Breaking :
||चतरा डीसी अबु इमरान ने किया एक और सांसद का अपमान, लोकसभा स्पीकर के पास दूसरी बार पहुंची शिकायत||अब झारखंड के प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने में स्थानीय युवाओं की मदद लेगी सरकार||रांची बिरसा मुंडा एयरपोर्ट उड़ाने की धमकी देने वाला आरोपी बिहार से गिरफ्तार||बिहार में सियासी हलचल, नीतीश के पालाबदल की चर्चा, दिल्ली बुलाए गए भाजपा नेता||सुखाड़ को लेकर सरकार गंभीर, स्थिति का जायजा लेने सभी जिलों में भेजे गए अधिकारी||रांची में अपराधियों ने गैस दुकानदार मारी गोली, रिम्स में चल रहा इलाज||माओवादियों के नाम पर लेवी वसूलने आये तीन बदमाश पकड़ाये||झारखंड कैबिनेट में फेरबदल, कांग्रेस के लिए नयी मुसीबत, फूट पड़ने की आशंका बढ़ी||अब लातेहार के इस गांव के ग्रामीणों ने सीमा पर लगाया बोर्ड, बाहरी व्यक्ति के प्रवेश पर रोक||सांगठनिक बदलाव की तैयारी में झारखंड कांग्रेस, अधिकांश जिले में नए चेहरों को मौका

बेमौसम बारिश ने तोड़ दी किसानों की कमर, टमाटर की फसल पर गहरा असर

'

संजय राम/बारियातू

लातेहार में दो दिनों से तूफ़ान के साथ हो रही बारिश और बदली से किसानों को काफी नुकसान हो गया है। इस बेमौसम बारिश से सबसे ज्यादा सब्जी की खेती पर असर पड़ा है। किसानों के मुताबिक तूफ़ान के साथ हो रही बारिश और बदली के कारण टमाटर, फूल गोभी, बैंगन, मिर्च, धनिया आदि फसल कई जगह बर्बाद हो गई है।

बालूमाथ और बारियातू प्रखंड क्षेत्र में हजारों एकड़ में लगी टमाटर की फसल असर पड़ा है। बारियातू प्रखंड के नौ पंचायत के सभी गांव में बड़े पैमाने पर टमाटर की खेती होती है। जो छोटे-बड़े सभी किसानों के लिए आर्थिक आमदनी का बेहतर जरिया है।

मंगलवार की रात तेज आंधी तूफान के साथ लगातार दो घंटे तक हुई बारिश से इटके, अमरवाड़ीह, बेसरा,बेसरा, मकरा, मनातू, शिबला, राजगुरु, गोनिया, गड़गोमा, नावाडीह, छाताबर, चुम्बा बीरबीर, बालूभांग, फुलसू, डाढा, साल्वे, टोटी हेसला, गिद्दी मोड़, बरछिया, गड़गोमा, भाटचतरा, मनातू सहित 56 गांव में हजारों एकड़ में लगे टमाटर की फसल प्रभावित हुआ है। जिससे किसानों को भारी आर्थिक क्षति हुई है।

बता दें कि किसानों द्वारा टमाटर की रोपाई के कुछ दिन बाद ही काफ़ी हिस्सो में लगे पौधे मर गए थे। जो बचे थे उससे टमाटर निकलने लगे थे। जिससे किसानों को अच्छी आमदनी हो रही थी। अचानक आई तेज आंधी पानी से पूरे क्षेत्र में फले और पके टमाटर पर असर पड़ा है। ऐसे में बेमौसम बारिश होने के कारण किसानों की मेहनत पर पानी फिर गया है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.