Breaking :
||पाकुड़ में करंट लगने से बाप-बेटे की मौत, बेटे को बचाने में गयी पिता की जान||झारखंड में IAS अधिकारियों का तबादला, केके सोन को परिवहन विभाग का अतिरिक्त प्रभार||बूढ़ा पहाड़ पहुंचे CRPF के DG कुलदीप सिंह, जवानों का बढ़ाया हौसला||वर्चस्व की लड़ाई में मारा गया JJMP कमांडर, लातेहार, रामगढ़ और रांची इलाके में था सक्रिय||शर्मनाक: पुलिस कर्मी पर जानवर से दुष्कर्म का आरोप, ग्रामीणों ने की मारपीट, आरोपी जवान निलंबित||BREAKING: पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में घायल सीआरपीएफ जवान की इलाज के दौरान मौत||15 लाख का इनामी माओवादी कमांडर विनय यादव गिरफ्तार, पलामू, लातेहार, गढ़वा व चतरा में हुए कई नक्सली हमलों में था शामिल||पलामू: अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार दो युवकों की मौत, एक गंभीर||नहीं रहे कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव, दिल्ली एम्स में निधन, हार गए जिंदगी की जंग||बालूमाथ में राजद नेता पर जानलेवा हमला, गंभीर हालत में रिम्स रेफर

सुखाड़ को लेकर सरकार गंभीर, स्थिति का जायजा लेने सभी जिलों में भेजे गए अधिकारी

'

रांची : झारखंड के सभी 24 जिलों से सूखे की स्थिति का जायजा लेकर दो दर्जन अधिकारी अपनी रिपोर्ट सरकार को देंगे। कृषि, पशुपालन एवं सहकारिता विभाग के सचिव ने अधिकारियों को 10 अगस्त तक पूरी रिपोर्ट देने के निर्देश के साथ तुरंत जाने को कहा है।

विभाग की ओर से एक वरिष्ठ अधिकारी को जिलों में भेजा गया है और उन्हें केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित प्रारूप पर रिपोर्ट देनी है। जिसके आधार पर राज्य सरकार विभिन्न जिलों में सूखे की स्थिति की घोषणा करेगी।

कृषि विभाग की ओर से जारी आदेश के अनुसार 1 जून से 3 अगस्त तक सामान्य बारिश (538.7 मिमी) के बजाय 282 मिमी बारिश हुई है, जो सामान्य से 48 प्रतिशत कम है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

यह भी बताया गया है कि पूर्वी सिंहभूम जिले में सामान्य बारिश हुई है, जबकि चतरा, गोड्डा, गढ़वा, जामताड़ा, पाकुड़ और साहेबगंज में स्थिति बहुत खराब है. विभाग की रिपोर्ट के अनुसार, 3 अगस्त तक फसल कवर 7.7 लाख हेक्टेयर (27.26 प्रतिशत) है, जबकि पिछले साल यह 65.48 प्रतिशत था।

पिछले दिनों मुख्य सचिव की अध्यक्षता में इस संदर्भ में एक उच्च स्तरीय बैठक के आलोक में अधिकारियों को फसल आच्छादन की स्थिति और किसानों को हो रहे फसल के नुकसान से अवगत कराने के लिए जिला स्तर पर अधिकारियों को भेजा जा रहा है जो मैन्यूअल फोर ड्राट मैनेजमेंट 2016 के तहत अपनी रिपोर्ट देंगे।

अधिकारी प्रतिनियुक्ति के बाद जिला में उपायुक्त से संपर्क कर विस्तृत रिपोर्ट तैयार करेंगे। अधिकारियों को निर्देश दिया गया है कि वे प्रतिनियुक्त जिले के उपायुक्त से मिलकर अल्पवृष्टि से प्रभावित प्रखंड के गांवों का रैंडम चयन करेंगे और इन गांवों में फसलों पर पड़े प्रभाव से संबंधित रिपोर्ट निर्धारित फार्मेट में देंगे।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

कृषि सचिव ने विशेष सचिव राजेश सिंह को रांची जबकि कृषि निदेशक निशा उरांव को खूंटी की जिम्मेदारी दी है। निदेशक पशुपालन शशि प्रकाश झा को गढ़वा, सहकारिता पंजीयक मृत्युंजय कुमार बरनवाल को रामगढ़, मनोज कुमार को कोडरमा, अंजनी कुमार को हजारीबाग, प्रदीप कुमार हजारी को गोड्डा, गोपाल जी तिवारी को पूर्वी सिंहभूम, बिधान चंद्र चौधरी को लोहरदगा, राजकुमार गुप्ता को लातेहार, नयनतारा केरकेट्टा को गुमला, नवीन कुमार को पश्चिम सिंहभूम, एचएन द्विवेदी को देवघर, सुभाष सिंह को दुमका, संतोष कुमार को बोकारो, मुकेश कुमार सिन्हा को धनबाद, फणेंद्र नाथ त्रिपाठी को सरायकेला, अजेश्वर प्रसाद सिंह को पलामू असीम रंजन एक्का को सिमडेगा, डॉ. मनोज कुमार तिवारी को चतरा, जय प्रकाश शर्मा को जामताड़ा, कुमुद कुमार को साहेबगंज, राकेश कुमार सिंह को पाकुड़, मनोज कुमार को गिरिडीह भेजा गया है।