भारत में बच्चों को जल्द मिल सकती है कोरोना वैक्सीन, थर्ड स्टेज पर पहुंचा Zydus-Cadila का ट्रायल

देशभर में कोरोना की दूसरी लहर की रफ्तार फिलहाल थमी हुई है लेकिन एक्सपर्ट्स की मानें तो हमें अभी इस वायरस की तीसरी लहर का सामना करना पड़ सकता है. माना जा रहा है कि कोरोना की तीसरी लहर बच्चों को चपेट में ले सकती है. वहीं दूसरी तरफ 12 से 18 साल के बच्चों पर कोविड वैक्सीन का टेस्ट कर रही अहमदाबाद स्थित जायडस कैडिला (Zydus Cadila) ग्रुप जल्द ही भारत के ड्रग कंट्रोलर जनरल से अपनी वैक्सीन के लिए इमरजेंसी इस्तेमाल की अनुमति की मांग कर सकती है. बिजनेस स्टैंडर्ड के मुताबिक, अगर केडिला को इस टेस्ट की मंजूरी मिल जाती है, तो यह दुनिया का पहला DNA-plasmid कोविड वैक्सीन होगा. वहीं सरकार और कंपनी के सूत्रों ने पुष्टि की कि अहमदाबाद स्थित फर्म लगभग एक सप्ताह में ड्रग रेगुलेटर से एमरजेंसी उपयोग की अनुमति की मांग कर सकती है.

एक सरकारी अधिकारी ने अखबार के हवाले से कहा कि कैडिला की बच्चों पर परीक्षण वाली वैक्सीन टेस्टिंग के तीसरे चरण पर पहुंच गई है. कंपनी जल्द ही अपने टीके के लिए EUA की तलाश कर सकती है. कंपनी की तैयारी अपनी वैक्सीन के लिए जून या जुलाई के अंत तक इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी पाने की है.

वैक्सीन बच्चों पर होगा असरदार

कंपनी के डायरेक्टर पटेल ने कहा, ” वैक्सीन बनाने की शुरुआत हमेशा बड़े उम्र के लोंगो से की जाती है. इसके बाद युवा और फिर बच्चों के लिए वैक्सीन तैयार की जाती है. उन्होंने कहा कि हमारी वैक्सीन बच्चों के लिए ज्यादा फायदेमंद होगी. अबतक किए गए टेस्ट में कोई साइड इफेक्ट देखने को नहीं मिला है. इस वैक्सीन का दूसरा फायदा ये है कि इसमें इंजेक्शन की जरूरत नहीं पड़ती है.”

2-8 डिग्री सेल्सियस के बीच कर सकेंगे स्टोर

ZyCov-D, अहमदाबाद स्थित Zydus-Cadila द्वारा विकसित एक वैक्सीन है. इस वैक्सीन में खास ये है कि यह मानव कोशिकाओं को SARS-CoV-2 एंटीजन बनाने के लिए एक इम्यून रिस्पॉन्स प्राप्त करने के निर्देश देने के लिए प्लास्मिड डीएनए का उपयोग करता है. इसलिए, इसे वैक्सीन को 2-8 डिग्री सेल्सियस के बीच स्टोर कर रखा जा सकता है, जबकि फाइजर-बायोएनटेक वैक्सीन को -70 डिग्री सेल्सियस या कम से कम -15 से -25 डिग्री सेल्सियस तक कोल्ड-चेन रखरखाव की आवश्यकता होती है.

Leave a Reply