Breaking :
||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला||चतरा लोकसभा: भाजपा और कांग्रेस के बीच सीधी टक्कर, फैसला जनता के हाथ||भाजपा की मोटरसाइकिल रैली पर पथराव, कार्यकर्ताओं के साथ मारपीट, कई घायल||झारखंड की तीन लोकसभा सीटों पर चुनाव प्रचार थमा, 20 मई को वोटिंग||पिता के हत्यारे बेटे की निशानदेही पर हत्या में प्रयुक्त बंदूक बरामद समेत पलामू की तीन ख़बरें||चतरा लोकसभा क्षेत्र के नक्सल प्रभावित इलाके में नौ बूथों का स्थान बदला, जानिये||झारखंड हाई कोर्ट में 20 मई से ग्रीष्मकालीन अवकाश||पलामू: हार्डकोर इनामी माओवादी नीतेश के दस्ते का सक्रिय सदस्य गिरफ्तार||लातेहार: 65 हेली ड्रॉपिंग बूथ के लिए शुभकामनायें लेकर मतदान कर्मी रवाना
Monday, May 20, 2024
लातेहार

लातेहार: चांद का हुआ दीदार, कल से माह-ए-रमजान शुरू

लातेहार : रमजान के पवित्र महीने की तैयारियों को अंतिम रूप देने में मुस्लिम धर्मावलंबी जुटे हुए हैं। आज रमजान के महीने का चांद नजर आया। रविवार से रोजा शुरू हो जाएगा। यह रोजा पूरे एक माह तक चलेगा। आस्था, निष्ठा और पवित्रता का यह पर्व बहुत ही महत्वपूर्ण है। रमजान को लेकर लोगों में खासा उत्साह है।

तरावीह को लेकर खास तैयारी की जा रही है। शहर की सभी मस्जिदों में तरावीह होगी। इसके अलावा 10 से 15 अन्य जगहों पर भी इसका आयोजन किया जाएगा। इफ्तार और सेहरी को लेकर बाजार में फलों की दुकानें सजने लगी हैं। इस बार रमजान का पूरा महीना भीषण गर्मी में बीतेगा। गर्मी को देखते हुए खान-पान का खास ख्याल रखा जा रहा है।

इसे भी पढ़ें :- नक्सलियों की अब खैर नहीं ! सैटेलाइट ट्रैकर का होगा इस्तेमाल, बड़े ऑपरेशन की तैयारी

चौदह से पंद्रह घंटे का निर्जल व्रत बहुत कठिन होता है। लेकिन फिर भी लोगों में खुशी का माहौल है। रमजान का महीना रहमत और बरकत का है। यही कारण है कि मुस्लिम धर्मावलंबी पूरा महीना इबादत में बिताते हैं। पांच वक्ता नमाज के साथ कसरत के जरिए कुरान का पाठ करते हैं।

रमजान के इस महीने को तीन हिस्सों में बांटा गया है। यानी एक से दस दिन तक रहमत का अशरा होता है, ग्यारह से बीस तक बरकत का अशरा होता है, और इक्कीस से तीस तक मगफिरत का अशरा होता है। रमजान में नमाज का बहुत महत्व होता है। यही वजह है कि लोग इबादत के साथ जकात भी निकालते हैं। जकात का अर्थ है जमा पूंजी का दो या ढाई प्रतिशत गरीबों में दान करना।

लातेहार की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

लातेहार रमजान शुरू