Breaking :
||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार||लोससभा चुनाव: भाजपा की 195 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, देखें पूरी लिस्ट||सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा||झारखंड विधानसभा: बजट सत्र के अंतिम दिन कई विधेयक पारित||धनबाद: अस्पताल में लगी आग, मची अफरा-तफरी, मरीज और परिजन जान बचाकर भागे
Sunday, March 3, 2024
पलामूपलामू प्रमंडलसतबरवा

दुबियाखाड़ में दो दिवसीय राजकीय आदिवासी विकास महाकुंभ मेले का शुभारंभ

Dubiyakhad Aadiwasi Mahakumbh Mela

सतबरवा : प्रत्येक वर्ष 11-12 फरवरी को सदर प्रखंड के दुबियाखाड़ में आयोजित होने वाले राजकीय आदिवासी महाकुंभ मेले का उद्घाटन रविवार को पूर्व मंत्री मिथिलेश ठाकुर, मनिका विधायक रामचन्द्र सिंह, पलामू के उपायुक्त डॉ. शशि रंजन एवं चेरो जनजातीय परिषद के अध्यक्ष हरेराम सिंह चेरो ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर किया। इससे पूर्व अतिथियों ने मेदिनी चौक स्थित महाराजा मेदिनीराय की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया।

मौके पर संबोधित करते हुए पूर्व मंत्री मिथिलेश ठाकुर ने कहा कि पिछली किसी भी सरकार ने आदिवासियों की भावनाओं को नहीं समझा। पलामू के महापुरुष महाराजा मेदिनीराय की स्मृति में लगने वाले इस मेले को हमने राजकीय मेले का दर्जा दिया। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने एक निर्दोष आदिवासी के बेटे को झूठे मामले में फंसाकर जेल में डाल दिया है। झारखंड की सारी जमीन आदिवासियों की है। आदिवासियों को समझना चाहिए कि उनका हितैषी कौन है। मेदिनीनगर के शिवाजी मैदान में जल्द ही महाराजा मेदिनीराय की प्रतिमा स्थापित की जायेगी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

मनिका विधायक रामचन्द्र सिंह ने कहा कि इस मेले को राजकीय मेला का दर्जा देने के लिए आदिवासी समाज पूर्व मुख्यमंत्री हेमन्त सोरेन का सदैव आभारी रहेगा।

मेले में हजारों लोगों ने हिस्सा लिया, वहीं दूर-दूर से आये कलाकारों ने अपनी कला का प्रदर्शन किया। मेले में कई जोड़ों का सामूहिक विवाह भी आयोजित किया गया, जिसमें मिथिलेश ठाकुर ने कन्यादान किया और नवविवाहित वर-वधू को उपहार और आशीर्वाद भी दिया।

आपको बता दें कि इस मेले की शुरुआत 1991 में झारखंड के पहले विधानसभा अध्यक्ष इंदर सिंह नामधारी के सहयोग से की गयी थी, तब से हर साल इस मेले का आयोजन किया जाता है।

मौके पर पलामू विकास आयुक्त, प्रशिक्षु आईएएस रवि कुमार, अध्यक्ष अर्जुन सिंह, हृदय सिंह, जिला परिषद अध्यक्ष, अवधेश सिंह चेरो सहित कई गणमान्य लोग उपस्थित थे।

Dubiyakhad Aadiwasi Mahakumbh Mela