Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ में अनियंत्रित बाइक दुर्घटनाग्रस्त, दो युवक घायल, सांसद ने पहुंचाया अस्पताल, दोनों रिम्स रेफर||15 ऐसे महत्वपूर्ण कानून और कानूनी अधिकार जो हर भारतीय को जरूर जानने चाहिए||लातेहार में तेज रफ्तार बोलेरो ने घर में सो रहे पांच लोगों को रौंदा, एक की मौत, चार रिम्स रेफर||चतरा: अत्याधुनिक हथियार के साथ TSPC के तीन उग्रवादी गिरफ्तार||लातेहार में बड़ा रेल हादसा, चार यात्रियों की मौत और कई के घायल होने की सूचना||मोदी 3.0: मोदी सरकार में मंत्रियों के बीच हुआ विभागों का बंटवारा, देखें किसे मिला कौन सा मंत्रालय||गढ़वा: प्रेमी ने गला रेतकर की प्रेमिका की हत्या, शादी का बना रही थी दबाव, बिन बयाही बनी थी मां||मैक्लुस्कीगंज में फायरिंग व आगजनी मामले में पांच गिरफ्तार, ऑनलाइन जुआ खेलाने वाले गिरोह का भंडाफोड़, सात गिरफ्तार||पलामू में शैक्षणिक संस्थानों के 100 मीटर के दायरे में 60 दिनों के लिए निषेधाज्ञा लागू, जानिये वजह||पलामू में युवक की गोली मारकर हत्या, पुलिस जांच तेज
Saturday, June 15, 2024
BIG BREAKING - बड़ी खबरपलामू प्रमंडलमनिकालातेहार

अब लातेहार के मनिका में बड़ी संख्या में चमगादड़ों की मौत, पशु चिकित्सक ने लिया सैंपल, किसी अनहोनी की आशंका से सहमे ग्रामीण

चतरा, गढ़वा और हजारीबाग में सैकड़ों चमगादड़ों की मौत के बाद अब लातेहार जिले के मनिका में भी बड़ी संख्या में चमगादड़ों की मौत हो गयी है।

लातेहार : जिले के मनिका प्रखंड क्षेत्र के रांकीकला पंचायत के कोइली गांव के देव स्थल में पिछले दो-तीन दिनों में हजारों चमगादड़ों की मौत हो गयी है। देव स्थल में पिछले कई वर्षों से बड़ी संख्या में चमगादड़ रह रहे थे।

Manika Latehar Latest News

इस संबंध में पूछे जाने पर कोइली गांव के ग्रामीण शंकर दुबे ने बताया कि मंदिर में काफी दिनों से चमगादड़ रहते आ रहे थे, लेकिन इस वर्ष बड़ी संख्या में चमगादड़ मरने लगे। शंकर दुबे ने बताया कि संभव है कि अत्यधिक गर्मी के कारण चमगादड़ों की मौत हो रही हो। देव स्थल में हजारों की संख्या में मृत चमगादड़ जमीन पर पड़े हैं और कुछ चमगादड़ मरने के बाद पेड़ की डालियों पर लटके हुए हैं। दो-तीन दिन पहले चमगादड़ों के मरने के कारण आसपास काफी दुर्गंध फैल रही है।

Manika Latehar Latest News

इस घटना की सूचना मिलने के बाद मनिका वन विभाग और मनिका पशुपालन चिकित्सक की टीम कोइली गांव पहुंची। जहां पशुपालन चिकित्सक द्वारा मृत चमगादड़ों का सैंपल लिया गया। ताकि चमगादड़ों की मौत का कारण पता लगाया जा सके। हालांकि पशु चिकित्सक लोगों को मृत चमगादड़ों को न छूने की हिदायत दे रहे हैं, जांच रिपोर्ट आने के बाद ही चमगादड़ों की मौत का कारण पता चल सकेगा। वहीं वन विभाग की टीम द्वारा मृत चमगादड़ों को एकत्र कर जला दिया गया, ताकि उसकी दुर्गंध से गांव में कोई बीमारी न फैले।

हालांकि गांव के लोग अलग-अलग बातें कर रहे हैं। लोगों का कहना है कि कोइली गांव के देव स्थल में करीब दो हजार चमगादड़ रहा करते थे, लेकिन पिछले दो-तीन दिनों में सभी चमगादड़ों की मौत हो गयी है, जिससे गांव के लोग डरे हुए नजर आ रहे हैं और गांव के लोग किसी अनहोनी की आशंका भी जता रहे हैं।

मौके पर मनिका रेंजर ठाकुर पासवान, पशु चिकित्सा नरेश प्रसाद, मथुरा उरांव एवं वन विभाग की टीम उपस्थित थे।

Manika Latehar Latest News