Breaking :
||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत||जेठानी ने देवरानी पर लगाये गंभीर आरोप, कहा- कल्पना सोरेन के इशारे पर मेरी दोनों बेटियों को मारने की थी कोशिश||गढ़वा: JJMP जोनल कमांडर के नाम पर पूर्व विधायक सत्येंद्र नाथ तिवारी को धमकी||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में फिर मारे गये सात नक्सली||ED की रिमांड अवधि के दौरान मंत्री आलमगीर आलम का बीपी और शुगर लेवल हाई, स्ट्रेस भी बढ़ा||पलामू: पत्नी के सामने फंदे से झूल गया पति, लगातार झगड़ों से था परेशान||ED ने अब झारखंड सरकार के दो और मंत्रियों को पूछताछ के लिए बुलाया, सियासी गलियारों में हलचल||पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया माओवादी एरिया कमांडर बुधराम मुंडा||लोहरदगा में निर्माणाधीन कुआं धंसने से चार मजदूरों की दबकर मौत||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को
Friday, May 24, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: सतबरवा में 50 छात्रों की एक साथ पिटायी, स्कूल नहीं आने से नाराज प्रिंसिपल ने निकाली भड़ास

पलामू : सतबरवा थाना क्षेत्र के लहलहे पंचायत के बारी मोड़ पर भोगू गांव में संचालित एक निजी विद्यालय के प्रधानाध्यापक द्वारा करीब 50 छात्रों को लाइन में खड़ा कर बेरहमी से पिटायी करने का मामला प्रकाश में आया है। मंगलवार की रात कई छात्र अपने परिजनों के साथ सतबरवा थाना पहुंचे थे। वहां छात्रों ने थाना प्रभारी अमित कुमार सोनी से प्राचार्य चंदन कुमार शर्मा की शिकायत की।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

छात्रों पर अत्याचार की जानकारी मिलते ही सतबरवा पुलिस आरोपी प्रिंसिपल चंदन कुमार शर्मा को पूछताछ के लिए थाने ले आयी। पिटायी से घायल यूकेजी से कक्षा पांच तक के छात्रों में अभिषेक कुमार, अरुण सिंह, सुधांशु कुमार, अभिषेक कुमार द्वितीय, एलकेजी के छात्र सुधांशु, चंदन कुमार यादव, सूरज कुमार गुप्ता समेत कई छात्र शामिल हैं, जिनपर प्रधानाध्यापक का डंडा चला। छात्रों ने पुलिस को अपनी पीठ और हाथ पर पिटायी के निशान भी दिखाये हैं।

बताया गया कि खामडीह गांव के करीब 50 छात्रों को एक कतार में खड़ा कर प्रिंसिपल ने डंडे से पिटायी कर दी, क्योंकि सोमवार को सभी छात्र स्कूल नहीं पहुंचे थे। छात्रों ने उन्हें बताया कि पिछले सोमवार को गांव में कलश यात्रा निकली थी, इस दौरान सभी छात्र यात्रा में शामिल होने के लिए स्कूल नहीं पहुंच सके।

छात्रों ने बताया कि प्रिंसिपल ने उन्हें यह कहते हुए पीटना शुरू कर दिया कि वे किसी भगवान में विश्वास नहीं करते हैं। साथ ही छात्रों को यह भी हिदायत दी गयी कि अगर उन्होंने माता-पिता को बताया तो और भी पिटायी की जायेगी। शाम को डरे सहमे छात्रों ने अपने परिजनों को इस बारे में बताया। इसके बाद गुस्साये परिजन प्रिंसिपल की शिकायत लेकर थाने पहुंचे थे।