Breaking :
||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 28 फरवरी को आयेंगी रांची, सुरक्षा के रहेंगे कड़े इंतजाम||झारखंड: अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर युवती से किया दुष्कर्म, धर्म परिवर्तन कराकर जबरन करा दी शादी||लातेहार: बालूमाथ में लोडेड देशी पिस्टल के साथ दो युवक गिरफ्तार, कार जब्त||पीएम मोदी ने समुद्र में लगायी डुबकी, जलमग्न कृष्ण की नगरी द्वारका को देखा||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल
Monday, February 26, 2024
पलामू प्रमंडललातेहारहेरहंज

लातेहार: हेरहंज में ग्रामीणों ने विद्यालय प्रबंधन समिति के अध्यक्ष व शिक्षिका के खिलाफ खोला मोर्चा

लातेहार : हेरहंज प्रखंड क्षेत्र के चुकू गांव के ग्रामीणों ने गांव में विद्यालय से संबंधित एक महत्वपूर्ण बैठक की। इसकी अध्यक्षता ग्राम प्रधान जगरनाथ पाहन ने की। ग्रामीणों ने एकजुट होकर विद्यालय में प्रतिनियुक्ति पर कार्यरत शिक्षिका संध्या कुमारी व विद्यालय प्रबंधन समिति के अध्यक्ष अखिलेश यादव के खिलाफ मोर्चा खोला।

ग्रामीणों की शिकायत है कि शिक्षिका संध्या कुमारी मूल रूप से उत्क्रमित प्राथमिक विद्यालय नावाटांड़ की हैं। इस शिक्षिका को 2012 में प्रतिनियुक्ति पर राजकीय प्राथमिक विद्यालय चुकू भेजा गया था, लेकिन विभाग की मिलीभगत से वह आज भी उसी विद्यालय में जमीं हुई हैं।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

ग्रामीणों का आरोप है कि यदि कोई शिक्षक विद्यालय में पढ़ाता है तो ग्रामीणों को कोई परेशानी नहीं होती है। लेकिन सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि विद्यालय अध्यक्ष एवं शिक्षिका की मर्जी से चल रहा है।

ग्रामीण अजय भुइयां ने बताया कि उनके बेटे ने इसी स्कूल से पांचवीं कक्षा पास की, लेकिन उसकी पढ़ाई की हकीकत यह है कि उसे अपना नाम तक लिखना नहीं आता।

ग्रामीण अमित सिंह ने कहा कि चाहे उनका बच्चा हो या किसी और का, बच्चा देश का भविष्य है। बच्चों को स्कूल में पढ़ाई न कराकर जंगल से लकड़ी लाना या मक्का खुदवाना बिल्कुल गलत है। ऐसे शिक्षक को दंडित किया जाना चाहिए। जिला बैठक में जिला उपायुक्त के नाम से एक आवेदन भी दिया गया, जिसमें प्रतिनियुक्ति को तोड़ कर मूल विद्यालय में भेजने की मांग की गयी। लेकिन आज तक कोई कार्रवाई नहीं हुई और न ही प्रतिनियुक्ति को तोड़ कर हटाया गया। इतना ही नहीं मुख्यमंत्री व प्रखंड विकास पदाधिकारी को भी आवेदन दिया गया, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

ग्रामीणों का यह भी आरोप है कि अध्यक्ष के चयन के लिए विभाग द्वारा जो पत्र जारी किया गया है, वह भी नियमों को ताक पर रखकर किया गया है। एक ही अध्यक्ष 12 साल से अड़े हुए हैं। ग्रामीणों ने यह भी कहा कि पत्रकारों के पास नहीं पहुंचने को कहा गया था। उन्हें धमकी भी दी गयी और कहा गया कि अगर कोई पत्रकार से शिकायत करने जायेगा तो समझ जाना। ग्रामीणों ने शिक्षिका पर आरोप लगाया है कि बच्चों को पढ़ाई कराने के बजाय स्कूल के खेल के मैदान में खेती का काम कराया जाता है।

इस संबंध में जब शिक्षिका संध्या कुमारी से पूछा गया तो उन्होंने कहा कि ग्रामीणों का आरोप बेबुनियाद है।

Herhanj Latehar News Today