Breaking :
||लातेहार: बालूमाथ-हेरहंज-पांकी सड़क निर्माण के गुणवत्ता की खुलने लगी पोल, सड़क गड्ढे में तब्दील, बड़े हादसे को दे रही दावत||झारखंड में 23 सितंबर तक राजधानी रांची समेत राज्य के सभी हिस्सों में होगी बारिश||अब यात्रियों को मिली रांची-हावड़ा वंदे भारत ट्रेन की सौगात, 24 सितंबर को प्रधानमंत्री करेंगे उद्घाटन||लातेहार: नेतरहाट के पर्यटन स्थलों में चल रही योजनाओं को जल्द पूरा करने का डीसी ने दिया निर्देश||झारखंड: गबन मामले में सहायक अभियंता के खिलाफ मुख्यमंत्री ने दी अभियोजन की मंजूरी||JSSC करायेगा स्टेनोग्राफर परीक्षा, नोटिफिकेशन जारी||झारखंड: पत्नी की हत्या का आरोपी पुलिस हिरासत से फरार, छह पुलिसकर्मी निलंबित, SHO लाइन हाजिर||चार उपायुक्तों को मिली बढ़ते अपराध और नक्सली गतिविधियों पर नियंत्रण की शक्ति||पुलिस की मीडिया पॉलिसी को लेकर DGP ने जारी किया आदेश, अब मीडिया को ब्रीफ नहीं करेंगे पुलिस अधिकारी और थाना प्रभारी||पलामू: एमआरएमसीएच कर्मियों की लापरवाही से महिला की गयी जान
Thursday, September 21, 2023
BIG BREAKING - बड़ी खबरझारखंडरांची

अब झारखंड के प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने में स्थानीय युवाओं की मदद लेगी सरकार

रांची : झारखंड के 7 हजार प्राथमिक विद्यालयों में कक्षाएं संचालित करने के लिए सरकार स्थानीय युवाओं की मदद लेगी। इन सभी विद्यालयों में एक शिक्षक के आधार पर कक्षा 1 से 5 तक संचालित की जाती है। जिससे बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। इससे संबंधित शिक्षा परियोजना ने सभी जिलों के डीईओ और डीएसई को पत्र लिखा है।

रांची की ताज़ा ख़बरों के लिए व्हाट्सप्प ग्रुप ज्वाइन करें

पत्र में कहा गया है कि प्रदेश के सात हजार एकल शिक्षक विद्यालयों में विद्यालय प्रबंधन समिति एवं शिक्षित युवाओं का सहयोग लिया जाए। ताकि कक्षा का संचालन बेहतर तरीके से हो सके। इसके लिए स्कूल प्रबंधन समिति जागरूकता अभियान चलाएगी।

यह व्यवस्था पूरी तरह से गैर वित्तीय होगी और स्कूल प्रबंधन समिति के सहयोग से चलाई जाएगी। जिलों को भेजे गए पत्र में कहा गया है कि उच्च वर्ग के छात्र अपने से नीचे की कक्षा के बच्चों की पढ़ाई में मदद कर सकते हैं। इसके लिए स्कूल स्तर पर छात्रों की सूची तैयार करने को कहा गया है।

झारखण्ड की ताज़ा ख़बरों के लिए यहाँ क्लिक करें

यह संबंधित छात्र की सहमति पर आधारित होगा। ऐसे छात्रों को स्कूल स्तर पर सम्मानित करने और वार्षिक रिपोर्ट कार्ड में इसका उल्लेख करने को कहा गया है। कक्षा एक से पांच तक के छात्रों को कक्षा छह से आठ तक के छात्र और कक्षा छह से आठ के छात्रों को कक्षा नौ और दस के छात्रों द्वारा सहयोग किया जा सकता है।