Breaking :
||पलामू में नाबालिग छात्रा से दुष्कर्म, वीडियो वायरल करने की धमकी देकर किया शारीरिक शोषण||बूढ़ा पहाड़ से फिर मिले 12 केन IED बम, किया गया नष्ट||सीओ हेमा प्रसाद व अन्य के खिलाफ होगी ACB जांच, सीएम हेमंत सोरेन ने दी मंजूरी||राज्य के अधिकारी करेंगे झारखंड के सरकारी स्कूलों का दौरा, देखिये किस अधिकारी को मिली किस जिले की जिम्मेदारी||मानव तस्करी के शिकार झारखंड के 14 बच्चों को दिल्ली से कराया गया मुक्त||केंद्र की झारखंड को चेतावनी, कहा- डीवीसी का बकाया चुकाओ, नहीं तो जारी रहेगी बिजली कटौती||लातेहार: छिपादोहर में अज्ञात अपराधियों ने की फायरिंग, गोली लगने से महिला घायल, रेफर||लातेहार: नक्सली हमले के बाद पलामू डीआईजी ने किया मौका मुआयना, चंदवा थाने में नक्सलियों के खिलाफ मामला दर्ज||रांची में जमीन कारोबारी को अपराधियों ने मारी गोली, मौत||लातेहार: नक्सली हमले के बाद मौके पर पहुंचे एसपी ने कहा- पुलिस जल्द ही करेगी घटना का खुलासा

लातेहार: बालूमाथ BDO पर पंचायत समिति सदस्यों ने लगाये कई गंभीर आरोप, बताया तानाशाह, उपायुक्त से कार्रवाई की मांग

बीरेंद्र प्रसाद/लातेहार

लोकतांत्रिक तरीके से चुने गये जनप्रतिनिधियों के मान सम्मान को पहुंचाया जाता है ठेस

लातेहार : बालूमाथ प्रखंड प्रमुख ममता देवी व उप मुखिया कामेश्वर राम के नेतृत्व में प्रखंड के 18 पंचायत समिति सदस्यों ने उपायुक्त के जनता दरबार में पहुंचकर ज्ञापन सौंपा। ज्ञापन में जनप्रतिनिधियों ने बालूमाथ बीडीओ राजश्री ललिता बाखला पर कई गंभीर आरोप लगाये। मौके पर उपायुक्त से कहा गया कि वह लोकतांत्रिक तरीके से चुने गये जनप्रतिनिधियों को देखना भी पसंद नहीं करते हैं।

लातेहार की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

बीडीओ करती हैं मनमानी

पंचायत समिति सदस्यों ने बीडीओ पर गंभीर आरोप लगाते हुए एक स्वर में कहा कि उनके द्वारा तानाशाही की नीति अपनायी जा रही है। प्रखंड के किसी भी कार्य में प्रखंड प्रमुख, उप प्रमुख व पंचायत समिति सदस्यों को पूछा तक नहीं जाता है। बीडीओ अपनी मनमानी करती हैं।

विकास योजनाओं में प्रखंड प्रमुख की नहीं ली जाती है स्वीकृति

प्रखंड उप प्रमुख कामेश्वर राम ने बताया कि सरकार जिस उदेश्य से पंचायत चुनाव करायी है वह उदेश्य बालूमाथ प्रखंड में पूरा नहीं हो रहा है। प्रखंड में चल रही विकास योजनाओं में प्रखंड प्रमुख, उपप्रमुख व पंचायत समिति सदस्यों से पूछा तक नहीं जाता है। बीडीओ अपने पंचायत सचिव के माध्यम से योजनाओं को लाते हैं और उनकी इच्छा के अनुसार उन्हें ऑनलाइन कराकर संचालित करती हैं। जबकि सिस्टम कहता है कि प्रखंड में चल रही किसी भी विकास योजना में प्रखंड प्रमुख की स्वीकृति जरूरी है, लेकिन बालूमाथ में ऐसा नहीं होता। यहां बीडीओ कि मनमानी चलती हैं।

बीडीओ पर नहीं हुई कार्रवाई तो धरना-प्रदर्शन की चेतावनी

प्रखंड उप प्रमुख ने आगे बताया कि न तो स्वतंत्रता दिवस और न ही बिरसा मुंडा की जयंती पर बीडीओ की ओर से निमंत्रण दिया गया। तो इस तरह बीडीओ द्वारा जनप्रतिनिधि के सम्मान को ठेस पहुंचाई जा रही है, यह ठीक नहीं है। आज उपायुक्त, अनुमंडल पदाधिकारी व एसी को ज्ञापन सौंप कर उचित कार्रवाई की मांग की है। अगर उचित कार्रवाई नहीं की गयी तो हम अनिश्चितकाल के लिए धरना-प्रदर्शन करने को बाध्य होंगे।

ये थे मौजूद

मौके पर सुनीता देवी, सरिता देवी, रीना देवी, पिंकू नायक, ईश्वरी राम, रजिया सुल्ताना, राजकुमारी देवी, रुक्मणी देवी, बीरबल उरांव, खतीजा खातून, भुनेश्वर राम सहित सभी 18 पंचायत समिति सदस्य उपस्थित थे।