Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

चंदवा में मालगाड़ी से कोयला चोरी करते दो पकड़ाये

Tori Chandwa news

लातेहार : चंदवा में टोरी आरपीएफ प्रभारी निरीक्षक दीपक कुमार के निर्देश पर सब-इंस्पेक्टर मणिकांत कुमार के नेतृत्व में रेलवे सुरक्षा बल पोस्ट टोरी की गश्ती टीम ने बिराटोली के पास से एक मालगाड़ी से कोयला चोरी करने वाले मुनेश्वर लोहरा और राजू लोहरा को रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। कार्रवाई के बाद रेलवे कोर्ट डाल्टनगंज को सौंप दिया गया।

जानकारी देते हुए आरपीएफ निरीक्षक प्रभारी दीपक कुमार ने बताया कि मालगाड़ी से अवैध रूप से कोयला चोरी किए जाने की सूचना लगातार मिल रही थी। इसी आलोक में रविवार की अहले सुबह टोरी आरपीएफ के द्वारा बिराटोली स्टेशन के समीप झाड़ियों में छुपकर एम्बुश बनाया गया।

इसी क्रम में कोयले से लदी एक मालगाड़ी स्टेशन पर रुकी, जब एक डिब्बे पर टॉर्च की रोशनी आने की आशंका हुई और बल के सभी सदस्य मालगाड़ी के पास पहुंचे तो देखा कि एक व्यक्ति डिब्बे के ऊपर चढ़ कोयला गिरा रहा था। दूसरा व्यक्ति नीचे बोरी में कोयला एकत्रित कर रहा था। बल के सभी सदस्यों ने अचानक हमला कर दोनों को रंगेहाथ पकड़ लिया।

पूछताछ में उसने अपना नाम मुनेश्वर लोहरा, पिता जालू लोहरा (नवाटोली, चकला, चंदवा) और राजू लोहरा पिता बखोरी लोहरा, (बारा, बालूमाथ) बताया। ट्रेन से कोयला गिराए जाने के बारे में पूछे जाने पर उन्होंने न तो कोई संतोषजनक जवाब दिया और न ही कोई वैध प्रमाण पत्र दिखाया। इस पर दोनों को रेलवे संपत्ति अधिनियम 1966 की धारा 3 के तहत मामला दर्ज कर डाल्टनगंज भेज दिया गया।

अभियान में अजित कुमार, राम कृष्ण राम, आरक्षी लोकेश कुमार, आरक्षी कुंदन कुमार राम आरक्षी राजेन्द्र कुमार तिवारी व आरपीएफ के जवान शामिल थे।

Tori Chandwa news


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *