Breaking :
||हाईकोर्ट ने सरकार को लगायी फटकार, कहा- क्यों नहीं करायी गयी रांची हिंसा की CBI जांच||सिकनी के एक मामले में JSMDC के MD हाई कोर्ट में सशरीर हुए उपस्थित||रांची के नामी व्यवसायी से 40 लाख की रंगदारी मांगने का आरोपी पकड़ाया||लातेहार: प्रतिबंधित उग्रवादी संगठन TSPC का एरिया कमांडर गिरफ्तार, हथियार व गोलियां बरामद||लातेहार: झोलाछाप डॉक्टर के गलत इलाज से गर्भ में पल रहे बच्चे की मौत के बाद रिम्स में इलाज के दौरान महिला ने भी तोड़ा दम||अब मुख्यमंत्री हेमंत करेंगे जिलों में विकास कार्यों की समीक्षा, कर सकते हैं किसी भी विभाग का औचक निरीक्षण||झारखंड के चार IPS अधिकारियों का तबादला||गैर भोक्ता समाज में बेटे की शादी करने पर मंत्री सत्यानंद भोक्ता को खरवार भोक्ता समाज ने किया बहिष्कृत||मनिका: प्रेम प्रसंग में विवाहिता ने लगायी फां*सी, प्रेमी से अनबन की आशंका||कार्रवाई: पलामू टाइगर रिजर्व से भारी मात्रा में बेशकीमती लकड़ी ज़ब्त, ग्रामीणों ने जताया विरोध

चुनाव ख़त्म : 20-25 रुपये बढ़ सकते हैं पेट्रोल-डीजल के दाम

Petrol-Diesel Price Hike

4 महीनों से स्थिर हैं पेट्रोल-डीजल के दाम

पेट्रोल-डीजल के दाम आने वाले दिनों में बढ़ सकते हैं। इसकी बड़ी वजह 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव का खत्म होना है। भारत में पेट्रोल-डीजल की कीमतों और चुनाव का ट्रेंड बताता है कि मोदी सरकार चुनावों से ठीक पहले कीमतों में बढ़ोतरी से बचती रही है। हालांकि चुनाव खत्म होते ही वह कीमतों को बढ़ाने में देर नहीं करती। इसी वजह से पेट्रोल-डीजल में 20-25 रुपए की बढ़ोतरी तय मानी जा रही है। खबर है कि कच्चे तेल का भाव रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचने के बाद भारत में भी सरकार और सरकारी तेल कंपनियों ने पेट्रोल तथा डीजल के दाम बढ़ाने पर मंथन शुरू कर दिया है।

तेल कंपनियों ने 3 नवंबर से पेट्रोल-डीजल की कीमतों में कोई बदलाव नहीं किया है। ट्रेंड यह भी कहता है कि दामों में बढ़ोतरी एक बार में न होकर, रोज थोड़ी-थोड़ी होगी। यानी आज करीब 15 रुपए दाम बढ़ा दिए जाए और फिर धीरे-धीरे कर 5-10 रुपए की बढ़ोतरी और की जाए।

रूस-यूक्रेन युद्ध की वजह से ग्‍लोबल मार्केट में कच्चे तेल (ब्रेंट क्रूड) के दाम 140 डॉलर प्रति बैरल को पार कर गए हैं। दिसंबर 2021 में क्रूड का औसत मूल्य 73 डॉलर के करीब था। यानी कच्चे तेल की कीमत करीब दोगुनी चुकी है, लेकिन पेट्रोल-डीजल के दामों में बढ़ोतरी नहीं हुई। एक्सपर्ट के मुताबिक कच्चे तेल के दाम चढ़ने से सार्वजनिक क्षेत्र की तेल कंपनियों- इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन, भारत पेट्रोलियम और हिंदुस्तान पेट्रोलियम को पेट्रोल-डीजल पर 15-20 रुपए प्रति लीटर का घाटा उठाना पड़ रहा है। क्रूड के दाम लगातार बढ़ने से कंपनियों का घाटा भी लगातार बढ़ रहा है।

रूस-यूक्रेन जंग से बढ़े क्रूड के दाम

24 फरवरी 2022 को यूक्रेन पर रूस के आक्रामण के तुरंत बाद दुनियाभर के शेयर बाजार धराशाई हो गए, सोने की कीमतें बढ़ गई और क्रूड ऑयल रिकॉर्ड लेवल पर पहुंच गया। युद्ध वाले दिन क्रूड करीब 100 डॉलर पर कारोबार कर रहा था, जो अब 140 तक पहुंच चुका है। यानी

रूस ऑयल और नेचुरल गैस का बड़ा उत्पादक है। BP स्टैटिकल रिव्यू के अनुसार 2020 में रूस क्रूड ऑयल और नेचुरल गैस कंडेनसेट के उत्पादन के मामले में दूसरे नंबर पर था। इस दौरान रूस ने प्रति दिन 10.1 मिलियन बैरल का उत्पादन किया। रूस के आक्रामण के कारण कई पश्चिमी देशों ने रूस पर कड़े प्रतिबंध लगाए है। इसी वजह से क्रूड की आपूर्ति को लेकर अनिश्चितता है और दाम लगातार बढ़ रहे हैं।

क्रूड की 85% आपूर्ति के लिए भारत अन्य देशों पर निर्भर

भारत क्रूड ऑयल की 85% से ज्यादा आपूर्ति के लिए अन्य देशों पर निर्भर है। रूस के तेल एक्सपोर्ट का लगभग आधा- करीब 25 लाख बैरल प्रति दिन- जर्मनी, इटली, नीदरलैंड, पोलैंड, फिनलैंड, लिथुआनिया, ग्रीस, रोमानिया और बुल्गारिया सहित यूरोपीय देशों को भेजा जाता है। हालांकि, भारत काफी कम तेल रूस से इंपोर्ट करता है। 2021 में भारत ने रूस से प्रति दिन 43,400 बैरल तेल का इंपोर्ट किया। ये भारत के तेल इंपोर्ट का केवल 1% है। रूस पर लगी पाबंदियों की वजह से भारत की तेल सप्लाई तो ज्यादा प्रभावित नहीं होगी, लेकिन क्रूड के दाम बढ़ने का सीधा असर होगा।

एक्साइज ड्यूटी में कटौती कर सकती है सरकार

एक्सपर्ट्स का मानना है कि महंगाई को काबू में करने के लिए सरकार पेट्रोल-डीजल पर लगने वाले टैक्स एक्साइज ड्यूटी में कटौती कर सकती है। केंद्र सरकार ने कोरोना की पहली लहर में दो बार में पेट्रोल-डीजल पर लगने वाली एक्साइज ड्यूटी में 15 रुपए प्रति लीटर की बढ़ोतरी की थी। हालांकि इसके बाद 3 नवंबर को पेट्रोल पर 5 और डीजल पर 10 रुपए प्रति लीटर एक्साइज ड्यूटी की कटौती की थी। अगर सरकार दाम बढ़ाने के बाद एक्साइज ड्यूटी में कटौती नहीं करती है तो महंगाई बेकाबू हो सकती है।

पेट्रोल-डीजल की कीमत कैसे निर्धारित होती है?

जून 2010 तक सरकार पेट्रोल की कीमत निर्धारित करती थी और हर 15 दिन में इसे बदला जाता था। 26 जून 2010 के बाद सरकार ने पेट्रोल की कीमतों का निर्धारण ऑयल कंपनियों के ऊपर छोड़ दिया। इसी तरह अक्टूबर 2014 तक डीजल की कीमत भी सरकार निर्धारित करती थी, लेकिन 19 अक्टूबर 2014 से सरकार ने ये काम भी ऑयल कंपनियों को सौंप दिया। अभी ऑयल कंपनियां अंतरराष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल की कीमत, एक्सचेंज रेट, टैक्स, पेट्रोल-डीजल के ट्रांसपोर्टेशन का खर्च और बाकी कई चीजों को ध्यान में रखते हुए रोजाना पेट्रोल-डीजल की कीमत निर्धारित करती हैं।

रुपए की कमजोरी ने भी बढ़ाई चिंता

डॉलर के मुकाबले रुपया 83 पैसे की कमजोरी के साथ 77 रुपए रिकॉर्ड निचले स्तर पर बंद हुआ। शुक्रवार को रुपया 25 पैसे की कमजोरी के साथ 76.16 रुपए के स्तर पर बंद हुआ था। इस साल रुपए में अब तक 3.60% की गिरावट आ चुकी है। एक्सपर्ट्स के अनुसार रुपया 78 के लेवल तक जा सकता है। डॉलर के मुकाबले रुपए का कमजोर होने के सीधा असर इंपोर्ट पर पड़ता है। जैसे-जैसे रुपया गिरता है, कच्चे तेल के इंपोर्ट बिल में भी बढ़ोतरी होती है।

ईरान की न्यूक्लियर डील से घट सकता है क्रूड

एक्सपर्ट अनुमान जता रहे हैं कि ईरान की 2015 की न्यूक्लियर डील रिवाइव होने के बाद क्रूड के दामों में गिरावट आ सकती है। हालांकि, डील के बाद भी ईरान के तेल को मार्केट में आने में समय लग सकता है। एनालिस्ट का कहना है कि अगर इस हफ्ते भी डील फाइनल हो जाती है तब भी ईरान के ऑयल को मार्केट तक आने में मई से जून तक का समय लग जाएगा। इसके बाद क्रूड सस्ता हो सकता है। दुनिया भर के ज्यादातर रिफाइनर भी कई सालों से ईरानी ऑयल नहीं ले रहे हैं और ईरान से इंपोर्ट को फिर से शुरू में 2-3 महीनों की जरूरत होगी।

Petrol-Diesel Price Hike

Petrol-Diesel Price Hike


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *