Breaking :
||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 28 फरवरी को आयेंगी रांची, सुरक्षा के रहेंगे कड़े इंतजाम||झारखंड: अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर युवती से किया दुष्कर्म, धर्म परिवर्तन कराकर जबरन करा दी शादी||लातेहार: बालूमाथ में लोडेड देशी पिस्टल के साथ दो युवक गिरफ्तार, कार जब्त||पीएम मोदी ने समुद्र में लगायी डुबकी, जलमग्न कृष्ण की नगरी द्वारका को देखा||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल
Monday, February 26, 2024
झारखंड

​​राधेश्याम से बना 25 लाख का इनामी माओवादी विमल यादव ने पुलिस के समक्ष किया आत्मसमर्पण

Jharkhand Naxalite Surrender

रांची : 25 लाख के इनामी नक्सली विमल यादव उर्फ ​​उमेश यादव उर्फ ​​राधेश्याम ने शुक्रवार को आईजी कार्यालय में अधिकारियों के समक्ष समर्पण कर दिया। माओवादी संगठन से जुड़े विमल यादव ने 90 के दशक में कुरियर बॉय का काम शुरू किया था। वहीं से वह आज के समय में 25 लाख का इनामी नक्सली बन गया।

मूल रूप से सलेमपुर थाना, करौना जिला, जहानाबाद, बिहार के रहने वाले विमल यादव अरविंद की मौत के बाद कमान संभाल रहे थे। माओवादियों के लिए सबसे सुरक्षित माने जाने वाले बूढ़ा पहाड़ इलाके में विमल काफी कद का माना जाता था।

2005 में सब-जोनल कमांडर बने, 2009 में जोनल कमांडर, 2011 में रीजनल सदस्य, 2012 में सैक सदस्य, दिसंबर 2018 में प्लाटून, 2019 में सुधाकरन की मृत्यु के बाद प्लाटून की कमान संभाली।

विमल यादव उर्फ ​​राधेश्याम यादव उर्फ ​​उमेश यादव के घर का नाम राधेश्याम यादव था। जब वे संगठन से जुड़े तो विमल यादव नाम दिया गया। 1993 में विमल इंटर का छात्र था। उस समय चचेरे भाई रामबालक प्रसाद यादव और बेचन यादव से जमीन का विवाद चल रहा था. इस वजह से मजदूर किसान संग्राम समिति में काम करने लगा।

उसके बाद वह किसान संगमी परिषद का सक्रिय सदस्य रहा। 1999 में निशांत उर्फ ​​अरविंद से मिलने के बाद, वह भाकपा-माओवादी के सक्रिय सदस्य के रूप में एक कूरियर के रूप में काम करना शुरू किया।

Jharkhand Naxalite Surrender


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *