Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Sunday, June 16, 2024
झारखंड

कुख्यात मानव तस्कर महिला ने किया सरेंडर, एक लाख था इनाम

रांची : कुख्यात मानव तस्कर पन्ना लाल महतो की पत्नी सुनीता देवी ने सोमवार को एनआईए अदालत में आत्मसमर्पण कर दिया। कोर्ट ने सरेंडर करने के बाद उसे 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया।

सुनीता को एनआईए ने वांछित घोषित किया था। उस पर एक लाख का इनाम रखा था। राज्य में यह पहला मौका है जब मानव तस्कर के लिए ईनाम की घोषणा की गई है। सुनीता देवी को बहुत पहले खूंटी से गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया था। इसके बाद जमानत पर बाहर आने के बाद ही वह फरार थी।

इसे भी पढ़ें :- झारखंड में शिक्षकों की नियुक्ति का रास्ता साफ, हाईकोर्ट ने दिया आदेश

एनआईए ने 4 मार्च, 2020 को खूंटी में मानव तस्करी रोधी इकाई (एएचटीयू) पुलिस स्टेशन में 19 जुलाई, 2019 को दर्ज मानव तस्करी के एक मामले को लेते हुए प्राथमिकी दर्ज की थी। खूंटी पुलिस ने एएचटीयू मामले में ही पन्ना लाल महतो को गिरफ्तार किया था।

एनआईए की रिसर्च में पता चला है कि आरोपी पन्ना लाल महतो और उसकी पत्नी सुनीता देवी ने मिलकर दिल्ली की तीन प्लेसमेंट एजेंसियों से बड़े पैमाने पर मानव तस्करी को अंजाम दिया है।

इसे भी पढ़ें :- जिलिंगा में श्रीराम भक्तों को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने शरबत और ठंडा पिलाकर किया स्वागत

ये तस्कर झारखंड के गरीब और नाबालिग बच्चों और लड़कियों को नौकरी दिलाने के नाम पर ले जाते हैं और दिल्ली और आसपास के राज्यों को सौंप देते हैं। वहां उनका शोषण किया जाता है। आरोप है कि आरोपियों ने मानव तस्करी को अंजाम दिया और इससे करीब 100 करोड़ रुपये की संपत्ति अर्जित की।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें