Breaking :
||पलामू: नाबालिग दिव्यांग युवती से दुष्कर्म, मामला दर्ज||राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव का किडनी ट्रांसप्लांट सफल, देखें बेटे तेजस्वी द्वारा शेयर किया वीडियो||गैंगस्टर गोपाल शार्क शूटर के नाम से पोस्टर चस्पा कर रंगदारी मांगने के मामले में पुलिस ने तीन आरोपियों को पकड़ा, हथियार बरामद||गुमला की लड़की को लातेहार के लड़के से Facebook पर हुआ प्यार, शादी का झांसा देकर किया यौन शोषण, रूपये भी ठगे||आंखों के इलाज के लिए विनीत को मिली विधायक निधि से 50 हजार की मदद, विनीत ने जताया विधायक के प्रति आभार||लातेहार: सुधा सिन्हा स्कूल के डायरेक्टर के घर पर अज्ञात अपराधियों ने किया हमला, दी जान से मारने की धमकी||रांची: उड़ान IAS अकादमी के डायरेक्टर अरुण अग्रवाल पर जानलेवा हमला, लातेहार अम्बाकोठी के हैं निवासी||सीएम हेमंत सोरेन की नहीं होगी गिरफ्तारी, ईडी के पास कोई पुख्ता सबूत नहीं||झारखंड से कोरोना की विदाई, सभी जिले कोरोना मुक्त घोषित||झारखंड: प्रमाण पत्र सत्यापन नहीं कराने वाले सहायक अध्यापक होंगे कार्यमुक्त

बरवाडीह में दो दिवसीय ऐतिहासिक चपरी मेला शुरू

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : बरवाडीह का दो दिवसीय ऐतिहासिक चपरी मेला मंगलवार से शुरू हो गया। मेला के पहले दिन लोगों की कम भीड़ रही। मेला स्थल पर विभिन्न गांवों से ग्रामीण मांदर, नगाड़े के साथ नाचत-गाते पहुंचे। इसके बाद मां दुरजागिंन पूजा स्थल से झंडा को लेकर मेला के चारों ओर भ्रमण कराया गया। मेला कई साल पहले से लगते आ रहा है। मेला को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। पूर्व में मेला की रौनक देखते बनती थी, लेकिन धीरे-धीरे मेला की रौनक फीकी होने लगी है। हालांकि स्थानीय लोग फिर से मेला में रौनक लाने की कोशिश में लगे हुए हैं।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

मेला में पुलिस नियंत्रण कक्ष व स्वास्थ्य विभाग की ओर से शिविर भी लगाया गया है। नियंत्रण कक्ष में तैनात अधिकारी पैनी नजर लगातार बनाए हुए है। जो मेले की हर पल की गतिविधि पर ध्यान रखे हुए हैं। मेला में आने वाले हर संदिग्धों पर नजर रखने के लिए इस बार विशेष रूप से पुलिस बल की तैनाती की गयी है। जहां 12 घंटो की पालियों में पुलिस कर्मियों की तैनाती की गयी है।

मेला देखने पहुँचे लोगों में निराशा

बता दें कि मेले में दूसरे क्षेत्र से आए झूला लगाने वाले लोगों ने झूला तो लगा दिया लेकिन प्रशासन की मनाही के बाद पूर्ण रूप से झूला का संचालन नहीं किया गया। जिससे लोगों में खासी नाराजगी देखी गई। लोगों ने बताया कि केवल झूला से ही कोरोना संक्रमण का फैलाव होगा या फिर मेला का आयोजन से भी हो सकता है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *