Breaking :
||पलामू में बिजली गिरने से तीन किशोर की मौत, बारिश से बचने के लिए पेड़ के नीचे छिपे थे||रांची में करंट लगने से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत, तिरंगा लगाने के दौरान हुआ हादसा||15 अगस्त को झारखंड के 26 पुलिसकर्मियों को विभिन्न सेवाओं के लिए मेडल||रांची में नकली नोटों के तस्कर को पकड़ने गई दिल्ली पुलिस पर ग्रामीणों ने किया हमला, बनाया बंधक||झारखंड जल्द होगा सूखाग्रस्त घोषित, सभी मापदंडों पर तैयार हो रही रिपोर्ट||लातेहार: विद्यालय से उर्दू शब्द हटाए जाने पर मुस्लिम समुदाय में आक्रोश, किया प्रदर्शन||मुख्य धारा में लौटे नक्सलियों के सम्मान समारोह में अधिकारियों ने कहा- सरकार की सेरेंडर पॉलिसी का लाभ उठाएं नक्सली||लातेहार : खेत में धान बो रहे किसान पर गिरी बिजली, पति-पत्नी की मौके पर ही मौत||झारखंड भाजपा को मिलेगा नया प्रदेश अध्यक्ष, नियुक्ति को लेकर कई नामों पर चर्चा||अब झारखंड के बिजली उपभोक्ताओं को मिलेगी 100 यूनिट मुफ्त बिजली

CRPF सहायक कमांडेंट के पद पर चयनित बरवाडीह के लाल स्कंद का प्रशिक्षण संपन्न, पासिंग आउट परेड में शामिल हुए माता-पिता

'

शशि शेखर/बरवाडीह

लातेहार : कभी नक्सलवाद के नाम पर अपनी पहचान बनाने वाला बरवाडीह अब अपने लाल के नाम पर काबिलियत का झंडा ऊंचा कर रहा है। प्रखंड मुख्यालय के स्थित विजयनगर के रहने वाले सेवानिवृत्त शिक्षक राज किशोर प्रसाद का पुत्र स्कंद कुमार का वर्ष 2020 में यूपीएससी के जरिए सीआरपीएफ सहायक कमांडेंट के पद पर चयन हुआ था।

जिसका लगभग 53 सप्ताह के प्रशिक्षण के बाद गुरुवार को दिल्ली के गुरुग्राम स्थित सीआरपीएफ की ट्रेनिंग अकादमी में दीक्षांत समारोह का आयोजन किया गया। इस दीक्षांत समारोह परेड में स्कंद के पिता सेवानिवृत्त शिक्षक राज किशोर प्रसाद और माता उषा देवी समेत परिवार के कई अन्य सदस्य और मित्र शामिल हुए।

दीक्षांत समारोह परेड के बाद स्कंद कुमार के कंधों पर सीआरपीएफ के सहायक कमांडेंट के रूप में सितारा लगाने का सौभाग्य स्कंद कुमार के माता-पिता को मिला जो अपने आप में गौरव और भावुक कर देने वाला क्षण था। स्कंद कुमार अपनी पूरी सफलता का श्रेय माता पिता के आशीर्वाद, त्याग और शिक्षकों व साथियों के उचित मार्गदर्शन को देते हैं।

उन्होंने कहा कि हमारा गृह क्षेत्र पिछड़ा और नक्सलवाद के नाम पर बदनाम हुआ करता था लेकिन यहां प्रतिभाओं की कमी नहीं है। जरूरत है तो उसे उचित मार्गदर्शन की जो हम जैसे युवाओं को प्राप्त हुआ है और हम भी अपने आने वाली पीढ़ियों की सफलता के लिए हर संभव मदद करेंगे।

इधर, स्कंद कुमार के पिता राजकिशोर प्रसाद ने बताया कि पूरे जीवन का यह सबसे सफल और सुखद क्षण है कि आज बेहतर मार्गदर्शन शिक्षा और संस्कार के बदौलत हमारा पुत्र भारत माता की सेवा के लिए बतौर सहायक कमांडेंट के पद पर चयनित हुआ है और उसके प्रशिक्षण पूर्ण होने पर इस गौरवपूर्ण क्षण में शामिल होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।


Leave a Reply

Your email address will not be published.