Breaking :
||पलामू: ग्रामीणों ने मतदानकर्मियों को बनाया बंधक, लाठीचार्ज और पथराव||पलामू में दो शक्तिशाली लैंड माइंस बरामद, नक्सल विरोधी अभियान के दौरान CRPF को मिली सफलता||BIG BREAKING : ईडी की टीम ने विशाल चौधरी को किया गिरफ्तार||लोहरदगा: पत्नी ने पति को डंडे से पीट-पीट कर मार डाला||ब्रेकिंग : विशाल चौधरी के ठिकाने पर भारी मात्रा में नकदी बरामद, नोट गिनने की मशीन मंगवाई गई||झारखंडः देवी देवता के खिलाफ अभद्र टिप्पणी पर चक्रधरपुर बंद, 3 आरोपी गिरफ्तार||IPL 2022 – प्लेऑफ़ का पहला मुक़ाबला आज, इस सीजन में हुई छक्कों की बारिश, बना रिकॉर्ड||Breaking : अब रांची के अशोक नगर में ईडी की छापेमारी||BREAKING: लातेहार निर्वाची पदाधिकारी से हटाए गए एसडीओ शेखर कुमार, राज्य चुनाव आयोग ने दी सहमति||लातेहार : बहू की विदाई करा कर लौट रहे थे ग्रामीण, ट्रैक्टर की टक्कर से दो की गई जान

हाथों में अधिक रेखाएं हैं तो जानिए क्या है इनका मतलब

कई बार आपने देखा होगा कि हाथों में बहुत कम रेखाएं होती हैं। हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार हाथ में जीवन रेखा, मस्तिष्क रेखा और हृदय रेखा सबसे प्रमुख होती हैं। कम रेखा का मतलब यह भी हो सकता है कि व्यक्ति के हाथ में तीन मूल रेखाएं ना होकर केवल एक या दो हों। ऐसे में हाथ में तीन और इससे कम होने के अलग-अलग परिणाम हो सकते हैं। यदि व्यक्ति बहुत अधिक सोचता है तो उसके हाथों में रेखाओं की संख्या भी अधिक हो सकती हैं। जो लोग मस्तिष्क से जुड़ा काम नहीं करते अथवा बेहद कम करते हैं तो उनके हाथ में रेखाएं भी कम होती हैं। हस्तरेखा विज्ञान के अनुसार अधिक रेखा का मतलब अधिक चिंता और अधिक चिंता का मतलब अधिक दुखी। ऐसे में अधिक रेखाएं व्यक्ति को परेशानी भी देती हैं। 

यदि हाथ में केवल तीन रेखाएं हैं और तीनों की बनावट ठीक है, पर्वत ठीक है तो ऐसे लोगों का जीवन सरलता से चलता रहेगा। ऐसे लोगों को दूसरे लोगों का सहयोग मिलता रहेगा। ऐसे लोगों के हाथ में सूर्य रेखा नहीं हेाने के बावजूद सरकारी रेखा मिलने की संभावना रहती है। इसके उलट यदि व्यक्ति के हाथ में पर्वत का उभार ठीक ना हो तो ऐसे लोगों को जीवन में संघर्ष बढ़ जाएगा। ऐसे व्यक्ति जितना अधिक सोचेंगे, हाथ में रेखाएं भी उतनी दिखाई देने लगेंगी। कम रेखा होने का मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि व्यक्ति जीवन में कुछ नहीं करेगा। कम रेखा होने से रेखाओं के दोष होने की संभावना भी कम होती है। ऐसे में यह अच्छा संकेत माना गया है। हालांकि यदि हाथ में रेखाओं की संख्या तीन से कम है तो यह शुभ लक्षण नहीं है। यदि जीवन रेखा नहीं है तो व्यक्ति को संघर्ष झेलना पड़ेगा। यदि मस्तिष्क रेखा नहीं तो वैचारिक स्थिति में संघर्ष करना पड़ता है। मस्तिष्क की सक्रियता हाथ में रेखाओं की संख्या को बढ़ाती है। जो लोग चिंतक प्रवृत्ति के होते हैं उनके हाथ में रेखाएं भी अधिक होती हैं।