Breaking :
||लातेहार: पातम-डाटम जल प्रपात घूमने आये दो युवकों की नहाने के दौरान नदी में डूबने से मौत||पाकुड़ में करंट लगने से बाप-बेटे की मौत, बेटे को बचाने में गयी पिता की जान||झारखंड में IAS अधिकारियों का तबादला, केके सोन को परिवहन विभाग का अतिरिक्त प्रभार||बूढ़ा पहाड़ पहुंचे CRPF के DG कुलदीप सिंह, जवानों का बढ़ाया हौसला||वर्चस्व की लड़ाई में मारा गया JJMP कमांडर, लातेहार, रामगढ़ और रांची इलाके में था सक्रिय||शर्मनाक: पुलिस कर्मी पर जानवर से दुष्कर्म का आरोप, ग्रामीणों ने की मारपीट, आरोपी जवान निलंबित||BREAKING: पुलिस-नक्सली मुठभेड़ में घायल सीआरपीएफ जवान की इलाज के दौरान मौत||15 लाख का इनामी माओवादी कमांडर विनय यादव गिरफ्तार, पलामू, लातेहार, गढ़वा व चतरा में हुए कई नक्सली हमलों में था शामिल||पलामू: अज्ञात वाहन की चपेट में आने से बाइक सवार दो युवकों की मौत, एक गंभीर||नहीं रहे कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव, दिल्ली एम्स में निधन, हार गए जिंदगी की जंग

अब झारखंड के प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने में स्थानीय युवाओं की मदद लेगी सरकार

'

रांची : झारखंड के 7 हजार प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने के लिए सरकार स्थानीय युवाओं की मदद लेगी। इन सभी विद्यालयों में एक शिक्षक के आधार पर कक्षा 1 से 5 तक संचालित की जाती है। जिससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इससे संबंधित शिक्षा परियोजना ने सभी जिलों के डीईओ और डीएसई को पत्र लिखा है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पत्र में कहा गया है कि प्रदेश के सात हजार एकल शिक्षक विद्यालयों में विद्यालय प्रबंधन समिति एवं शिक्षित युवाओं का सहयोग लिया जाए। ताकि कक्षा का संचालन बेहतर तरीके से हो सके। इसके लिए स्कूल प्रबंधन समिति जागरूकता अभियान चलाएगी।

यह व्यवस्था पूरी तरह से गैर वित्तीय होगी और स्कूल प्रबंधन समिति के सहयोग से चलाई जाएगी। जिलों को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि उच्च वर्ग के छात्र अपने से नीचे की कक्षा के बच्चों की पढ़ाई में मदद कर सकते हैं। इसके लिए स्कूल स्तर पर छात्रों की सूची तैयार करने को कहा गया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

यह संबंधित छात्र की सहमति पर आधारित होगा। ऐसे छात्रों को स्कूल स्तर पर सम्मानित करने और वार्षिक रिपोर्ट कार्ड में इसका उल्लेख करने को कहा गया है। कक्षा एक से पांच तक के छात्रों को कक्षा छह से आठ तक के छात्र और कक्षा छह से आठ के छात्रों को कक्षा नौ और दस के छात्रों द्वारा सहयोग किया जा सकता है।