Breaking :
||अब झारखंड के सरकारी स्कूलों में हर महीने के तीसरे शनिवार को रहेगी छुट्टी||बिहार: सीएम नीतीश ने दिया इस्तीफा, राजद के साथ सरकार बनाने का दावा||चतरा डीसी अबु इमरान ने किया एक और सांसद का अपमान, लोकसभा स्पीकर के पास दूसरी बार पहुंची शिकायत||अब झारखंड के प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने में स्थानीय युवाओं की मदद लेगी सरकार||रांची बिरसा मुंडा एयरपोर्ट उड़ाने की धमकी देने वाला आरोपी बिहार से गिरफ्तार||बिहार में सियासी हलचल, नीतीश के पालाबदल की चर्चा, दिल्ली बुलाए गए भाजपा नेता||सुखाड़ को लेकर सरकार गंभीर, स्थिति का जायजा लेने सभी जिलों में भेजे गए अधिकारी||रांची में अपराधियों ने गैस दुकानदार मारी गोली, रिम्स में चल रहा इलाज||माओवादियों के नाम पर लेवी वसूलने आये तीन बदमाश पकड़ाये||झारखंड कैबिनेट में फेरबदल, कांग्रेस के लिए नयी मुसीबत, फूट पड़ने की आशंका बढ़ी

नक्सली बंदी कल, पुलिस और प्रशासन सतर्क

'

नक्सली बंदी

माओवादियों ने 5 अप्रैल को चार राज्यों में बंद की घोषणा की है। इसकी घोषणा करते हुए पूर्वी रीजनल ब्यूरो माओवादी के प्रवक्ता संकेत ने प्रेस रिलीज जारी किया है। प्रेस रिलीज जारी कर बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और असम बंद करने की घोषणा की है।

जारी प्रेस रिलीज में बताया गया है कि केंद्रीय कमेटी और पूर्वी रीजनल ब्यूरो सदस्य अरुण कुमार भट्टाचार्य उर्फ कंचन की गिरफ्तारी के विरोध में बंद बुलाया गया है। रिलीज में बताया गया है कि कंचन को हिरासत में लेकर पूछताछ के नाम पर मानसिक यातनाएं दी जा रही है। बेहतर इलाज की समुचित व्यवस्था, आवश्यक दवाएं मुहैया करने में कोताही बरतने, राजनीतिक बंदी का दर्जा देने और अविलंब बिना शर्त रिहा करने को लेकर 5 अप्रैल को बंद बुलाया गया है।

पुलिस और प्रशासन सतर्क

इस चेतावनी के बाद झारखंड पुलिस सतर्क हो गई है। बंद को देखते हुए रेलवे और झारखंड पुलिस अलर्ट हो गई है। पुलिस मुख्यालय ने जिले के सभी एसपी को सतर्क रहने और अति संवेदनशील इलाकों में गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

इसे भी पढ़ें :- नेतरहाट स्कूल में एडमिशन के लिए झारखण्ड का निवासी होना अनिवार्य

नक्सली बंद के दौरान माओवादी पुलिस बलों पर हमला करने का प्रयास किया जा सकता है। ऐसे में किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए पुलिस को पूरी तरह सतर्क और तैयार रहने को कहा गया है। आईजी अभियान के मुताबिक नक्सली बंद के दौरान उनका मुख्य फोकस नक्सलियों के उन इलाकों पर है जहां वे सक्रिय हैं। लातेहार, गढ़वा, रांची के पारसनाथ, झुमरा, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों, पलामू कोल्हान, सरायकेला, गुमला जैसे जिलों पर विशेष नजर रखने पर जोर दिया गया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

नक्सली बंदी