Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Saturday, April 20, 2024
झारखंड

नक्सलियों के गढ़ बूढ़ा पहाड़ पर सुरक्षाबलों ने बनाया हेलीपैड, सप्लाई चेन बाधित

झारखंड पुलिस ने छत्तीसगढ़ की सीमा से महज डेढ़ किलोमीटर पहले नक्सलियों के गढ़ बूढ़ा पहाड़ पर सुरक्षाबलों के बहराटोली कैंप के पास एक हेलीपैड बनाया है, जहां पुलिस को उतारने, ले जाने, बचाने और उन्हें जिन वस्तुओं की आवश्यकता है उसे पहुंचाने में मदद करती है। इस कैंप से डेढ़ किलोमीटर दूर पुंदाग है, जहां से छत्तीसगढ़ की सीमा मिलती है।

झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ के जवान छत्तीसगढ़ की सीमा के पास नक्सलियों के खिलाफ अभियान चला रहे हैं. सीआरपीएफ, गढ़वा पुलिस और झारखंड जगुआर की स्मॉल एक्शन टीम के जवान यहां के सुरक्षा कैंप में ऑपरेशन में जुटे हैं। पुलिस को जानकारी है कि झारखंड के बूढ़ा पहाड़ में ऑपरेशन तेज होते ही नक्सली छत्तीसगढ़ की सीमा में घुस जाते हैं। ऑपरेशन धीमा होने पर नक्सली फिर झारखंड आ जाते हैं।

झारखंड पुलिस ने हाल ही में कुल्ही में बूढ़ा पहाड़ पर एक और कैंप बनाया है। इस कैंप के बनने से नक्सलियों तक आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति बाधित हो जाएगी। झारखंड पुलिस की इस मुहिम के पीछे और सुरक्षाबलों के कैंप की लोकेशन बदलने का मकसद नक्सलियों की सप्लाई चेन को बाधित करना है।

झारखंड पुलिस को जानकारी है कि बूढ़ा पहाड़ क्षेत्र में अब छोटे-छोटे नक्सली ही बचे हैं। एक बड़ा नक्सली रिजनल कमांडर रवींद्र गंझू है, जो लातेहार, लोहरदगा आदि क्षेत्र में सक्रिय है और बूढ़ा पहाड़ में भी शरण लेता है। पुलिस को उम्मीद है कि रवींद्र गंझू के दस्ते पर कार्रवाई के बाद पूरा इलाका लगभग शांत हो जाएगा, जिसकी घेराबंदी जारी है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

बूढ़ा पहाड़ पर हेलीपैड