Breaking :
||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट||झारखंड के 4 IAS अधिकारियों का तबादला, JPSC के सचिव का भी हुआ ट्रांसफर||झारखंड में 23 IPS अफसरों का तबादला, अंजनी अंजन बने रांची के ग्रामीण एसपी||पलामू: ग्रामीण डॉक्टर का अपहरण, मरीज को दिखाने के बहाने क्लिनिक में आये थे अपराधी||Jharkhand Budget: बाबूलाल मरांडी ने कहा- बजट में जन कल्याणकारी योजनाओं का समावेश नहीं||विधानसभा में 1.28 लाख करोड़ का बजट पेश, 2 लाख तक के कृषि ऋण होंगे माफ़, जानिये सरकार की अन्य घोषणायें
Wednesday, February 28, 2024
पलामू प्रमंडललातेहार

लातेहार: होमगार्ड्स ने कंपनी कमांडर पर लगाया अवैध वसूली का आरोप, प्रदर्शन

लातेहार : होमगार्ड्स ने कंपनी कमांडर प्रकाश रंजन पर ड्यूटी के नाम पर अवैध वसूली करने और राशि नहीं देने पर प्रताड़ित करने का आरोप लगाया है। गुरुवार को होमगार्ड्स ने उपायुक्त भोर सिंह यादव को ज्ञापन सौंपा और कलेक्ट्रेट के सामने प्रदर्शन किया।

गृह रक्षा वाहिनी के प्रदेश महासचिव राजीव कुमार तिवारी ने आरोप लगाया कि कंपनी कमांडर प्रकाश ड्यूटी देने के नाम पर प्रत्येक जवान से छह हजार रुपये की अवैध वसूली करते हैं। कंपनी कमांडर का कहना है कि ड्यूटी लेनी है तो किडनी बेचकर भी पैसे देने पड़ेंगे।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

ज्ञापन में होमगार्ड्स ने कहा है कि पहले ऑनलाइन एचआरएमएस कंपनी कमांडर प्रकाश रंजन द्वारा किया जाता था और सभी होमगार्डों को ई-मेल आईडी जारी की गयी थी। इस ऑनलाइन एचआरएमएस में कांस्टेबल का नंबर डालकर ही चेक किया जा सकता है। लेकिन अब एचआरएमएच का फार्म नये सिरे से सारा डाटा हटाकर भरा जा रहा है। जबकि एचआरएमएस का फॉर्म एक ही बार में पूरे झारखंड में भर दिया गया है।

ज्ञापन में कहा गया है कि जिनके कर्मचारी पहचान पत्र जारी है, उन्हें छोड़कर बाकी होमगार्ड को एचआरएमएच फार्म भरने को कहा गया है। इस संबंध में कुछ पूछने पर कंपनी कमांडर अभद्र व्यवहार करते हैं। होमगार्डों ने बताया कि कंपनी कमांडर जब भी बात करता है तो सभी होमगार्डों के मोबाइल बाहर ही रख दिये जाते हैं। दुमका में पदस्थापन के दौरान कंपनी कमांडर के खिलाफ एसटी-एसी मामले में प्राथमिकी भी दर्ज हो चुकी है और उन्हें रांची में ब्लैक लिस्ट भी कर दिया गया था।