Breaking :
||पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की जमानत याचिका पर कल होगी सुनवाई||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, शादी समारोह से लौट रही कार पेड़ से टकरायी, पति की मौत, पत्नी और पोते की हालत नाजुक||लातेहार: सिरफिरे युवक ने दो महिलाओं समेत पिता को कुल्हाड़ी से काट डाला, गिरफ्तार||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक
Tuesday, April 23, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड: प्रमाण पत्र सत्यापन नहीं कराने वाले सहायक अध्यापक होंगे कार्यमुक्त

रांची : राज्य सरकार ने ऐसे सहायक शिक्षकों को कार्यमुक्त करने की तैयारी कर ली है जो अपने प्रमाणपत्रों के सत्यापन में सहयोग नहीं कर रहे हैं। झारखंड शिक्षा परियोजना परिषद, झारखंड ने भी इस संबंध में सूचना जारी की है।

परिषद की राज्य परियोजना निदेशक किरण कुमारी पासी ने कहा है कि वर्तमान में समग्र शिक्षा के तहत प्रदेश में कई सहायक अध्यापक कार्यरत हैं। सहायक अध्यापक सेवा शर्त नियमावली 2021 के आलोक में इनके शैक्षणिक, प्रशिक्षण एवं शिक्षक पात्रता परीक्षा प्रमाण पत्रों के सत्यापन का कार्य अभी भी जारी है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

शिक्षकों को अपने जिले के जिला परियोजना कार्यालय से संपर्क कर 5 दिसंबर तक अपने सभी प्रमाणपत्रों के सत्यापन के लिए कहा गया है। इस तिथि का पालन नहीं करने वाले शिक्षकों को 31 दिसंबर 2022 तक कार्य से मुक्त कर दिया जायेगा।

परियोजना निदेशक के मुताबिक 5 दिसंबर तक सहायक शिक्षकों को अपने जरूरी प्रमाण पत्र संबंधित जिला परियोजना कार्यालय में जमा कराने होंगे। यदि वे ऐसा नहीं करते हैं तो यह माना जायेगा कि उनका शैक्षणिक, प्रशिक्षण एवं शिक्षक पात्रता परीक्षा पास प्रमाण पत्र अनियमित है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

उनके पास वैध योग्यता नहीं है। ऐसे में पांच दिसंबर के बाद उनके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जायेगी। इस साल के अंत तक उनके खिलाफ कार्रवाई की जायेगी और उन्हें ड्यूटी से मुक्त कर दिया जायेगा।

इसके बाद वे अपनी सर्विस नहीं दे पायेंगे। साथ ही जनवरी 2023 से उनके मानदेय का भुगतान नहीं किया जायेगा।