ट और स्थानीय लोगों में भारी आक्रोश देखा जा रहा है। लोगों ने अविलंब चोरी में शामिल युवक की गिरफ्तारी की मांग की है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मंदिर के पुजारी सुनील चौबे एवं देखरेख करने वाले गणेश गिरी ने संयुक्त रूप से बताया कि मंगलवार की अहले सुबह जब मंदिर का पट खोला तो देखा कि चोरी हो गयी है। लड्डू गोपाल की मूर्ति और भगवान विष्णु और लक्ष्मी जी का मुकुट गायब है। इसके बाद इसकी जानकारी पुलिस को दी गयी। उन्होंने बताया कि अष्टधातु की मूर्ति की कीमत लगाना मुश्किल है। उन्होंने बताया कि मंदिर की स्थापना 1867 में हुई थी और करीब डेढ़ सौ साल से लड्डू गोपाल की मूर्ति मंदिर में थी।

जानकारी मिली है कि कोयल नदी किनारे की ओर से शिव मंदिर में आने जाने के लिए एक छोटा गेट बना हुआ है। इस गेट में लगे ताले को तोड़कर चोर अंदर घुसा और चोरी की घटना को अंजाम दिया। चोरी करते समय चोर की करतूत सीसीटीवी कैमरे में कैद हुई है। उसने अपने चेहरे को रुमाल से बांध रखा है, जबकि जूता पहन कर घुसा नजर आ रहा है। पहले उसने लड्डू गोपाल की अष्टधातु की मूर्ति गायब की। उसके बाद एक-एक करके भगवान विष्णु और लक्ष्मी जी का मुकुट गायब किया।