Breaking :
||झारखंड के 248 पारा शिक्षक गायब, 232 ने छोड़ी नौकरी, 5 दिसंबर तक मिला मौका||झारखंड में छह साल से नहीं हुई जेटेट परीक्षा, हाईकोर्ट में याचिका दायर||मुख्यमंत्री के प्रेस सलाहकार समेत चार के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी||मुख्यमंत्री विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा को नहीं मिली जमानत||लातेहार: बालूमाथ में कोयला कारोबारियों से व्हाट्सएप कॉल कर रंगदारी मांगने वाला TSPC का एरिया कमांडर गिरफ्तार, भेजा जेल||हेमंत सरकार तीन वर्ष पूरे होने पर सुखाड़ प्रभावित 22 जिलों के किसानों को देगी तोहफा, आवेदन शुरू||झारखंड: ऑनलाइन गेम में मिली हार से परेशान बच्चे ने कर ली खुदकुशी, माता-पिता हो जायें सावधान!||पलामू में नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म, वीडियो वायरल करने की धमकी देकर किया शारीरिक शोषण||बूढ़ा पहाड़ से फिर मिले 12 केन IED बम, किया गया नष्ट||सीओ हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ होगी ACB जांच, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी

जब विभाग ने नहीं ली सुध तो ग्रामीणों ने निजी कोष से जर्जर सड़क की कराई मरम्मत

बारियातू /संजय राम

लातेहार : बारियातू प्रखंड के शिबला पंचायत अंतर्गत पूरनाशिबला से उस्मान डैम श्मशान घाट जाने वाली जर्जर सड़क को ग्रामीणों ने निजी कोष से मरम्मत करवाया।

ग्रामीण दिले उरांव, बोले उरांव, सूले उरांव, पंचम उरांव, महेंद्र उरांव, बिहारी उरांव, मुन्ना उरांव, बालेश्वर उरांव, जेठू गंझू, गुंजरी देवी, बालकेश्वर कुमार, सुखदेव उरांव, लछु उरांव, नन्हका गंझू सहित कई ग्रामीणों ने बताया कि हमलोग अपने मुहल्ला पुरनासिबला व डोकिया से श्मशान घाट तक किसी मृत व्यक्ति को अंतिम संस्कार करने के लिए ले जाने के क्रम में रास्ता खराब रहने के कारण काफी कठिनाई होती थ। जिसे देखते हुए उक्त दोनो मुहल्ले की ग्रामीणों ने घर-घर चंदा इकट्ठा कर जेसीबी मशीन से लगभग 1 किलोमीटर दूरी तक मिट्टी का सड़क बनवाया है।

ग्रामीणों ने आगे बताया कि पूर्व में हमलोग श्मशान घाट जर्जर रास्ता को मरम्मत करने के लिए सम्बंधित विभाग को आवेदन दिए थे लेकिन किसी भी तरह का सड़क मरम्मति करवाने तथा सड़क निर्माण के लिए सरकारी योजना नहीं मिलने के कारण विवश होकर हम लोग सभी ग्रामीण चंदा इकट्ठा कर इस जर्जर सड़क को बनवाए हैं। ग्रामीणों ने प्रखंड प्रशासन से उक्त बनाए गए मिट्टी की सड़क को पीसीसी करवाने की मांग की है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *