Breaking :
||चतरा डीसी अबु इमरान ने किया एक और सांसद का अपमान, लोकसभा स्पीकर के पास दूसरी बार पहुंची शिकायत||अब झारखंड के प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने में स्थानीय युवाओं की मदद लेगी सरकार||रांची बिरसा मुंडा एयरपोर्ट उड़ाने की धमकी देने वाला आरोपी बिहार से गिरफ्तार||बिहार में सियासी हलचल, नीतीश के पालाबदल की चर्चा, दिल्ली बुलाए गए भाजपा नेता||सुखाड़ को लेकर सरकार गंभीर, स्थिति का जायजा लेने सभी जिलों में भेजे गए अधिकारी||रांची में अपराधियों ने गैस दुकानदार मारी गोली, रिम्स में चल रहा इलाज||माओवादियों के नाम पर लेवी वसूलने आये तीन बदमाश पकड़ाये||झारखंड कैबिनेट में फेरबदल, कांग्रेस के लिए नयी मुसीबत, फूट पड़ने की आशंका बढ़ी||अब लातेहार के इस गांव के ग्रामीणों ने सीमा पर लगाया बोर्ड, बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर रोक||सांगठनिक बदलाव की तैयारी में झारखंड कांग्रेस, अधिकांश जिले में नए चेहरों को मौका

लातेहार: चांद का हुआ दीदार, कल से माह-ए-रमजान शुरू

'

लातेहार : रमजान के पवित्र महीने की तैयारियों को अंतिम रूप देने में मुस्लिम धर्मावलंबी जुटे हुए हैं। आज रमजान के महीने का चांद नजर आया। रविवार से रोजा शुरू हो जाएगा। यह रोजा पूरे एक माह तक चलेगा। आस्था, निष्ठा और पवित्रता का यह पर्व बहुत ही महत्वपूर्ण है। रमजान को लेकर लोगों में खासा उत्साह है।

तरावीह को लेकर खास तैयारी की जा रही है। शहर की सभी मस्जिदों में तरावीह होगी। इसके अलावा 10 से 15 अन्य जगहों पर भी इसका आयोजन किया जाएगा। इफ्तार और सेहरी को लेकर बाजार में फलों की दुकानें सजने लगी हैं। इस बार रमजान का पूरा महीना भीषण गर्मी में बीतेगा। गर्मी को देखते हुए खान-पान का खास ख्याल रखा जा रहा है।

इसे भी पढ़ें :- नक्सलियों की अब खैर नहीं ! सैटेलाइट ट्रैकर का होगा इस्तेमाल, बड़े ऑपरेशन की तैयारी

चौदह से पंद्रह घंटे का निर्जल व्रत बहुत कठिन होता है। लेकिन फिर भी लोगों में खुशी का माहौल है। रमजान का महीना रहमत और बरकत का है। यही कारण है कि मुस्लिम धर्मावलंबी पूरा महीना इबादत में बिताते हैं। पांच वक्ता नमाज के साथ कसरत के जरिए कुरान का पाठ करते हैं।

रमजान के इस महीने को तीन हिस्सों में बांटा गया है। यानी एक से दस दिन तक रहमत का अशरा होता है, ग्यारह से बीस तक बरकत का अशरा होता है, और इक्कीस से तीस तक मगफिरत का अशरा होता है। रमजान में नमाज का बहुत महत्व होता है। यही वजह है कि लोग इबादत के साथ जकात भी निकालते हैं। जकात का अर्थ है जमा पूंजी का दो या ढाई प्रतिशत गरीबों में दान करना।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

लातेहार रमजान शुरू