Breaking :
||झारखंड में IAS अधिकारियों का तबादला, केके सोन को परिवहन विभाग का अतिरिक्त प्रभार||बूढ़ा पहाड़ पहुंचे CRPF के DG कुलदीप सिंह, जवानों का बढ़ाया हौसला||वर्चस्व की लड़ाई में मारा गया JJMP कमांडर, लातेहार, रामगढ़ और रांची इलाके में था सक्रिय||शर्मनाक: पुलिस कर्मी पर जानवर से दुष्कर्म का आरोप, ग्रामीणों ने की मारपीट, आरोपी जवान निलंबित||BREAKING: पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में घायल सीआरपीएफ जवान की इलाज के दौरान मौत||15 लाख का इनामी माओवादी कमांडर विनय यादव गिरफ्तार, पलामू, लातेहार, गढ़वा व चतरा में हुए कई नक्सली हमलों में था शामिल||पलामू: अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार दो युवकों की मौत, एक गंभीर||नहीं रहे कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव, दिल्ली एम्स में निधन, हार गए जिंदगी की जंग||बालूमाथ में राजद नेता पर जानलेवा हमला, गंभीर हालत में रिम्स रेफर||झारखंड में 50 हजार शिक्षकों समेत अन्य पदों पर बहाली की प्रक्रिया हो रही शुरू, अब एक लाख रुपए तक के लोन पर नहीं देनी होगी कोई गारंटी : मुख्यमंत्री

बालूमाथ: 9 सूत्री मांगों को लेकर हड़ताल पर गयीं आंगनबाड़ी सेविकायें लौटी वापस

'

शशि भूषण गुप्ता/बालूमाथ

लातेहार : झारखंड प्रदेश आंगनवाडी वर्क्स यूनियन के तत्वधान में बालूमाथ बाल विकास परियोजना अंतर्गत पड़ने वाले बालूमाथ, बारियातू तथा हेरंज प्रखंड क्षेत्र के सैकड़ों आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका अपनी 9 सूत्री मांगों को लेकर 5 जुलाई से हड़ताल पर चली गई थी। जो आज 18 जुलाई से वापस लौट गई हैं।

इस संबंध में आंगनबाड़ी सेविकाओं ने इसकी लिखित सूचना मुख्यमंत्री के नाम बालूमाथ स्थित परियोजना कार्यालय के प्रधान सहायक को ज्ञापन सौंपा है।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

उल्लेखनीय है कि ज्ञापन के माध्यम से 11 माह से लंबित मानदेय तत्काल भुगतान करने के साथ-साथ आंगनबाड़ी सेविका सहायिका की नियमावली बनाने, समान काम समान वेतन लागू करने, वर्तमान झारखंड सरकार द्वारा चुनावी घोषणा पत्र में आंगनबाड़ी सेविका को 10000 और सहायिका को ₹8000 देने, सेवानिवृत्त होने पर आर्थिक लाभ एकमुश्त ₹500000 तथा पेंशन लागू करने, लघु आंगनबाड़ी सेविकाओं को आंगनबाड़ी सेविका के बराबर मानदेय देने आदि प्रमुख मांगे हैं।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

मौके पर आगनबाडी वर्क्स यूनियन के संगीता देवी, लक्ष्मी देवी, अंजनी देवी, नंदिनी देवी, सुनीता देवी, बबीता देवी, डोली कुमारी समेत काफी संख्या में आंगनबाड़ी सेविका और सहायिका मौजूद थीं।