Breaking :
||ED की रिमांड अवधि के दौरान मंत्री आलमगीर आलम का बीपी और शुगर लेवल हाई, स्ट्रेस भी बढ़ा||पलामू: पत्नी के सामने फंदे से झूल गया पति, लगातार झगड़ों से था परेशान||ED ने अब झारखंड सरकार के दो और मंत्रियों को पूछताछ के लिए बुलाया, सियासी गलियारों में हलचल||पुलिस के साथ मुठभेड़ में मारा गया माओवादी एरिया कमांडर बुधराम मुंडा||लोहरदगा में निर्माणाधीन कुआं धंसने से चार मजदूरों की दबकर मौत||भाजपा प्रदेश प्रवक्ता का इंडी गठबंधन पर हमला, कहा- कोड वर्ड के जरिये बेच दिया झारखंड को||टेंडर कमीशन देने में पांकी के ठेकेदार का भी नाम : शशिभूषण मेहता||टेंडर घोटाले की जांच में पूर्व मंत्री आलमगीर आलम नहीं कर रहे सहयोग : ED||पांचवें चरण में 63.21 फीसदी वोटिंग, पुरुषों से ज्यादा रही महिलाओं की भागीदारी||गढ़वा: शादी समारोह में शामिल होने जा रही मां-बेटी की सड़क हादसे में मौत, बेटा और बेटी की हालत नाजुक
Thursday, May 23, 2024
गारूलातेहार

शादी के एक साल बाद पति ने छोड़ा हाथ, 7 माह की बच्ची के साथ झोपड़ी में रहने को विवश आदिम जनजाति परिवार की बेटी

गोपी कुमार सिंह/लातेहार

लातेहार : जिले के गारू थाना क्षेत्र के रुद पंचायत के बारीबांध गांव से एक अजीबोगरीब मामला सामने आया है। जहां शादी के महज एक साल बाद ही एक विवाहिता को उसके पति ने सात माह की बच्ची के साथ अकेला छोड़ दिया है। विवाहित महिला एक आदिम आदिवासी परिवार से ताल्लुक रखती है और उसका नाम प्रीति है। इस बात का खुलासा खुद पीड़िता ने किया है।

दरअसल, बारीबंध गांव में रहने वाले आदिम आदिवासी समुदाय की एक लड़की की शादी एक साल पहले पास के हेंदेहास गांव के रहने वाले अनदीप उरांव के साथ हुई थी। लेकिन शादी के एक साल बाद ही बिना वजह अनदीप ने उसे छोड़ दिया।

हालांकि पति के इस रवैये के बाद अब महिला ने भी अनदीप के साथ नहीं रहने का फैसला किया है। लेकिन वह चाहती है कि अनदीप उसके और उसकी सात महीने की बच्ची के भरण-पोषण का खर्च वहन करे।

बातचीत के दौरान महिला ने द न्यूज सेंस संवाददाता को बताया कि वह अब अनदीप के साथ नहीं रहना चाहती। वह अब अंदीप के साथ रहने से डर रही है। उसने बताया कि अनदीप से शादी के बाद एक बच्ची का जन्म हुआ है, जिसकी उम्र सात महीने है। जिसके साथ झोंपड़ी जैसे घर में रहने को मजबूर है।

महिला ने बताया कि वह चाहती है कि पति से घर के खर्च और बच्चे के पालन-पोषण के लिए उसे हर महीने अनदीप से कुछ पैसे मिले। साथ ही वह सरकार से मदद के तौर पर प्रधानमंत्री आवास की उम्मीद करती है।

फिलहाल महिला का पेट भरने वाला कोई नहीं है। वह किसी तरह अपनी दुधमुंही बच्ची को पीठ में बांधकर मजदूरी कर घर का खर्चा चला रही है। लेकिन अब बढ़ती महंगाई के बीच उनका धैर्य दम तोड़ रहा है। मजदूरी से मिले पैसों से घर का खर्च चलाना उसके लिए नाकाफी साबित हो रहा है।

अब महिला न तो अपने पति के साथ रहना चाहती है और न ही उसपर कोई कानूनी कार्रवाई को तैयार है। ऐसे में प्रीति बस यही चाहती हैं कि अगर उन्हें उनके पति से घर के खर्चे के लिए कुछ पैसे मिले और सरकार की तरफ से प्रधानमंत्री आवास का लाभ मिले तो वह अपनी बाकी की जिंदगी गुजार लेगी।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *