Breaking :
||झारखंड एकेडमिक काउंसिल कल जारी करेगा मैट्रिक और इंटर का रिजल्ट||लातेहार: चुनाव प्रशिक्षण में बिना सूचना के अनुपस्थित रहे SBI सहायक पर FIR दर्ज||ED ने जमीन घोटाला मामले में आरोपियों के पास से बरामद किये 1 करोड़ 25 लाख रुपये||झारखंड में हीट वेब को लेकर इन जिलों में येलो अलर्ट जारी, पारा 43 डिग्री के पार||सतबरवा सड़क हादसे में मारे गये दोनों युवकों की हुई पहचान, यात्री बस की चपेट में आने से हुई थी मौत||झारखंड: रामनवमी जुलूस रोके जाने से लोगों में आक्रोश, आगजनी, पुलिस की गाड़ियों में तोड़फोड़, लाठीचार्ज||लातेहार में भीषण सड़क हादसा, दो बाइकों की टक्कर में तीन युवकों की मौत, महिला समेत चार घायल, दो की हालत नाजुक||बड़ी खबर: 25 लाख के इनामी समेत 29 नक्सली ढेर, तीन जवान घायल||पलामू: महुआ चुनकर घर जा रही नाबालिग से भाजपा मंडल अध्यक्ष ने किया दुष्कर्म, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस||झामुमो केंद्रीय समिति सदस्य नज़रुल इस्लाम ने मोदी को जमीन में 400 फीट नीचे गाड़ने की दी धमकी, भाजपा प्रवक्ता ने कहा- इंडी गठबंधन के नेता पीएम मोदी के खिलाफ बड़ी घटना की रच रहे साजिश
Saturday, April 20, 2024
झारखंड

स्वास्थ्य निदेशालय का लिपिक रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार, गारू रेफरल अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मी के मामले में ले रहा था रिश्वत

Health directorate clerk bribe

रांची : स्वास्थ्य निदेशालय के बड़ा बाबू कृष्णकांत बारला को राँची एसीबी की टीम ने बुधवार को रिश्वत लेते रंगेहाथ गिरफ्तार किया है। एसीबी की टीम ने कृष्णकांत बारला को 10 हजार रुपए रिश्वत लेते मौके पर पकड़ा।

बता दें कि राँची निदेशालय के बड़ा बाबू कृष्णकांत बरला गारू प्रखंड के बारेसाढ़ स्वास्थ्य उपकेन्द्र के एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार से रिश्वत ले रहे थे। जहाँ उन्हें रंगे हाथ गिरफ्तार कर एसीबी की टीम अपने साथ ले गयी है।

गारू रेफरल अस्पताल के स्वास्थ्य कर्मी संजीव दुबे और संतोष कुमार पर गारू प्रखंड अंतर्गत कारवाई के ग्रामीणों ने स्वास्थ्य विभाग के कार्य मे लापरवाही और पैसा उगाही करने की शिकायत कर कारवाई की मांग की थी। हालांकि यह पूरा मामला शुरू से ही सवालों के घेरे में रहा चुकी संतोष कुमार बारेसाढ़ स्वास्थ्य उपकेंद्र में कार्यरत है और लापरवाही की शिकायत कारवाई गांव के ग्रामीणों ने की थी।

बहरहाल स्वास्थ्य विभाग के कार्यों में लापरवाही को लेकर विगत दिनों पूर्व रांची निदेशालय ने बारेसाढ़ उपस्वास्थ्य केंद्र में कार्यरत एमपीडब्ल्यू संतोष कुमार एवं गारू रेफरल अस्पताल में पदस्थापित लेखा प्रबंधक संजीव दुबे के नाम पत्र जारी कर स्पस्टीकरण की मांग की थी।

इस मामले को हल्का और आरोप को निराधार करने के एवज में स्वास्थ्य निदेशालय के लिपिक कृष्ण कांत बारला ने संतोष कुमार से पैसे की मांग की थी। इसकी शिकायत संतोष कुमार ने एसीबी की टीम से की। मामले की जांच में जुटी एसीबी की टीम ने रिश्वत के पैसे के साथ कृष्ण कांत बारला को गिरफ्तार कर लिया है।

Health directorate clerk bribe


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *