Breaking :
||ED की रिमांड अवधि के दौरान मंत्री आलमगीर आलम का बीपी और शुगर लेवल हाई, स्ट्रेस भी बढ़ा||पलामू: पत्नी के सामने फंदे से झूल गया पति, लगातार झगड़ों से था परेशान||ED ने अब झारखंड सरकार के दो और मंत्रियों को पूछताछ के लिए बुलाया, सियासी गलियारों में हलचल||पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया माओवादी एरिया कमांडर बुधराम मुंडा||लोहरदगा में निर्माणाधीन कुआं धंसने से चार मजदूरों की दबकर मौत||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को||टेंडर कमीशन देने में पांकी के ठेकेदार का भी नाम : शशिभूषण मेहता||टेंडर घोटाले की जांच में पूर्व मंत्री आलमगीर आलम नहीं कर रहे सहयोग : ED||पांचवें चरण में 63.21 फीसदी वोटिंग, पुरुषों से ज्यादा रही महिलाओं की भागीदारी||गढ़वा: शादी समारोह में शामिल होने जा रही मां-बेटी की सड़क हादसे में मौत, बेटा और बेटी की हालत नाजुक
Thursday, May 23, 2024
पलामू प्रमंडलमनिकालातेहार

लातेहार: मनिका में दलित परिवार की जमीन पर दूसरे समुदाय के लोगों ने किया कब्जा, न्याय की मांग को लेकर भूख हड़ताल पर बैठा दलित परिवार

कौशल किशोर पांडेय/मनिका

लातेहार : मनिका प्रखंड के नामूदाग गांव निवासी दलित परिवार अपनी जमीन को बचाने के लिए गुरुवार को प्रखंड कार्यालय के सामने भूख हड़ताल पर बैठ गया।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मौके पर अर्जुन भुइयां, साखो देवी, चमेली कुंवर, सुकनी कुंवर, बुधन भुइयां, शीला देवी, पारो कुंवर, फूलमती देवी, गुड्डी देवी, सोनी कुमारी, सीमा देवी, अजय कुमार, कविता देवी, रीता देवी अपने सभी बाल बच्चों के साथ प्रखंड कार्यालय के समक्ष पोस्टर बैनर लगाकर आमरण अनशन पर बैठे हैं।

सीएनटी एक्ट को ताक पर रखकर लूटा गया जमीन : अर्जुन भुइयां

पीड़ित परिवारों का कहना है कि जब तक हमारी जमीन का फैसला नहीं होता तब तक हम लोग जल ग्रहण नहीं करेंगे चाहे हमारी जान भी क्यों नहीं चली जाये। वही अर्जुन भुइयां ने बताया कि सीएनटी एक्ट का खुल्लम खुल्ला उल्लंघन करके पदाधिकारियों व कर्मियों की मिलीभगत से हमारे पूरे जमीन पर अवैध रूप से कब्जा कर लिया गया है। उसने कहा कि हम लोग दलित परिवार से हैं तो आखिरकार हमारी जमीन कैसे दूसरे के नाम पर हो गया। पीड़ित परिवारों का कहना है कि प्रशासन हमारे जमीन का फैसला करें नहीं तो हम लोग भूखे रहकर के यहीं जान दे देंगे।

क्या है मामला

प्रखंड के नामुदाग पंचायत के नामुदाग गांव में खाता नंबर 46 प्लॉट नं 281 रकबा 5 एकड़ 48 डिसमिल जमीन दलित परिवार गनौरी भुइयां आदि के नाम पर दर्ज है। लेकिन यही जमीन अर्जुन भुइयां ने बताया कि 5 अक्टूबर 2020 तक हमारी रसीद भी कटी थी। इसके बाद पदाधिकारियों की मिलीभगत से मेरे जमीन का बंदरबांट कर दिया गया।

दलित परिवार का जमीन किसके नाम हुआ दर्ज

दलित परिवार का जमीन बिना परमिशन सीएनटी एक्ट के तहत कोई नहीं ले सकता है। लेकिन उस्मान अंसारी, मो महफूज, नवीज अंसारी, मो हाफिज ,मो मुमताज आलम, मो हाफिज, सरीफन बीबी, अली हुसैन, हाफिज मियां, अयूब इमामुद्दीन और नियामत अली के नाम पर दर्ज हो गया। जो सीएनटी एक्ट का खुल्लम खुल्ला उल्लंघन है। वहीं 5 अक्तूबर 2020 के बाद उक्त जमीन का ऑन लाइन दूसरे के नाम पर कैसे हुआ। जांच का विषय है।

क्या कहते हैं सीओ

सीओ अजय कच्छप ने कहा कि हमारे समय का यह मामला नहीं है। दलित परिवार के जमीन का केवाला कैसे हुआ यह जांच का विषय है। सीएनटी एक्ट का उल्लंघन है या नहीं यह तो कोर्ट तय करेगी। उन्होंने बताया कि मामला संज्ञान में आया है, जांच की जा रही है।