Breaking :
||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे||रांची में करंट लगने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत, तिरंगा लगाने के दौरान हुआ हादसा||15 अगस्त को झारखंड के 26 पुलिसकर्मियों को विभिन्न सेवाओं के लिए मेडल||रांची में नकली नोटों के तस्कर को पकड़ने गई दिल्ली पुलिस पर ग्रामीणों ने किया हमला, बनाया बंधक||झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट||लातेहार: विद्यालय से उर्दू शब्द हटाए जाने पर मुस्लिम समुदाय में आक्रोश, किया प्रदर्शन||मुख्य धारा में लौटे नक्सलियों के सम्मान समारोह में अधिकारियों ने कहा- सरकार की सेरेंडर पॉलिसी का लाभ उठाएं नक्सली||लातेहार : खेत में धान बो रहे किसान पर गिरी बिजली, पति-पत्नी की मौके पर ही मौत||झारखंड भाजपा को मिलेगा नया प्रदेश अध्यक्ष, नियुक्ति को लेकर कई नामों पर चर्चा||अब झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 यूनिट मुफ्त बिजली

रिम्स ले जाने के क्रम में बीमार प्रवासी मजदूर की मौत, प्रशासन से मदद की गुहार

'

संजय राम/ बारियातू

लातेहार : बारियातू प्रखंड अंतर्गत अमरवाडीह पंचायत के मनातू निमवा टोंगरी निवासी प्रवासी मजदूर श्याम सुंदर लोहरा पिता मथुरा लोहरा की रिम्स रांची ले जाने के क्रम में रविवार की रात मौत हो गई।

मृतक मजदूर की पत्नी सोहरी देवी ने रोते हुए बताया कि मेरे पति छतीसगढ़ के कोरवा में हाइवा ट्रक चलाते थे। इससे बीच बीते एक सप्ताह पूर्व अचानक उनकी तबियत खराब हो गई। जिसके बाद एनसीएच छत्तीसगढ़ अस्पताल में भर्ती किया गया वंहा दो दिनों के इलाज के पश्चात बताया गया कि श्याम सुंदर का एक अंग बिल्कुल काम नही कर रहा है, उसे लकवा हो गया है।

जानकारी देते परिजन

फिर वंहा से किसी तरह पलामू जिले के सतबरवा में लकवे के इलाज के लिए लाइ। तब तक इनकी आवाज भी बंद हो गई थी। फिर परिजनों ने सलाह दिया कि बनासो विष्णुगढ़ हजारीबाग ले जाओ तब वंहा भी ले गया, लेकिन वंहा के चिकित्सक ने रिम्स रांची भेज दिया। फिर रिम्स रांची ले जाने के क्रम में रास्ते मे ही उसकी मौत हो गई।

अचानक हुई इस घटना से मृतक की पत्नी व नाबालिक पुत्र विक्की लोहरा(16) व सूरज लोहरा(14) सहित अन्य परिजनों का रोते रोते बुरा हाल है। मृतक की पत्नी ने प्रखंड प्रशासन से मदद की गुहार लगाई है।

गौरतलब रहे कि मृतक 1994 से ही छत्तीसगढ़ में दैनिक मजदूरी का काम करता था। बाद में हाइवा चलाने का काम करने लगा। 2003 में शादी होने के बाद 2008 से अपनी पत्नी के साथ कोरवा छत्तीसगढ़ में ही रह रहा था।


Leave a Reply

Your email address will not be published.