Breaking :
||अब झारखंड के सरकारी स्कूलों में हर महीने के तीसरे शनिवार को रहेगी छुट्टी||बिहार: सीएम नीतीश ने दिया इस्तीफा, राजद के साथ सरकार बनाने का दावा||चतरा डीसी अबु इमरान ने किया एक और सांसद का अपमान, लोकसभा स्पीकर के पास दूसरी बार पहुंची शिकायत||अब झारखंड के प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने में स्थानीय युवाओं की मदद लेगी सरकार||रांची बिरसा मुंडा एयरपोर्ट उड़ाने की धमकी देने वाला आरोपी बिहार से गिरफ्तार||बिहार में सियासी हलचल, नीतीश के पालाबदल की चर्चा, दिल्ली बुलाए गए भाजपा नेता||सुखाड़ को लेकर सरकार गंभीर, स्थिति का जायजा लेने सभी जिलों में भेजे गए अधिकारी||रांची में अपराधियों ने गैस दुकानदार मारी गोली, रिम्स में चल रहा इलाज||माओवादियों के नाम पर लेवी वसूलने आये तीन बदमाश पकड़ाये||झारखंड कैबिनेट में फेरबदल, कांग्रेस के लिए नयी मुसीबत, फूट पड़ने की आशंका बढ़ी

बरवाडीह में दो दिवसीय ऐतिहासिक चपरी मेला शुरू

'

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : बरवाडीह का दो दिवसीय ऐतिहासिक चपरी मेला मंगलवार से शुरू हो गया। मेला के पहले दिन लोगों की कम भीड़ रही। मेला स्थल पर विभिन्न गांवों से ग्रामीण मांदर, नगाड़े के साथ नाचत-गाते पहुंचे। इसके बाद मां दुरजागिंन पूजा स्थल से झंडा को लेकर मेला के चारों ओर भ्रमण कराया गया। मेला कई साल पहले से लगते आ रहा है। मेला को देखने के लिए दूर-दूर से लोग आते हैं। पूर्व में मेला की रौनक देखते बनती थी, लेकिन धीरे-धीरे मेला की रौनक फीकी होने लगी है। हालांकि स्थानीय लोग फिर से मेला में रौनक लाने की कोशिश में लगे हुए हैं।

सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम

मेला में पुलिस नियंत्रण कक्ष व स्वास्थ्य विभाग की ओर से शिविर भी लगाया गया है। नियंत्रण कक्ष में तैनात अधिकारी पैनी नजर लगातार बनाए हुए है। जो मेले की हर पल की गतिविधि पर ध्यान रखे हुए हैं। मेला में आने वाले हर संदिग्धों पर नजर रखने के लिए इस बार विशेष रूप से पुलिस बल की तैनाती की गयी है। जहां 12 घंटो की पालियों में पुलिस कर्मियों की तैनाती की गयी है।

मेला देखने पहुँचे लोगों में निराशा

बता दें कि मेले में दूसरे क्षेत्र से आए झूला लगाने वाले लोगों ने झूला तो लगा दिया लेकिन प्रशासन की मनाही के बाद पूर्ण रूप से झूला का संचालन नहीं किया गया। जिससे लोगों में खासी नाराजगी देखी गई। लोगों ने बताया कि केवल झूला से ही कोरोना संक्रमण का फैलाव होगा या फिर मेला का आयोजन से भी हो सकता है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.