Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में कोयला कारोबारियों से व्हाट्सएप कॉल कर रंगदारी मांगने वाला TSPC का एरिया कमांडर गिरफ्तार, भेजा जेल||हेमंत सरकार तीन वर्ष पूरे होने पर सुखाड़ प्रभावित 22 जिलों के किसानों को देगी तोहफा, आवेदन शुरू||झारखंड: ऑनलाइन गेम में मिली हार से परेशान बच्चे ने कर ली खुदकुशी, माता-पिता हो जायें सावधान!||पलामू में नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म, वीडियो वायरल करने की धमकी देकर किया शारीरिक शोषण||बूढ़ा पहाड़ से फिर मिले 12 केन IED बम, किया गया नष्ट||सीओ हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ होगी ACB जांच, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी||राज्य के अधिकारी करेंगे झारखंड के सरकारी स्कूलों का दौरा, देखिये किस अधिकारी को मिली किस जिले की जिम्मेदारी||मानव तस्करी के शिकार झारखंड के 14 बच्चों को दिल्ली से कराया गया मुक्त||केंद्र की झारखंड को चेतावनी, कहा- डीवीसी का बकाया चुकाओ, नहीं तो जारी रहेगी बिजली कटौती||लातेहार: छिपादोहर में अज्ञात अपराधियों ने की फायरिंग, गोली लगने से महिला घायल, रेफर

लातेहार: सीमाखास के ग्रामीणों ने लगाया नाली निर्माण कार्य में गड़बड़ी का आरोप, प्रशासन से मरम्मत कराने की मांग

garu latehar news

\गोपी कुमार सिंह/लातेहार

लातेहार : जिले के गारू प्रखंड में भ्रष्टाचार, फर्जीवाड़ा कम होने का नाम नही ले रहा है. इसका मुख्य कारण है कि सरकारी बाबू इन मसलों पर मौन रहते है. उक्त बातें गारू प्रखंड के रुद पंचायत अंतर्गत सिमाखास निवासी शांतु लकड़ा ने कहा है.

शांतु लकड़ा ने बताया कि गारू प्रखंड के रुद पंचायत अन्तर्गत सीमाखास में 14वित्त से पति लोहरा के बांध से खेतों तक पानी पहुंचाने के इरादे से नाली का निर्माण कराया गया था.

लेकिन निर्माण कार्य में घटिया सामग्री का उपयोग किया गया है. जबकि निर्माण कार्य मे मानकों की भी अनदेखी की गई है. लिहाज़ा नाली का फायदा ग्रामीणों को नही मिल पा रहा है. हालिया स्थिति यह है कि उक्त नाली अब मलबा में तब्दील हो चुका है.

इस नाली का निर्माण वर्ष 2017 के मई-जून के महीने में कराया गया था. लेक़िन निर्माण कार्य सही ढंग से नही होने के कारण उस वक्त वार्ड सदस्य शुशाना देवी ने इसका विरोध कर संवेदक पर नाली निर्माण कार्य मे अनियमितता बरतने का आरोप लगाते हुए मामला की जांच करवाने की मांग की थी.

बल्कि वार्ड सदस्य ने जनता दरबार मे लिखित रूप से इस मामले की शिकायत की थी. लेकिन इस मामले पर जनता दरबार मे कोई सुनवाई नही हुई। इस योजना की लागत राशि लगभग 2, 32, 600 रु है. शांतु लकड़ा का आरोप है कि उक्त राशि का पूरी तरह बंदरबांट कर लिया गया है.

आरोप है कि इस योजना में अजय मिंज को अध्यक्ष बनाया गया था. लेकिन बिना अध्यक्ष के हस्ताक्षर के ही उक्त राशि की निकासी कर ली गयी है. ग्रामीणों ने जिला प्रशासन से मांग की है कि उक्त मामले की जांच करते हुए मरम्मत कराने की मांग की है. ताकि ग्रामीण नाली के सहारे खेतो में पानी पटवन कर सके.

बता दे कि हाल में भी गारू प्रखंड क्षेत्र के रुद, कोटाम समेत दूसरे पंचायतों में 14 वित्त की राशि से कई योजनाओं का निर्माण कार्य कराया जा रहा है. लेकिन उन कार्यों में बिचौलिए के द्वारा अनियमितता बरती जा रही है. अगर हाल के दिनों में रुद और कोटाम पंचायत में संचालित 14वें वित्त योजना की जांच होती है. भारी अनियमितता का खुलासा हो सकता है.

garu latehar news

https://thenewssense.in/category/latehar

https://www.facebook.com/newssenselatehar


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *