Breaking :
||हजारीबाग सांसद जयंत सिन्हा ने राजनीति से लिया संन्यास, भाजपा अध्यक्ष को लिखा पत्र, जानिये वजह||दुमका में स्पेनिश महिला पर्यटक से गैंग रेप, तीन आरोपी गिरफ्तार||लातेहार: बारियातू में बाइक पर अवैध कोयला ले जा रहे नौ लोग गिरफ्तार, जेल||लातेहार: अपराध की योजना बनाते दो युवक हथियार के साथ गिरफ्तार||पलामू: पेड़ से टकराकर पुल से नीचे गिरी बाइक, दो नाबालिग छात्रों की मौत, दो की हालत नाजुक||लोकसभा चुनाव: भाजपा ने की झारखंड से 11 उम्मीदवारों के नामों की घोषणा, चतरा समेत इन तीन सीटों पर सस्पेंस बरकरार||लोससभा चुनाव: भाजपा की 195 उम्मीदवारों की पहली सूची जारी, देखें पूरी लिस्ट||सदन की कार्यवाही शुरू होते ही सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा||झारखंड विधानसभा: बजट सत्र के अंतिम दिन कई विधेयक पारित||धनबाद: अस्पताल में लगी आग, मची अफरा-तफरी, मरीज और परिजन जान बचाकर भागे
Sunday, March 3, 2024
झारखंड

नक्सली बंदी कल, पुलिस और प्रशासन सतर्क

नक्सली बंदी

माओवादियों ने 5 अप्रैल को चार राज्यों में बंद की घोषणा की है। इसकी घोषणा करते हुए पूर्वी रीजनल ब्यूरो माओवादी के प्रवक्ता संकेत ने प्रेस रिलीज जारी किया है। प्रेस रिलीज जारी कर बिहार, झारखंड, पश्चिम बंगाल और असम बंद करने की घोषणा की है।

जारी प्रेस रिलीज में बताया गया है कि केंद्रीय कमेटी और पूर्वी रीजनल ब्यूरो सदस्य अरुण कुमार भट्टाचार्य उर्फ कंचन की गिरफ्तारी के विरोध में बंद बुलाया गया है। रिलीज में बताया गया है कि कंचन को हिरासत में लेकर पूछताछ के नाम पर मानसिक यातनाएं दी जा रही है। बेहतर इलाज की समुचित व्यवस्था, आवश्यक दवाएं मुहैया करने में कोताही बरतने, राजनीतिक बंदी का दर्जा देने और अविलंब बिना शर्त रिहा करने को लेकर 5 अप्रैल को बंद बुलाया गया है।

पुलिस और प्रशासन सतर्क

इस चेतावनी के बाद झारखंड पुलिस सतर्क हो गई है। बंद को देखते हुए रेलवे और झारखंड पुलिस अलर्ट हो गई है। पुलिस मुख्यालय ने जिले के सभी एसपी को सतर्क रहने और अति संवेदनशील इलाकों में गश्त बढ़ाने के निर्देश दिए हैं।

इसे भी पढ़ें :- नेतरहाट स्कूल में एडमिशन के लिए झारखण्ड का निवासी होना अनिवार्य

नक्सली बंद के दौरान माओवादी पुलिस बलों पर हमला करने का प्रयास किया जा सकता है। ऐसे में किसी भी अप्रिय घटना से बचने के लिए पुलिस को पूरी तरह सतर्क और तैयार रहने को कहा गया है। आईजी अभियान के मुताबिक नक्सली बंद के दौरान उनका मुख्य फोकस नक्सलियों के उन इलाकों पर है जहां वे सक्रिय हैं। लातेहार, गढ़वा, रांची के पारसनाथ, झुमरा, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों, पलामू कोल्हान, सरायकेला, गुमला जैसे जिलों पर विशेष नजर रखने पर जोर दिया गया।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरें देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

नक्सली बंदी