Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Wednesday, June 12, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंड

पूजा सिंघल का रहा है विवादों से नाता, जानिए पलामू व चतरा की पूर्व उपायुक्त को

पूजा सिंघल झारखंड की वरिष्ठ अधिकारी हैं. वर्तमान में वे उद्योग एवं खान विभाग में सचिव हैं। इसके अलावा पूजा सिंघल झारखंड राज्य खनिज विकास निगम (जेएसएमडीसी) की अध्यक्ष भी हैं।

आपको बता दें कि इससे पहले भी पूजा सिंघल भाजपा सरकार में कृषि सचिव के पद पर तैनात थीं। पूजा मनरेगा घोटाले के समय खूंटी में डीसी के पद पर तैनात थीं। पूजा सिंघल 2000 बैच की आईएएस अधिकारी हैं।

पूजा सिंघल पर लगे पूर्व आरोप

आईएएस पूजा सिंघल को चतरा, खूंटी और पलामू जिलों में उपायुक्त के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान वित्तीय अनियमितताओं के कई गंभीर आरोपों का सामना करना पड़ा है।

ईडी ने मनरेगा घोटाले के एक मामले में हाईकोर्ट के आदेश पर पूरे मामले की जानकारी से संबंधित पत्र दाखिल किया था.

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

खूंटी में हुए मनरेगा में 18.06 करोड़ रुपये के घोटाले के समय पूजा सिंघल वहां उपायुक्त थीं।

चतरा में भी पूजा सिंघल अगस्त 2007 से 2008 तक डिप्टी कमिश्नर रहीं और वहां भी भ्रष्टाचार का आरोप लगा।

पलामू में उपायुक्त के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान, पूजा सिंघल पर खनन के लिए लगभग 83 एकड़ जमीन एक निजी कंपनी को हस्तांतरित करने का आरोप लगाया गया है।