Breaking :
||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 28 फरवरी को आयेंगी रांची, सुरक्षा के रहेंगे कड़े इंतजाम||झारखंड: अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर युवती से किया दुष्कर्म, धर्म परिवर्तन कराकर जबरन करा दी शादी||लातेहार: बालूमाथ में लोडेड देशी पिस्टल के साथ दो युवक गिरफ्तार, कार जब्त||पीएम मोदी ने समुद्र में लगायी डुबकी, जलमग्न कृष्ण की नगरी द्वारका को देखा||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल
Monday, February 26, 2024
बरवाडीहलातेहार

रामनवमी से पहले बरवाडीह व सरईडीह बाजार में जर्जर बिजली तार बदलने की मांग

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : बरवाडीह प्रखंड मुख्यालय के बाजार से बस स्टैंड के बीच और सरईडीह संपूर्ण बाजार में विद्युत आपूर्ति को लेकर जर्जर तार लगातार दुर्घटनाओं का आमंत्रण दे रही है। प्रखंड मुख्यालय के बाजार से बस स्टैंड के बीच कई बार जर्जर तार टूट कर गिर चुके है।

वही एक सप्ताह पूर्व सरईडीह बाजार में जर्जर तार गिरने के कारण 1 पशु की मौत होने के साथ-साथ कई लोग भी तार की चपेट में आने से बाल-बाल बचे थे।

जिसको लेकर प्रखण्ड की महिला समाजसेवी औऱ अपना अधिकार अपना सम्मान मंच की सचिव सन्तोषी शेखर ने पत्र और अन्य माध्यमों से राज्य के मुख्यमंत्री और उपायुक्त से जर्जर तार को रामनवमी के पूर्व बदलने की मांग की है। ताकि भविष्य में कोई दुर्घटना ना हो।

साथ ही बिजली के तार को प्लास्टिक कवर वाली तार लगाने की भी मांग की गई है। ताकि वह पूरी तरह से सुरक्षित हो सके।

सन्तोषी शेखर ने कहा प्रखंड मुख्यालय का बाजार से बस स्टैंड और सरईडीह बाज़ार पूरा भीड़भाड़ वाला इलाका है और इस बीच वर्षों से विद्युत विभाग के जर्जर तार का टूट जाना बड़ी दुर्घटना को आमंत्रण देने के साथ विभाग की लापरवाही को दिखाता है। इसके लिए उपायुक्त को संज्ञान लेना चाहिए और कोई बड़ी दुर्घटना ना हो इसके पहले विभाग को सचेत करना चाहिए। इसी उद्देश्य ध्यान आकर्षित कराने का प्रयास किया जा रहा है।