Breaking :
||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार||लोससभा चुनाव: भाजपा की 195 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, देखें पूरी लिस्ट||सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा||झारखंड विधानसभा: बजट सत्र के अंतिम दिन कई विधेयक पारित||धनबाद: अस्पताल में लगी आग, मची अफरा-तफरी, मरीज और परिजन जान बचाकर भागे
Sunday, March 3, 2024
झारखंड

लातेहार, पलामू सहित झारखण्ड के कई जिलों में हो सकता है बिजली संकट

झारखंड के बिजली उत्पादन संयंत्रों का उत्पादन प्रभावित होने से राज्य में बिजली आपूर्ति प्रभावित हुई है। इससे बिजली संकट गहरा सकता है। राज्य के तीन बिजली संयंत्रों से उत्पादन ठप हो गया है।

इस वजह से लोहरदगा, गुमला, सिमडेगा, खूंटी, जमशेदपुर, चाईबासा, गढ़वा, पलामू, लातेहार और संताल-परगना के क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति बुरी तरह प्रभावित हुई है। शुक्रवार की रात टीवीएनएल की एक इकाई ठप हो गई। यह इकाई 150 मेगावाट बिजली का उत्पादन कर रहा था। यूनिट के बंद होने से 150 मेगावाट बिजली कम हो गई। वहीं दूसरी ओर आधुनिक पावर प्लांट की एक इकाई ठप हो गई। बिजली संयंत्र की दो इकाइयों से लगभग कुल 180 मेगावाट बिजली का उत्पादन होता है।

हालाँकि आधुनिक पावर प्लांट से लगभग 40 से 80 MW बिजली प्राप्त की जा सकती है। जो अन्य दिनों की तुलना में 100 MW कम है। इनलैंड पावर स्टेशन का उत्पादन भी ठप हो गया है । इस पावर प्लांट से राजधानी रांची को 50 MW बिजली मिलती है. तीनों बिजली संयंत्रों के बंद होने से राज्य में पीक Hour में करीब 350 मेगावाट की कमी रही।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *