Breaking :
||राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू 28 फरवरी को आयेंगी रांची, सुरक्षा के रहेंगे कड़े इंतजाम||झारखंड: अश्लील वीडियो वायरल करने की धमकी देकर युवती से किया दुष्कर्म, धर्म परिवर्तन कराकर जबरन करा दी शादी||लातेहार: बालूमाथ में लोडेड देशी पिस्टल के साथ दो युवक गिरफ्तार, कार जब्त||पीएम मोदी ने समुद्र में लगायी डुबकी, जलमग्न कृष्ण की नगरी द्वारका को देखा||लातेहार: बारियातू में ऑटो चालक की गोली मारकर हत्या, विरोध में सड़क जाम||लातेहार जिले के विकास के लिए किसी के पास कोई रोडमैप नहीं, अधिकारी भी नहीं रहना चाहते यहां: सुदेश महतो||झारखंड में अधिकारियों के तबादले में चुनाव आयोग के निर्देशों का नहीं हुआ पालन, मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी ने लिखा पत्र||पलामू: बाइक सवार अपराधियों ने व्यवसायी को मारी गोली, पत्नी ने गोतिया परिवार पर लगाया आरोप||पलामू: ट्रैक्टर की चपेट में आने से बाइक सवार इंटर के परीक्षार्थी की मौत||पलामू DAV के बच्चों की बस बिहार में पलटी, दर्जनों छात्र घायल
Monday, February 26, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामूपलामू प्रमंडल

पलामू: कर्मचारी महासंघ ने बायोमेट्रिक हाजिरी बनाने पर वेतन भुगतान के आदेश का विरोध करते हुए दी बड़े आंदोलन की चेतावनी

पलामू : झारखंड राज्य अराजपत्रित कर्मचारी महासंघ ने बायोमेट्रिक पद्धति से उपस्थिति दर्ज करने के आधार पर वेतन भुगतान के आदेश का कड़ा विरोध किया है। साथ ही खराब बायोमैट्रिक सिस्टम को तुरंत दूर करने की मांग उपायुक्त से की गयी है। महासंघ ने कहा है कि अगर वेतन रोकने की साजिश की गयी तो दबाव में बड़ा आंदोलन किया जायेगा।

महासंघ के पलामू जिला सचिव अशोक कुमार ने शनिवार को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर कहा कि उपायुक्त के पत्रांक-734 दिनांक 22.12.23 एवं पत्रांक-17 दिनांक 6.1.24 तथा कोषागार पदाधिकारी के पत्रांक-24 दिनांक 5.1.24 द्वारा जिले के सभी कर्मचारियों की उपस्थिति का आधार सिर्फ बॉयोमेट्रिक पद्धति से उपस्थिति दर्ज करने के आधार पर वेतन भुगतान का आदेश दिया गया है, जिसका विरोध करते हुए पत्रांक-01 दिनांक 13.1.24 द्वारा उपायुक्त से इस पर विचार करने का अनुरोध किया है।

लातेहार, पलामू और गढ़वा की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

जिला सचिव ने अनुरोध किया है कि जिले के लगभग सभी कार्यालयों (दूरस्थ क्षेत्रों को छोड़कर) में कर्मचारी बायोमेट्रिक पद्धति से अपनी उपस्थिति दर्ज करा रहे हैं, लेकिन झारखंड सरकार की यह व्यवस्था दोषपूर्ण है। अधिकांश समय बायोमेट्रिक सिस्टम का सर्वर डाउन रहने के कारण कर्मचारियों व अधिकारियों की उपस्थिति समय पर दर्ज नहीं हो पाती है। पिछले कई महीनों से शाम साढ़े चार बजे से सर्वर डाउन होने के कारण कर्मचारी दूसरी पाली में अपनी उपस्थिति दर्ज नहीं करा पा रहे हैं।

सरकारी नियमानुसार लगभग सभी कार्यालयों में बीएसएनएल का ब्रॉडबैंड लगा हुआ है, जो अक्सर खराब रहता है। कई कार्यालयों में टेलीफोन मद में आवंटन नहीं मिलने के कारण भुगतान नहीं होने पर बीएसएनएल का कनेक्शन काट दिया गया है। इसके साथ ही जिले के सुदूरवर्ती जंगली इलाकों, नहरों और अंदरूनी इलाकों में कई कार्यालयों और कर्मचारियों की तैनाती और प्रतिनियुक्ति के कारण कर्मचारी और अधिकारी बायोमेट्रिक पद्धति से अपनी उपस्थिति दर्ज नहीं करा पाते हैं।

जिला सचिव ने कहा है कि सभी निकासी एवं व्यय पदाधिकारियों के नाम जारी किया गया कठोर पत्र चिंताजनक है। इसके माध्यम से जितने दिनों की पूर्ण उपस्थिति होगी उतने दिन का वेतन बायोमेट्रिक पद्धति से तैयार कर भुगतान के लिए कोषागार में भेजने का निर्देश दिया गया है। इस आदेश से जिले के लगभग सभी कर्मचारियों व पदाधिकारियों का वेतन अवरुद्ध होने की संभावना बढ़ गयी है। उनका वेतन रोकने की साजिश नहीं होनी चाहिए, अन्यथा कर्मचारी महासंघ बड़ा आंदोलन करने को बाध्य होगा।

खराब बायोमेट्रिक सिस्टम को तुरंत हटाया जाये और पूरे देश में कोरोना के बढ़ते प्रभाव और जान-माल के नुकसान को देखते हुए बायोमेट्रिक सिस्टम को तब तक के लिए स्थगित किया जाये जब तक कि देश से कोरोना का खतरा खत्म न हो जाये, क्योंकि पिछले कोरोना काल में झारखंड के कई कर्मचारियों और अधिकारियों की असमय मौत हो गयी थी।

Palamu Latest News Today