Breaking :
||घास काटने गयी 50 वर्षीय महिला के साथ पुलिसकर्मियों ने की हैवानियत, गैंगरेप के बाद गुप्तांग पर पैरों से हमला||लातेहार: कठपुलिया लूट का चंद घंटों में खुलासा, चार लुटेरे हथियार व सामान के साथ गिरफ्तार||दुमका में फिर सनकी प्रेमी ने युवती को जिंदा जलाया, रिम्स पहुंचने से पहले हुई मौत||पलामू में जन वितरण प्रणाली दुकानदार की गोली मारकर हत्या, पुलिस कर रही जांच||लातेहार: युवक हत्याकांड का खुलासा, भाभी ने ही करा दी देवर की हत्या, दो आरोपी गिरफ्तार||थर्ड रेल लाइन निर्माण कार्य में लगी कंपनी के साइट पर नक्सलियों का उत्पात, फायरिंग कर जेसीबी में लगायी आग||दुर्गा पूजा पर आयोजित कार्यक्रम देख लौट रही नाबालिग से सामूहिक दुष्कर्म||हजारीबाग: तीर्थयात्रियों से भरे बस और ट्रक की सीधी टक्कर में 4 की मौत, 30 घायल||लातेहार: ढाबा चलाने की आड़ में अफीम व डोडा पाउडर बेचने के आरोप में ढाबा संचालक गिरफ्तार||रांची: गैस रिफिलिंग की दुकान में रखे सिलेंडर में हुए विस्फोट से चार दुकानें जलकर राख

मनिका में महिलाओं ने की महिला थाने की मांग

'

लातेहार : अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर ग्राम स्वराज मजदूर संघ की ओर से मनिका में एक रैली एवं सम्मेलन का आयोजन किया गया। हाई स्कूल मैदान से रैली निकाली गई, जो मनिका प्रखंड कार्यालय परिसर में पहुंची और जागरूकता सम्मेलन में बदल गई। सम्मेलन में नुक्कड़ नाटक और हिंसा और लैंगिक भेदभाव पर पारंपरिक सांस्कृतिक कार्यक्रम पेश कर महिलाओं के अधिकारों के प्रति जागरूक किया गया।

इस मौके पर नामुदाग पंचायत की मुखिया श्यामा सिंह ने कहा कि आज महिलाओं को आजादी मिली है तो यह हम सभी महिलाओं के संघर्ष से ही संभव हो पाया है। अब हमें और अधिक अधिकारों के लिए लड़ने की जरूरत है। आज भी महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। महिलाओं की सुरक्षा के लिए अभी भी संघर्ष की जरूरत है। श्यामा ने झारखंड सरकार से मनिका में महिला थाना बनाने की मांग की। कहा कि मनिका में महिला थाना न होने से महिलाओं को परेशानी का सामना करना पड़ रहा है।

महिला नेता सोनमती ने कहा कि सरकार महिलाओं के लिए सरकारी योजनाएं चला रही है, लेकिन योजनाओं की जानकारी के अभाव में योजनाओं का लाभ नहीं मिल पा रहा है।

इसके लिए लोगों को और जागरूक करने की जरूरत है। आज भी समाज में लड़के और लड़कियों के बीच भेदभाव किया जाता है। इसे खत्म करने के लिए हम सभी को जागरूक करना जरूरी है ताकि समाज से लैंगिक भेदभाव को खत्म किया जा सके।

कार्यक्रम में नीलम उरांव, सतनी देवी, लालो देवी, प्रतिमा देवी, मार्टिना भेंगरा समेत कई महिलाओं ने अधिकारों को लेकर अपने विचार व्यक्त किए। कार्यक्रम को सफल बनाने में नरेगा सहायता केंद्र की टीम ने मदद की।


Leave a Reply

Your email address will not be published.