Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Saturday, June 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

झारखंड में भीषण गर्मी से लोग बेहाल, चमगादड़ों के मरने का सिलसिला जारी

Jharkhand Weather Heat Wave

रांची : राज्य भीषण गर्मी से तप रहा है। लू के थपेड़ों से लोग बेहाल हैं। तापमान में वृद्धि का रिकॉर्ड टूट रहा है। संथाल के जिलों को छोड़कर पूरा झारखंड तपिश भरी गर्मी और उष्ण लहर की चपेट में है। राज्य के उत्तर पश्चिमी जिले पलामू और गढ़वा में तो प्रचंड हीट वेव चल रहा है। रांची, चतरा, गुमला, रामगढ, लोहरदगा, बोकारो, पूर्वी सिंहभूम, पश्चिमी सिंहभूम और सरायकेला-खरसावां में भी हीट वेव का प्रभाव है।

चतरा जिले में गुरुवार को औरू गेरुआ गांव में लू लगने से तीन लोगों की मौत हो गयी जबकि कोबनी और भोंदल गांव में भी एक-एक व्यक्ति की लू लगने से मौत हुई है। पलामू में बुधवार तक चार लोगों की गर्मी से मौत हो गयी थी। गर्मी का प्रकोप इंसानों के साथ जीव जंतुओं पर भी देखा जा रहा है। राज्य में लगातार बड़ी संख्या में चमगादड़ों की मौत हो रही है। चतरा, गढ़वा और हजारीबाग में सैकड़ों चमगादड़ों की मौत के बाद अब लातेहार जिले में भी बड़ी संख्या में चमगादड़ों की मौत हो गयी है।

लातेहार जिले के मनिका प्रखंड अंतर्गत कोइली गांव में शुक्रवार की सुबह बड़ी संख्या में मृत चमगादड़ मिले। लातेहार डीएफओ रोशन कुमार ने एडवाइजरी जारी कर लोगों से मृत चमगादड़ों के पास न जाने की अपील की है। मृत चमगादड़ों के संपर्क में आने से लोग कई तरह की गंभीर बीमारियों के शिकार हो सकते हैं।

डीएफओ ने बताया कि चमगादड़ों की मौत की जांच की जा रही है। मृत चमगादड़ों के सैंपल जांच के लिए भेजे जा रहे हैं। उन्होंने बताया कि जो चमगादड़ मरे हैं, उनमें कोई संक्रमण हो सकता है। इसलिए उन्हें जलाकर नष्ट कर दिया जायेगा। डीएफओ ने आम ग्रामीणों से भी अपील की है कि भविष्य में ऐसी घटना होने पर वे तत्काल वन विभाग को सूचित करें। ग्रामीण ऐसी स्थिति में मृत पशु या पक्षियों के पास कभी न जायें और न ही उन्हें छूने की कोशिश करें।

Jharkhand Weather Heat Wave