Breaking :
||दुमका में फिर पेट्रोल कांड, प्रेमिका और उसकी मां पर पेट्रोल डाल कर प्रेमी ने लगायी आग||छत्तीसगढ़ में पुलिस के साथ मुठभेड़ में चार नक्सली ढेर, शव बरामद||UP राज्यसभा चुनाव में BJP के आठों उम्मीदवारों ने की जीत हासिल||माओवादी टॉप कमांडर रविंद्र गंझू के दस्ते का सक्रिय सदस्य ढेचुआ गिरफ्तार||पलामू: तूफान और बारिश ने मचायी तबाही, दो छात्रों की मौत, कहीं गिरे पेड़ तो कहीं ब्लैकआउट||झारखंड के 4 IAS अधिकारियों का तबादला, JPSC के सचिव का भी हुआ ट्रांसफर||झारखंड में 23 IPS अफसरों का तबादला, अंजनी अंजन बने रांची के ग्रामीण एसपी||पलामू: ग्रामीण डॉक्टर का अपहरण, मरीज को दिखाने के बहाने क्लिनिक में आये थे अपराधी||Jharkhand Budget: बाबूलाल मरांडी ने कहा- बजट में जन कल्याणकारी योजनाओं का समावेश नहीं||विधानसभा में 1.28 लाख करोड़ का बजट पेश, 2 लाख तक के कृषि ऋण होंगे माफ़, जानिये सरकार की अन्य घोषणायें
Wednesday, February 28, 2024
पलामू प्रमंडलबालूमाथलातेहार

लातेहार: हाथियों के आतंक से निजात दिलाने के लिए बालूमाथ पूर्वी जिप सदस्य ने डीएफओ को सौंपा ज्ञापन

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : बालूमाथ प्रखंड क्षेत्र में जंगली हाथियों के बढ़ते आतंक को देखते हुए बालूमाथ पूर्वी जिला परिषद् सदस्य प्रियंका कुमारी के नेतृत्व में आज लातेहार वन प्रमंडल के डीएफओ रौशन कुमार को एक ज्ञापन सौंपते हुए बालूमाथ क्षेत्र को जंगली हाथियों से मुक्त कराने की मांग की गयी।

ज्ञापन सौंपते हुए जिला परिषद् सदस्य कहा है कि जंगली हाथियों के द्वारा आये दिन क्षेत्र में कहीं न कहीं आतंक मचाये जा रहे हैं। जिस कारण यहां के लोगों को रात में काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। वहीं ग्रामीण क्षेत्र के लोगों ने जंगल जाना छोड़ दिया है। इस कारण उन्हें जलावन व पशुओं को चारा देने समेत कई समस्याओं से जूझना पड़ रहा है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उन्होंने पीड़ित ग्रामीणों की समस्या का निष्पादन व मुआवजा जल्द से जल्द वितरण करने की मांग करते हुए कई अन्य समस्याओं पर भी चर्चा की। साथ ही हाथियों को भागने को लेकर रेड जोन एरिया में वन कर्मियों को लगातार निगरानी करने के साथ-साथ इस क्षेत्र से हाथियों को बेतला वन क्षेत्र में ले जाने का भी आग्रह ‌‌‌‌किया गया।

मौके पर भाजपा मंडल अध्यक्ष लक्ष्मण कुशवाहा, रामदेव सिंह, देवनंदन प्रसाद, बसंत कुशवाहा आदि मुख्य रूप से मौजूद रहे।