Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Sunday, June 16, 2024
बरवाडीहलातेहार

रामनवमी से पहले बरवाडीह व सरईडीह बाजार में जर्जर बिजली तार बदलने की मांग

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : बरवाडीह प्रखंड मुख्यालय के बाजार से बस स्टैंड के बीच और सरईडीह संपूर्ण बाजार में विद्युत आपूर्ति को लेकर जर्जर तार लगातार दुर्घटनाओं का आमंत्रण दे रही है। प्रखंड मुख्यालय के बाजार से बस स्टैंड के बीच कई बार जर्जर तार टूट कर गिर चुके है।

वही एक सप्ताह पूर्व सरईडीह बाजार में जर्जर तार गिरने के कारण 1 पशु की मौत होने के साथ-साथ कई लोग भी तार की चपेट में आने से बाल-बाल बचे थे।

जिसको लेकर प्रखण्ड की महिला समाजसेवी औऱ अपना अधिकार अपना सम्मान मंच की सचिव सन्तोषी शेखर ने पत्र और अन्य माध्यमों से राज्य के मुख्यमंत्री और उपायुक्त से जर्जर तार को रामनवमी के पूर्व बदलने की मांग की है। ताकि भविष्य में कोई दुर्घटना ना हो।

साथ ही बिजली के तार को प्लास्टिक कवर वाली तार लगाने की भी मांग की गई है। ताकि वह पूरी तरह से सुरक्षित हो सके।

सन्तोषी शेखर ने कहा प्रखंड मुख्यालय का बाजार से बस स्टैंड और सरईडीह बाज़ार पूरा भीड़भाड़ वाला इलाका है और इस बीच वर्षों से विद्युत विभाग के जर्जर तार का टूट जाना बड़ी दुर्घटना को आमंत्रण देने के साथ विभाग की लापरवाही को दिखाता है। इसके लिए उपायुक्त को संज्ञान लेना चाहिए और कोई बड़ी दुर्घटना ना हो इसके पहले विभाग को सचेत करना चाहिए। इसी उद्देश्य ध्यान आकर्षित कराने का प्रयास किया जा रहा है।