Breaking :
||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज||पलामू: संदिग्ध हालत में स्कूल में फंदे से लटका मिला प्रधानाध्यापक का शव, हत्या की आशंका||लातेहार: तालाब में डूबे बच्चे का 24 घंटे बाद भी नहीं मिला शव, तलाश के लिए पहुंची NDRF की टीम||मुख्यमंत्री चंपाई सोरेन ने आलमगीर आलम से लिए सभी विभाग वापस||पलामू: कोयला से भरा ट्रक और बीड़ी पत्ता लदा ऑटो जब्त, पांच गिरफ्तार, दो लातेहार के निवासी||लातेहार: नहाने के दौरान तालाब में डूबने से दस वर्षीय बच्चे की मौत, शव की तलाश में जुटे ग्रामीण
Friday, June 14, 2024
झारखंड

​​राधेश्याम से बना 25 लाख का इनामी माओवादी विमल यादव ने पुलिस के समक्ष किया आत्मसमर्पण

Jharkhand Naxalite Surrender

रांची : 25 लाख के इनामी नक्सली विमल यादव उर्फ ​​उमेश यादव उर्फ ​​राधेश्याम ने शुक्रवार को आईजी कार्यालय में अधिकारियों के समक्ष समर्पण कर दिया। माओवादी संगठन से जुड़े विमल यादव ने 90 के दशक में कुरियर बॉय का काम शुरू किया था। वहीं से वह आज के समय में 25 लाख का इनामी नक्सली बन गया।

मूल रूप से सलेमपुर थाना, करौना जिला, जहानाबाद, बिहार के रहने वाले विमल यादव अरविंद की मौत के बाद कमान संभाल रहे थे। माओवादियों के लिए सबसे सुरक्षित माने जाने वाले बूढ़ा पहाड़ इलाके में विमल काफी कद का माना जाता था।

2005 में सब-जोनल कमांडर बने, 2009 में जोनल कमांडर, 2011 में रीजनल सदस्य, 2012 में सैक सदस्य, दिसंबर 2018 में प्लाटून, 2019 में सुधाकरन की मृत्यु के बाद प्लाटून की कमान संभाली।

विमल यादव उर्फ ​​राधेश्याम यादव उर्फ ​​उमेश यादव के घर का नाम राधेश्याम यादव था। जब वे संगठन से जुड़े तो विमल यादव नाम दिया गया। 1993 में विमल इंटर का छात्र था। उस समय चचेरे भाई रामबालक प्रसाद यादव और बेचन यादव से जमीन का विवाद चल रहा था. इस वजह से मजदूर किसान संग्राम समिति में काम करने लगा।

उसके बाद वह किसान संगमी परिषद का सक्रिय सदस्य रहा। 1999 में निशांत उर्फ ​​अरविंद से मिलने के बाद, वह भाकपा-माओवादी के सक्रिय सदस्य के रूप में एक कूरियर के रूप में काम करना शुरू किया।

Jharkhand Naxalite Surrender


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *