Breaking :
||पलामू: मनरेगा कार्य में लापरवाही बरतने के आरोप में दो जेई सेवामुक्त, एक पर कानूनी कार्रवाई करने का निर्देश||हेमंत सरकार पर जमकर बरसे अमित शाह, उखाड़ फेंकने का आह्वान||NDA प्रत्याशी सुनीता चौधरी ने किया नामांकन, बोले सुदेश हेमंत सरकार में व्याप्त भ्रष्टाचार, झूठ और वादों को तोड़ने के मुद्दे पर होगा चुनाव||जमानत अवधि पूरी होने के बाद निलंबित IAS पूजा सिंघल ने किया ED कोर्ट में सरेंडर||एकतरफा प्यार में बाइक सवार मनचले ने स्कूटी सवार युवती को धक्का देकर मार डाला||आजसू ने रामगढ़ विधानसभा सीट से सुनीता चौधरी को मैदान में उतारा||झारखंड में अब मुफ्त नहीं मिलेगा पानी, सरकार को देना होगा 3.80 रुपये प्रति लीटर की दर से वाटर टैक्स||27 फरवरी से 24 मार्च तक झारखंड विधानसभा का बजट सत्र, राज्यपाल की मिली स्वीकृति||लातेहार: ऑपरेशन OCTOPUS के दौरान सुरक्षाबलों को मिली एक और बड़ी सफलता, अत्याधुनिक हथियार समेत भारी मात्रा में विस्फोटक बरामद||लातेहार: बालूमाथ में विवाहिता की गला रेत कर हत्या, जांच में जुटी पुलिस

लातेहार, पलामू सहित झारखण्ड के कई जिलों में हो सकता है बिजली संकट

झारखंड के बिजली उत्पादन संयंत्रों का उत्पादन प्रभावित होने से राज्य में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई है। इससे बिजली संकट गहरा सकता है। राज्य के तीन बिजली संयंत्रों से उत्पादन ठप हो गया है।

इस वजह से लोहरदगा, गुमला, सिमडेगा, खूंटी, जमशेदपुर, चाईबासा, गढ़वा, पलामू, लातेहार और संताल-परगना के क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति बुरी तरह प्रभावित हुई है। शुक्रवार की रात टीवीएनएल की एक इकाई ठप हो गई। यह इकाई 150 मेगावाट बिजली का उत्पादन कर रहा था। यूनिट के बंद होने से 150 मेगावाट बिजली कम हो गई। वहीं दूसरी ओर आधुनिक पावर प्लांट की एक इकाई ठप हो गई। बिजली संयंत्र की दो इकाइयों से लगभग कुल 180 मेगावाट बिजली का उत्पादन होता है।

हालाँकि आधुनिक पावर प्लांट से लगभग 40 से 80 MW बिजली प्राप्त की जा सकती है। जो अन्य दिनों की तुलना में 100 MW कम है। इनलैंड पावर स्टेशन का उत्पादन भी ठप हो गया है । इस पावर प्लांट से राजधानी रांची को 50 MW बिजली मिलती है. तीनों बिजली संयंत्रों के बंद होने से राज्य में पीक Hour में करीब 350 मेगावाट की कमी रही।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *