Breaking :
||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर 62.13 फीसदी वोटिंग, सबसे अधिक जमशेदपुर, सबसे कम रांची में मतदान||झारखंड में कल से दिखेगा चक्रवाती तूफान ‘रेमल’ का असर, लातेहार, गढ़वा, पलामू व चतरा जिले में भी असर||लातेहार: दुकान में चोरी करने आये तीन चोर आग में झुलसे, एक की मौत, दो गंभीर||झारखंड की चार लोकसभा सीटों पर वोटिंग कल, 82 लाख मतदाता करेंगे 93 उम्मीदवारों की किस्मत का फैसला||पलामू: तत्कालीन एसपी के फर्जी हस्ताक्षर से बने 12 चरित्र प्रमाण पत्र, बड़ा गिरोह सक्रिय||ED की टीम फिर पहुंची आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल के नौकर जहांगीर के घर||झारखंड: ज्वैलर्स शोरूम से दो लाख रुपये नकद समेत 50 लाख के आभूषण की लूट||निशिकांत दुबे के खिलाफ चुनाव आयोग से शिकायत||लातेहार: चुनाव कार्य में लापरवाही बरतने वाले 9 कर्मियों पर प्राथमिकी दर्ज||बंगाल की खाड़ी में बन रहे लो प्रेशर का झारखंड में असर, ऑरेंज अलर्ट जारी, झमाझम बारिश से लोगों को गर्मी से मिली राहत
Sunday, May 26, 2024
देश-विदेश

नक्सलियों की अब खैर नहीं ! सैटेलाइट ट्रैकर का होगा इस्तेमाल, बड़े ऑपरेशन की तैयारी

सुरक्षा बल नक्सल प्रभावित इलाकों में अपनी पैठ लगातार मजबूत करने में लगे हैं। सुरक्षाबलों के जवानों ने मांद में घुसकर नक्सलियों के खिलाफ बड़े ऑपरेशन की योजना तैयार की है।

प्राप्त जानकारी के अनुसार सुरक्षा बल उपग्रहों से संचालित होने वाले सैटेलाइट ट्रैकर के माध्यम से काम करेंगे। जंगलों में नक्सलियों को ढूंढ़ना बेहद मुश्किल होता है। इसलिए अब अत्याधुनिक ड्रोन के साथ-साथ सैटेलाइट से लाइव तस्वीरों का इस्तेमाल किया जाएगा। आपको बता दें कि अभी भी झारखंड और छत्तीसगढ़ के कई इलाकों में खूंखार नक्सली मौजूद है।

कैसे काम करता है सैटेलाइट ट्रैकर :-

सैटेलाइट के माध्यम से किसी भी एक स्थान की लाइव तस्वीरें खींची जाएगी। फिर इन तस्वीरों को सुरक्षा बलों के नियंत्रण कक्ष तक उपलब्ध कराई जाएंगी। उसके बाद नक्सलियों के खिलाफ ऑपरेशन में उन तस्वीरों को सुरक्षा बलों को साझा किया जाएग, जहां नक्सलियों की मौजूदगी है। इसके साथ ही रास्ते की सटीक जानकारी के लिए भी इसका उपयोग किया जाएगा। ताकि ऑपरेशन के बाद जवान जंगल में न भटकें और उन्हें सही रास्ता मिल सके।