Breaking :
||मतदान केंद्र में फोटो या वीडियो लेना अपराध, की जा रही है कार्रवाई : मुख्य निर्वाचन पदाधिकारी||लातेहार: बालूमाथ में बाइक दुर्घटना में एक युवक की मौत, दूसरा गंभीर, रिम्स रेफर||गढवा: डोभा में नहाने के दौरान डूबने से JJM नेता के पोते समेत दो किशोरों की मौत||मंत्री आलमगीर आलम के पीएस संजीव लाल और जहांगीर आलम को भेजा गया जेल||लातेहार: घर व दुकान में आग लगने से लाखों का नुकसान, अज्ञात लोगों पर आग लगाने का आरोप||पलामू: TSPC उग्रवादियों ने पांच ग्रामीणों को पीटा, एसपी ने कहा- मतदान के कारण पिटायी की बात गलत||झारखंड में पांचवें चरण का चुनाव शांतिपूर्ण संपन्न, आचार संहिता उल्लंघन के सात मामले दर्ज||लातेहार में शांतिपूर्ण माहौल में मतदान संपन्न, 65.24 फीसदी वोटिंग||झारखंड में गर्मी से मिलेगी राहत, गरज के साथ बारिश के आसार, येलो अलर्ट जारी||चतरा, हजारीबाग और कोडरमा संसदीय क्षेत्र में मतदान कल, 58,34,618 मतदाता करेंगे 54 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला
Wednesday, May 22, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड कांग्रेस के पांच नेताओं को छह साल के लिए पार्टी से निकालने की सिफारिस

रांची : प्रदेश कांग्रेस कमेटी के पांच नेताओं को छह साल के लिए पार्टी से निकालने की सिफारिश की गयी है। यह सिफारिश झारखंड प्रदेश कांग्रेस अनुशासन समिति ने की है। प्रभारी अविनाश पाण्डेय व प्रदेश अध्यक्ष राजेश ठाकुर को सिफारिस की गयी है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

रविवार को पार्टी मुख्यालय में अनुशासन समिति की बैठक में यह निर्णय लिया गया, जिन लोगों को निष्कासित करने की सिफारिश की गयी है उनमें आलोक दुबे, लाल किशोर नाथ शाहदेव, राजेश गुप्ता, साधु शरण गोप, सुनील सिंह शामिल हैं। हालांकि इन नेताओं को निष्कासित करने का अंतिम फैसला अब प्रभारी और अध्यक्ष लेंगे।

बैठक के बाद समिति के अध्यक्ष बृजेंद्र सिंह ने कहा कि राज्य नेतृत्व के खिलाफ बयानबाजी और अनुशासनहीनता करने वाले सात नेताओं को 14 दिन पहले नोटिस भेजा गया था। उन्हें अपना पक्ष रखने का निर्देश दिया गया। रविवार को सातों नेताओं के जवाबों को लेकर बैठक हुई।

प्रदेश कांग्रेस कमेटी के दो सचिव राकेश तिवारी व अनिल कुमार ओझा ने अनुशासन समिति को जवाब भेजा, जिसे देखते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई समाप्त कर दी गयी। वहीं, अन्य पांच नेताओं ने अनुशासन समिति को कोई जवाब नहीं भेजा। इसे देखते हुए उनके खिलाफ कार्रवाई शुरू की गयी है। जवाब नहीं देने वाले इन पांच नेताओं को अगले छह साल के लिए पार्टी से निकालने की सिफारिश की गयी है।