Breaking :
||मनिका: करोड़ों की लागत से हो रहे सड़क निर्माण में धांधली, बालू की जगह डस्ट से हो रही ढलाई||पड़ताल: गांव के दबंग ने ज़बरन रुकवाया PM आवास का निर्माण, 4 सालों से सरकारी बाबुओं के कार्यालय का चक्कर लगा रहा पीड़ित परिवार||लातेहार: बंद पड़े अभिजीत पावर प्लांट के सुरक्षा गार्ड की संदेहास्पद मौत, जांच जारी||गढ़वा: पड़ोसी युवक के साथ भागी दो बच्चों की मां, बंधक बनाकर पीटा||भूख हड़ताल पर बैठे पारा मेडिकल कर्मियों की तबीयत बिगड़ी, भेजा अस्पताल||Good News: झारखंड में मरीजों के लिए जल्द शुरू होगी एयर एंबुलेंस की सुविधा, मुख्यमंत्री ने किया ऐलान||लातेहार: मनिका बालक मध्य विद्यालय में हुई चोरी मामले का खुलासा, तीन गिरफ्तार, चोरी का सामान बरामद||चतरा में सुरक्षाबलों से नक्सलियों की मुठभेड़, एक नक्सली ढेर, देखें तस्वीर||झारखंड: मूर्ति विसर्जन के दौरान दो गुटों में हिंसक झड़प, दर्जनों लोग घायल, तनाव||धनबाद: हजारा अस्पताल में लगी भीषण आग, दम घुटने से डॉक्टर दंपती समेत 5 की मौत

बेटे की मौत से नाराज परिजनों ने अपने ही रिश्तेदारों को घर में बंद कर लगाई आग, पुलिस की सक्रियता से होते-होते टली मॉब लिंचिंग की घटना

Manika News Mob Lynching

लातेहार : ज़िले के मनिका थाना क्षेत्र के सिंजो गांव में सोमवार की सुबह अपने बेटे की मौत से नाराज गणेश सिंह ने परिजनों के साथ मिलकर नटाई सिंह और उनके परिजनों को मौत का जिम्मेवार मानते हुए उन्हें घर में बंद कर जिन्दा जलाने के लिए किरासन तेल छिड़क कर आग लगा दी। घर चारो ओर से धू-धू कर जलने लगा। आग की लपटें तेज होने लगी।

घर में बंद नटाई सिंह के पुत्र तपेश्वर सिंह, पत्नी उर्मिला देवी और पुत्री काजल कुमारी चीखने चिल्लाने लगे परंतु बाहर से किसी ने दरवाजा नहीं खोला। इसके बाद आसपास के ग्रामीणों ने इस बात की सूचना मनिका थाना पुलिस को दी।

घटना की सूचना मिलते ही थाना प्रभारी शुभम कुमार, एसआई गौतम कुमार, सुरेश सिंह, भोला यादव समेत कई पुलिसकर्मी मौके पर पहुंचे और दरवाजा खोलकर अंदर बंद तीनों को सुरक्षित बाहर निकाला। पुलिस की सक्रियता से तीन लोगों की जान बच गई।

देखें वीडियो :-

इसके बाद पुलिस ने घर में लगी आग बुझाना शुरू किया परंतु आग की लपटें इतनी तेज हो गई कि काफी मसक्कत के बाद भी आग पर काबू नहीं पाया गया। बाद में फायर बिग्रेड को सूचना दी गयी। लेकिन फायर बिग्रेड के पहुंचने से पहले ही पूरा घर जलकर खाक हो गया था।

क्या है मामला

आपको बता दें कि गणेश सिंह और नटाई सिंह आपस में रिश्तेदार हैं। जिनके बीच किसी जमीन को लेकर विवाद चल रहा था। हालांकि मामला थाने तक पहुंच गया था। इसी बीच रविवार से लापता गणेश सिंह का बेटा किरण सिंह (22) का शव सोमवार की सुबह गांव के अहिलडेगवा पुल के पास संदिग्ध हालत में मिला।

बताया जाता है कि रविवार की सुबह छह बजे गणेश सिंह का पुत्र किरानी सिंह घर से निकला था। जो देर रात तक घर नहीं लौटा था। परिजनों द्वारा आसपास तलाश करने के बावजूद रात उसका कुछ पता नहीं चल सका। सुबह करीब पांच बजे अहिलडेगावा पुल के पास किरानी का शव संदिग्ध हालत में मिला।

पलाश के पेड़ का फंदा टूटा हुआ था और लाश पेड़ के नीचे पड़ी थी। गणेश ने अपने बेटे का शव देखा तो नाराज होकर घर पहुंचे और नताई सिंह के घर में आग लगा दी। गणेश ने नटाई सिंह, कामेश्वर सिंह, तपेश्वर सिंह और कालेश्वर सिंह, कामेश्वर सिंह पर ह्त्या आरोप लगाया है।

इस संबंध में थाना प्रभारी शुभम कुमार ने बताया कि प्रथम दृष्टया आत्महत्या प्रतीत होता है। वैसे शव को पोस्मार्टम के लिए सदर अस्पताल भेजा गया है। रिपोर्ट आने के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि घर में लोगों को बंद कर आग लगाने की घटना निंदनीय है। आग लगाने वाले किसी भी हालत में बख्शे नहीं जाएंगे।

लोगों से अपील करते हुए उन्होंने कहा कि इस तरह की घटना की सूचना तुरंत पुलिस को दें और क़ानून का सहारा लें।

समाचार लिखे जाने तक किसी भी पक्ष ने मनिका थाने में घटना से संबंधित कोई लिखित शिकायत नहीं दी है।

Manika News Mob Lynching


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *