Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

रामनवमी से पहले बरवाडीह व सरईडीह बाजार में जर्जर बिजली तार बदलने की मांग

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : बरवाडीह प्रखंड मुख्यालय के बाजार से बस स्टैंड के बीच और सरईडीह संपूर्ण बाजार में विद्युत आपूर्ति को लेकर जर्जर तार लगातार दुर्घटनाओं का आमंत्रण दे रही है। प्रखंड मुख्यालय के बाजार से बस स्टैंड के बीच कई बार जर्जर तार टूट कर गिर चुके है।

वही एक सप्ताह पूर्व सरईडीह बाजार में जर्जर तार गिरने के कारण 1 पशु की मौत होने के साथ-साथ कई लोग भी तार की चपेट में आने से बाल-बाल बचे थे।

जिसको लेकर प्रखण्ड की महिला समाजसेवी औऱ अपना अधिकार अपना सम्मान मंच की सचिव सन्तोषी शेखर ने पत्र और अन्य माध्यमों से राज्य के मुख्यमंत्री और उपायुक्त से जर्जर तार को रामनवमी के पूर्व बदलने की मांग की है। ताकि भविष्य में कोई दुर्घटना ना हो।

साथ ही बिजली के तार को प्लास्टिक कवर वाली तार लगाने की भी मांग की गई है। ताकि वह पूरी तरह से सुरक्षित हो सके।

सन्तोषी शेखर ने कहा प्रखंड मुख्यालय का बाजार से बस स्टैंड और सरईडीह बाज़ार पूरा भीड़भाड़ वाला इलाका है और इस बीच वर्षों से विद्युत विभाग के जर्जर तार का टूट जाना बड़ी दुर्घटना को आमंत्रण देने के साथ विभाग की लापरवाही को दिखाता है। इसके लिए उपायुक्त को संज्ञान लेना चाहिए और कोई बड़ी दुर्घटना ना हो इसके पहले विभाग को सचेत करना चाहिए। इसी उद्देश्य ध्यान आकर्षित कराने का प्रयास किया जा रहा है।