Breaking :
||लातेहार : गरीब रथ ट्रेन पर पथराव, माँ-बेटी घायल||IPL 2022 – गुजरात फाइनल में पहुंची, डेविड मिलर ने लगातार तीन छक्के लगाकर दिलाई जीत||आज भारत बंद, जानिए क्या है कारण, कैसा होगा बंद का असर||पलामू: ग्रामीणों ने मतदानकर्मियों को बनाया बंधक, लाठीचार्ज और पथराव||पलामू में दो शक्तिशाली लैंड माइंस बरामद, नक्सल विरोधी अभियान के दौरान CRPF को मिली सफलता||BIG BREAKING : ईडी की टीम ने विशाल चौधरी को किया गिरफ्तार||लोहरदगा: पत्नी ने पति को डंडे से पीट-पीट कर मार डाला||ब्रेकिंग : विशाल चौधरी के ठिकाने पर भारी मात्रा में नकदी बरामद, नोट गिनने की मशीन मंगवाई गई||झारखंडः देवी देवता के खिलाफ अभद्र टिप्पणी पर चक्रधरपुर बंद, 3 आरोपी गिरफ्तार||IPL 2022 – प्लेऑफ़ का पहला मुक़ाबला आज, इस सीजन में हुई छक्कों की बारिश, बना रिकॉर्ड

RBI ने रेपो रेट बढ़ाया, अब लोन होगा महंगा, महंगाई होगी कम, जानिए कैसे

रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने बढ़ती महंगाई को कम करने के लिए करीब दो साल बाद रेपो रेट बढ़ा दिया है। रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बुधवार दोपहर प्रेस कॉन्‍फ्रेंस करके रेपो रेट में 0.40 फीसदी बढ़ोतरी की घोषणा की। बढ़ने के बाद अब रेपो रेट 4 फीसदी की बजाए 4.40 फीसदी हो गई है। आपको बता दें कि आरबीआई ने मई, 2020 के बाद से रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया था।

रेप रेट से कैसे नियंत्रित होती है महंगाई दर

आपको बता दें आरबीआई रेपो रेट को कम या ज्यादा करके महंगाई दर को नियंत्रित करता है। जैसे कि अगर देश में महंगाई दर ज्यादा हो तो आरबीआई रेपो रेट को बढ़ा देती है। इससे बैंकों से मिलने वाले सभी लोन के दर बढ़ जाते हैं। बैंकों के दर बढ़ जाने से लोन महंगा हो जाता है और लोन महंगा होने से लोगों के पास पैसे कम हो जाते हैं। अगर लोगों के पास पैसे अगर कम हो गए तो बाजार में रौनक नहीं रहती। वस्तुओं की मांग कम हो जाती है। इससे महंगाई भी कम हो जाती है।

इसे भी पढ़ें :- सिन्दूर देने से पहले दुल्हन का वीडियो हुआ वायरल, दूल्हे ने शादी से किया इंकार

महंगाई रोकने के लिए बढ़ाया रेपो रेट

गवर्नर ने कहा कि कोरोना के समय बाजार में रौनक नहीं थी। इस वजह से आरबीआई ने उस समय रेपो रेट को काफी निचले स्तर पर कर दिया था। जिससे कि लोग बैंकों से ज्यादा से ज्यादा लोन ले और मार्केट में पैसा लगाएं। जिससे कि भारत की अर्थव्यवस्था पटरी पर वापस आ सके। लेकिन 2 साल के बाद अभी खुदरा महंगाई 7 फीसदी के आसपास चल रही है। इसे नियंत्रित करने के लिए आरबीआई ने रेपो रेट को 0.40 फीसदी बढ़ा दिया है।

इसे भी पढ़ें :- माओवादियों ने पंचायत चुनाव का बहिष्कार करने का किया आह्वान

आरबीआई के गवर्नर शक्तिकांत दास ने बताया कि पिछले 2 साल से कोरोना महामारी से बाजार जूझ रहा था। इस दौरान सारी तरह की सहूलियत दी गई थी। लेकिन अब रूस और यूक्रेन के युद्ध के बीच नई चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है और महंगाई का दबाव भी लगातार बढ़ रहा है। ग्लोबल मार्केट में ना सिर्फ वस्तुओं के दाम बढ़ लगातार बढ़ रहे हैं, बल्कि सप्लाई पर भी बुरा असर पड़ा है। ऐसे हालात में रेपो रेट बढ़ाना ही एकमात्र समाधान है। ऐसे में हमें रेपो रेट की बढ़ोतरी करनी पड़ी। इस कदम से खुदरा महंगाई को रोकने में मदद मिलेगी।

रेपो रेट से लोन का संबंध

आरबीआई के रेपो रेट बढ़ाने से बैंकों द्वारा लोन का ब्याज दर भी अब बढ़ा दिया जाएगा। रेपो रेट वह दर होता है जिस पर सभी बैंक आरबीआई से लोन लेते हैं और उससे कुछ बढ़ी हुई दर पर वह बैंक लोगों को होम लोन, ऑटो लोन वगैरह देते हैं। अब चूँकि रेपो रेट में बढ़ोतरी की गई है, तो ग्राहकों को मिलने वाला लोन का ब्याज दर भी उसी अनुसार बढ़ा दिया जाएगा।

इसे भी पढ़ें :- धोनी समेत छह सेलेब्रिटीज़ के खिलाफ जनहित याचिका दायर

बैंकों का CRR भी 0.5 % बढ़ाया

आरबीआई के गवर्नर ने यह भी बताया कि बाजार में मौजूद एक्स्ट्रा लिक्विड मनी को घटाने के लिए बैंकों का कैश रिजर्व रेश्यो भी 0.5% बढ़ा दिया गया है। अब कैश रिजर्व रेश्यो फिर से 4.5% हो गया है। आरबीआई के इस कदम से बाजार में मौजूद करीब 83711 करोड रुपए की अतिरिक्त लिक्विड मनी बैंकों में वापस आ जाएगा। इससे महंगाई पर काबू पाने में मदद मिलेगी।

इसे भी पढ़ें :- अवैध संबंध का विरोध करने पर पति ने की पत्नी की डंडे से पीट-पीट कर हत्या

देश में आर्थिक स्थिरता जरुरी

गवर्नर शक्तिकांत दास ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहां की मौजूदा संकट की वजह से वैश्विक अर्थव्यवस्था मुसीबत में दिख रही है। सभी देशों में महंगाई चरम पर है। सभी देशों के केंद्रीय बैंक ब्याज दरों में बढ़ोतरी कर महंगाई को काबू करने का प्रयास कर रहे हैं। रेपो रेट बढ़ने से जो महंगाई कम होगी । इससे देश में आर्थिक स्थिरता बढ़ेगी।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

RBI रेपो रेट महंगाई