Breaking :
||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को||टेंडर कमीशन देने में पांकी के ठेकेदार का भी नाम : शशिभूषण मेहता||टेंडर घोटाले की जांच में पूर्व मंत्री आलमगीर आलम नहीं कर रहे सहयोग : ED||पांचवें चरण में 63.21 फीसदी वोटिंग, पुरुषों से ज्यादा रही महिलाओं की भागीदारी||गढ़वा: शादी समारोह में शामिल होने जा रही मां-बेटी की सड़क हादसे में मौत, बेटा और बेटी की हालत नाजुक||झारखंड: स्कूलों में शत प्रतिशत नामांकन को लेकर राज्य शिक्षा परियोजना गंभीर, लापरवाही बरतने पर होगी कार्रवाई||टेंडर कमीशन घोटाला मामला: ED ने अब IAS मनीष रंजन को पूछताछ के लिए बुलाया||मतदान केंद्र में फोटो या वीडियो लेना अपराध, की जा रही है कार्रवाई : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी||लातेहार: बालूमाथ में बाइक दुर्घटना में एक युवक की मौत, दूसरा गंभीर, रिम्स रेफर||गढवा: डोभा में नहाने के दौरान डूबने से JJM नेता के पोते समेत दो किशोरों की मौत
Thursday, May 23, 2024
गढ़वापलामू प्रमंडल

कब्रिस्तान के चलते गढ़वा बाईपास निर्माण पर रोक, 90 फीसदी काम हो चुका है पूरा

पलामू : गढ़वा बाईपास निर्माण पर रोक के मामले में शुक्रवार को एनएचएआई की टीम जांच करने पहुंची। टीम ने मामले की जांच की। हालांकि जांच रिपोर्ट सामने नहीं आयी है, लेकिन पता चला है कि कब्रिस्तान के कारण बाईपास का निर्माण अधूरा पड़ा हुआ है।

इस बाईपास का 90 फीसदी काम पूरा हो चुका है, जबकि 10 फीसदी बचे काम में कब्रिस्तान समेत अन्य आता है। विवाद की स्थिति को देखते हुए झारखंड सरकार ने इसके निर्माण पर रोक लगा दी है। इस प्रतिबंध की जानकारी लेने के लिए केंद्रीय टीम यहां पहुंची थी।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बाईपास का काम बंद करने के पीछे जमीन अधिग्रहण को लेकर पूरा विवाद है। दरअसल, बाइपास को गढ़वा जिले के अंचला में कब्रिस्तान से होकर गुजरना है, जहां कब्रिस्तान की जमीन को लेकर विवाद के चलते प्रोजेक्ट रुका हुआ है। पलामू सांसद विष्णु दयाल राम तीर्थ विकास यात्रा के तहत शुक्रवार को यहां पहुंचे। उन्होंने अपना दर्द साझा किया।

उन्होंने बताया कि कैसे उनका ये ड्रीम प्रोजेक्ट एक जगह अटका हुआ है। सांसद ने बताया कि उस समय बाईपास की डीपीआर तैयार की जा रही थी। उस दौरान कहा गया था कि कब्रिस्तान के लिए जमीन का अधिग्रहण किया जायेगा, लेकिन बाद में राज्य सरकार झुक गयी और सचिव स्तर के एक अधिकारी ने पत्र लिखकर कहा कि जमीन का अधिग्रहण नहीं किया जायेगा।

पत्र में कहा गया है कि भूमि अधिग्रहण के दौरान कानून व्यवस्था को खतरा हो सकता है। पलामू सांसद ने कहा है कि अंचल अधिकारी की रिपोर्ट में कहा गया है कि यह जमीन अनुपयोगी है। मामले में लोगों ने हाईकोर्ट का भी दरवाजा खटखटाया था, लेकिन फैसला आने से पहले ही रिट वापस ले ली गयी।

सांसद ने कहा कि दुख की बात यह है कि इस परियोजना के लिए समय पर जमीन का अधिग्रहण नहीं किया गया। उन्होंने उम्मीद जतायी है कि यह परियोजना 2024 तक पूरी हो जायेगी।

गौरतलब है कि गढ़वा बाईपास का निर्माण कार्य 7 अक्टूबर 2021 को शुरू किया गया था। यह परियोजना मार्च 2023 में पूरी होनी थी। यह बाईपास झारखंड, बिहार, यूपी और छत्तीसगढ़ को जोड़ेगा।