Breaking :
||झारखंड के 248 पारा शिक्षक गायब, 232 ने छोड़ी नौकरी, 5 दिसंबर तक मिला मौका||झारखंड में छह साल से नहीं हुई जेटेट परीक्षा, हाईकोर्ट में याचिका दायर||मुख्यमंत्री के प्रेस सलाहकार समेत चार के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी||मुख्यमंत्री विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा को नहीं मिली जमानत||लातेहार: बालूमाथ में कोयला कारोबारियों से व्हाट्सएप कॉल कर रंगदारी मांगने वाला TSPC का एरिया कमांडर गिरफ्तार, भेजा जेल||हेमंत सरकार तीन वर्ष पूरे होने पर सुखाड़ प्रभावित 22 जिलों के किसानों को देगी तोहफा, आवेदन शुरू||झारखंड: ऑनलाइन गेम में मिली हार से परेशान बच्चे ने कर ली खुदकुशी, माता-पिता हो जायें सावधान!||पलामू में नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म, वीडियो वायरल करने की धमकी देकर किया शारीरिक शोषण||बूढ़ा पहाड़ से फिर मिले 12 केन IED बम, किया गया नष्ट||सीओ हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ होगी ACB जांच, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी

बालूमाथ: जंगली हाथियों ने घर तोड़ा, मवेशी को कुचल कर मार डाला, अनाज किये चट

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : मंगलवार की देर रात बालूमाथ प्रखंड के बसिया पंचायत अन्तर्गत पिंडारकोम ग्राम के बड़का आहरा टोला में एक बार फिर जंगली हाथियों ने उत्पात मचाया है।

इस दौरान हाथियों ने बड़का आहार निवासी वृद्ध सोहरी मसोमात के घर को पूरी तरह से ध्वस्त कर घर में रखे अनाज महुआ, चावल, आलू, प्याज, गेहूं इत्यादि को चट कर गये और घर में रखे सामान को तहस-नहस कर दिया। जबकि घर के बाहर बंधे मवेशी (गाय) को कुचल कर मार डाला। घटना के बाद से पूरा परिवार दहशत में है। लाखो रूपये के संपत्ति जान मॉल का नुकसान हो जाने से पूरा परिवार शोक में डूबा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

इधर, भाजपा मंडल अध्यक्ष लक्ष्मण कुशवाहा ने मौके पर पहुंचकर पीड़ित परिवार को सांत्वना देते हुए वन विभाग से उचित मुवावजे की मांग की है। मौके पर मंडल अध्यक्ष ने कहा कि इस तरह आखिर कब तक गरीबों को हाथी के आतंक के साये में जीवन गुजारना पड़ेगा। वन विभाग के द्वारा अभी तक संवेदनशील जगहों पर टॉर्च, मसाल, पटाखे इत्यादि का वितरण नही किया गया है। जिससे तत्काल हाथियों को भागने में ग्रामीणों को जान का खतरा बना रहता है।

मौके पर भाजपा मंडल अध्यक्ष लक्ष्मण कुशवाहा, एससी मोर्चा जिला उपाध्यक्ष अमित कुमार, सुरेश गंझू, आशिक गंझू, मुकेश गंझू, मतलू गंझू, टेपर गंझू, सोहराय गंझू, कटन गंझू सहित सैकड़ों ग्रामीण मौजूद रहे।