Breaking :
||झारखंड के 248 पारा शिक्षक गायब, 232 ने छोड़ी नौकरी, 5 दिसंबर तक मिला मौका||झारखंड में छह साल से नहीं हुई जेटेट परीक्षा, हाईकोर्ट में याचिका दायर||मुख्यमंत्री के प्रेस सलाहकार समेत चार के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी||मुख्यमंत्री विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा को नहीं मिली जमानत||लातेहार: बालूमाथ में कोयला कारोबारियों से व्हाट्सएप कॉल कर रंगदारी मांगने वाला TSPC का एरिया कमांडर गिरफ्तार, भेजा जेल||हेमंत सरकार तीन वर्ष पूरे होने पर सुखाड़ प्रभावित 22 जिलों के किसानों को देगी तोहफा, आवेदन शुरू||झारखंड: ऑनलाइन गेम में मिली हार से परेशान बच्चे ने कर ली खुदकुशी, माता-पिता हो जायें सावधान!||पलामू में नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म, वीडियो वायरल करने की धमकी देकर किया शारीरिक शोषण||बूढ़ा पहाड़ से फिर मिले 12 केन IED बम, किया गया नष्ट||सीओ हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ होगी ACB जांच, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी

अप्रैल 2022 से महंगा हो जाएगा खाना पकाना, दोगुने हो सकते हैं रसोई गैस सिलेंडर के दाम, जानें वजह

LPG Cylinder Price Hike: वैश्विक स्तर पर गैस की किल्लत होने से न सिर्फ रसोई गैस महंगी होगी बल्कि सीएनजी (CNG Price Hike), पीएनजी (PNG Price Hike) और बिजली की कीमतें (Electricity Price Hike) बढ़ जाएंगी.

नई दिल्ली. पेट्रोल और डीजल के बाद अब रसोई गैस की कीमतें (LPG Price Hike) भी उपभोक्ताओं को झटका देने वाली है. महंगाई की मार से परेशान आम लोगों के लिए अप्रैल 2022 से खाना बनाना महंगा हो सकता है. दरअसल, दुनियाभर में गैस की भारी किल्लत (Global Gas Crunch) हो गई है. अप्रैल में इसका असर भारत पर भी देखने को मिल सकता है. इससे देश में रसोई गैस सिलेंडर के दाम (LPG Cylinder Prices) दोगुनी हो सकती हैं.

वैश्विक स्तर पर गैस की किल्लत होने से न सिर्फ खाना बनाना महंगा हो जाएगा बल्कि सीएनजी (CNG Price Hike), पीएनजी (PNG Price Hike) और बिजली की कीमतें बढ़ (Electricity Price Hike) जाएंगी. वाहन चलाने के साथ फैक्टरियों में उत्पादन की लागत भी बढ़ जाएगी. सरकार के फर्टिलाइजर सब्सिडी बिल (Fertilizer Subsidy Bill) में भी इजाफा होगा. कुल मिलाकर इन सबका असर आम उपभोक्ता पर ही पड़ने वाला है.

मांग के मुताबिक आपूर्ति नहीं

वैश्विक अर्थव्यवस्था कोरोना महामारी के प्रकोप से बाहर निकल रही है. इसके साथ ही दुनियाभर में ऊर्जा की मांग बढ़ रही है. लेकिन, मांग बढ़ने के साथ इसकी आपूर्ति के लिए ठोस कदम नहीं उठाए गए. इससे गैस की कीमतों में काफी तेजी आई है.

पहले ही ज्यादा कीमत चुका रहा उद्योग

उद्योग के जानकारों का कहना है कि लॉन्ग टर्म कॉन्ट्रैक्ट्स की वजह से घरेलू उद्योग पहले से ही आयातित एलएनजी (LNG) के लिए ज्यादा कीमत चुका रहा है. लॉन्ग टर्म कॉन्ट्रैक्ट्स में कीमत कच्चे तेल से जुड़ी हुई हैं. उद्योग ने स्पॉट मार्केट से खरीदारी कम कर दी है, जहां कई महीनों से कीमतों में आग लगी हुई है.

घरेलू कीमतों में बदलाव के बाद दिखेगा असर

वैश्विक स्तर गैस की कमी का असर अप्रैल से दिखने लगेगा, जब सरकार नेचुरल गैस की घरेलू कीमतों में बदलाव करेगी. जानकारों का कहना है कि इसे 2.9 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू से बढ़ाकर 6 से 7 डॉलर किया जा सकता है. रिलायंस इंडस्ट्रीज के मुताबिक, गहरे समुद्र से निकलने वाली गैस की कीमत 6.13 डॉलर से बढ़कर करीब 10 डॉलर हो जाएगी. कंपनी अगले महीने कुछ गैस की नीलामी करेगी. इसके लिए उसने फ्लोर प्राइज को क्रूड ऑयल से जोड़ा है, जो अभी 14 डॉलर प्रति एमएमबीटीयू है.

15 रुपये प्रति किलो तक बढ़ेंगे दाम

देश में घरेलू नेचुरल गैस की कीमतें हर साल अप्रैल और अक्टूबर में तय होती हैं. अप्रैल की कीमत जनवरी से दिसंबर 2021 की अंतरराष्ट्रीय कीमतों पर आधारित होगी. इंद्रप्रस्थ गैस लिमिटेड के निदेशक एके जेना के मुताबिक, घरेलू नेचुरल गैस की कीमत में एक डॉलर की तेजी पर सीएनजी की कीमत 4.5 रुपये प्रति किलो बढ़ जाएगी. इसकी मतलब है कि सीएनजी की कीमत में 15 रुपये प्रति किलो तक इजाफा हो सकता है.

LPG Cylinder Price Hike


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *