Breaking :
||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत||जेठानी ने देवरानी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- कल्पना सोरेन के इशारे पर मेरी दोनों बेटियों को मारने की थी कोशिश||गढ़वा: JJMP जोनल कमांडर के नाम पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी को धमकी||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में फिर मारे गये सात नक्सली||ED की रिमांड अवधि के दौरान मंत्री आलमगीर आलम का बीपी और शुगर लेवल हाई, स्ट्रेस भी बढ़ा||पलामू: पत्नी के सामने फंदे से झूल गया पति, लगातार झगड़ों से था परेशान||ED ने अब झारखंड सरकार के दो और मंत्रियों को पूछताछ के लिए बुलाया, सियासी गलियारों में हलचल||पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया माओवादी एरिया कमांडर बुधराम मुंडा||लोहरदगा में निर्माणाधीन कुआं धंसने से चार मजदूरों की दबकर मौत||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को
Friday, May 24, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

अपग्रेडेड हाई स्कूल पोचरा में मनाया गया संविधान दिवस, बच्चों को दिलायी गयी शपथ

लातेहार : अपग्रेडेड हाई स्कूल पोचरा (उत्तर) में राष्ट्रीय विधि दिवस/संविधान दिवस के शुभ अवसर पर आज संविधान दिवस के पावन अवसर पर विद्यालय के बच्चों एवं शिक्षकों ने संविधान की प्रस्तावना की शपथ ली। साथ ही सभी शिक्षकों ने बच्चों के बीच संविधान की जानकारी दी।

इस अवसर पर स्कूल के शिक्षक अनूप कुमार ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि भारत में हर साल 26 नवंबर को “राष्ट्रीय कानून दिवस” ​​या “राष्ट्रीय कानून दिवस” ​​के रूप में मनाया जाता है। क्योंकि इसी दिन संविधान सभा द्वारा भारत के संविधान को अंगीकार किया गया था।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

“कानून दिवस” ​​मनाने की परंपरा सबसे पहले 1979 में भारत के प्रख्यात विधिवेत्ता डॉ. लक्ष्मीमल सिंघवी के प्रयासों और सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन द्वारा शुरू की गयी थी। तब से हर साल इस दिन को पूरे भारत में राष्ट्रीय कानून दिवस के रूप में मनाया जाता है। इस दिन को भारतीय “संविधान दिवस” ​​के रूप में भी जाना जाता है।

इस अवसर पर स्कूल के प्राचार्य विकास कुमार शर्मा, अजय कुमार, कमल नवीन तिगा, दिनेश कुमार ठाकुर, लाल आशीषनाथ शाहदेव, अमित कुमार, मीना पंडित, रीता कुमारी, मनोज कुमार ठाकुर अरसद शाहनवाज आलम और जयशंकर प्रसाद सिंह आदि उपस्थित थे।