Breaking :
||चतरा डीसी अबु इमरान ने किया एक और सांसद का अपमान, लोकसभा स्पीकर के पास दूसरी बार पहुंची शिकायत||अब झारखंड के प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने में स्थानीय युवाओं की मदद लेगी सरकार||रांची बिरसा मुंडा एयरपोर्ट उड़ाने की धमकी देने वाला आरोपी बिहार से गिरफ्तार||बिहार में सियासी हलचल, नीतीश के पालाबदल की चर्चा, दिल्ली बुलाए गए भाजपा नेता||सुखाड़ को लेकर सरकार गंभीर, स्थिति का जायजा लेने सभी जिलों में भेजे गए अधिकारी||रांची में अपराधियों ने गैस दुकानदार मारी गोली, रिम्स में चल रहा इलाज||माओवादियों के नाम पर लेवी वसूलने आये तीन बदमाश पकड़ाये||झारखंड कैबिनेट में फेरबदल, कांग्रेस के लिए नयी मुसीबत, फूट पड़ने की आशंका बढ़ी||अब लातेहार के इस गांव के ग्रामीणों ने सीमा पर लगाया बोर्ड, बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर रोक||सांगठनिक बदलाव की तैयारी में झारखंड कांग्रेस, अधिकांश जिले में नए चेहरों को मौका

ग्रामीणों ने पैतृक संपत्ति वितरण शिविर में जमीन ऑनलाइन कराकर मिनी सर्वे कराने की मांग

'

पैतृक संपत्ति वितरण शिविर

संजय राम/बारियातू

लातेहार : उपायुक्त के निर्देश पर बारियातू पंचायत सचिवालय में लगाए गए पैतृक संपत्ति वितरण शिविर में गाड़ी व नचना गांव की भूमि को ऑनलाइन करते हुए क्षेत्र में मिनी सर्वे कराने की मांग को लेकर ग्रामीणों ने अंचलधिकारी के नाम एक आवेदन सौंपा है।

शिविर में उपस्थित ग्रामीणों ने आवेदन के माध्यम से बताया है कि गाड़ी व नचना गांव का रैयती खतियानी भूमि ऑनलाइन नहीं होने से जाति, स्थानीय, आय प्रमाण पत्र नहीं बनने के साथ-साथ जमीन की खरीद बिक्री नहीं हो पा रही है, जिससे लोगों को काफी परेशानी हो रही है।

नया सर्वे में काफी गड़बड़ी होने की बात को बताते हुए ग्रामीणों ने कहा कि नया सर्वे में नाम किसी का और जमीन किसी का कर दिया गया है। जिससे गरीब गुरबे मजदूर लोगों को कोर्ट कचहरी का चक्कर लगाना पड़ रहा है। इससे काफी विवाद की स्थिति उत्पन्न हो गई है। गड़बड़ वाली सर्वे को रद्द करते हुए पुनः मिनी सर्वे कराने की ग्रामीणों ने मांग की है।

आलम यह है की नया सर्वे में त्रुटि के कारण गैरमौजरूआ भूमि को बिहार सरकार, गैरमजूरवा भूमि की रसीद नहीं काटना, 1932 की खतियातन के आधार पर गैरमजूरवा भूमि को रैयती कर कागज मे ही खरीद बिक्री कर मुलवासियों को परेशान किया जा रहा है जिससे भयावह स्थित उत्पन्न होने की संभावनाबन रही है। कई गरीब परिवार भूमिहीन होने के कगार पर भी है।

आवेदन मे बताया की बैगा पाहन को व्यक्तिगत मालिकाना हक़ नहीं दिया जाय। क्योंकि व्यक्तिगत मालिकाना हक दिए जाने से वैध तरीके से भूमि बिक्री कर दिया जा रहा है। जिससे देवी देवताओं को पूजा करने वाले बैगा पाहन का अस्तित्व नहीं बच पायेगा!

पीड़ित लोगों ने हस्ताक्षर युक्त आवेदन के माध्यम से यह भी बताया की पूर्वजों का जमीन नया सर्वे मे अन्य लोगों के नाम पर चला गया है। जिससे कोर्ट कचहरी का चक्कर लगाने को बिवश हैं। नया सर्वे को रद्द कर धरातल में जाकर मिनी सर्वे कराने की ग्रामीणों ने सरकार से मांग की है।

आपको बताते चलें की निष्पक्ष निष्पादन के लिए गत सर्वे या हाल सर्वे को रद्द करना होगा। लातेहार जिला में हाल सर्वे यानि नया सर्वे के बाद जमीन सम्बंधित मामले काफी बढ़ गए हैं। यदि नया सर्वे रद्द नहीं किया गया तो जाहिर सी बात है कि सिर्फ मिनी सर्वे के नाम पर औपचारिकता निभाया जायेगा। ग्रामीणों ने नया सर्वे को रद्द करते हुए मिनी सर्वे कराने की सरकार से मांग की है।

मौके पर सदर मुखिया बारियातू प्रमोद उरांव, प्रखंड बिससूत्री अध्यक्ष राजेन्द्र गंझू , राज्य सभा सांसद प्रतिनिधि सह कांग्रेस प्रखंड अध्यक्ष रिगन कुमार, बढ़ो उरांव, राजू उरांव, प्रदीप उरांव, बिनेस, सुरेश, सुखमनी देवी, मनोज राम, जगु उरांव, महेंद्र प्रसाद सहित काफ़ी संख्या मे ग्रामीणों मौजूद थे।

पैतृक संपत्ति वितरण शिविर


Leave a Reply

Your email address will not be published.